होम -> समाज

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 24 मार्च, 2020 10:10 AM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

एक ऐसे वक़्त में जब भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मरीजों की संख्या 400 का आंकड़ा पार कर गयी है और इस बीमारी के चलते होने वाली मौतों (Coronavirus deaths in India) में भी इजाफा हुआ है सावधानी ही बचाव है. डॉक्टर और सरकार लगातार इस बात को दोहरा रहे हैं कि फिलहाल इस बीमारी की कोई दवा नहीं मौजूद है इसलिए जितना हो सके व्यक्ति घर में रहे और बाहर निकलने से उचित दूरी बनाए रहे. आज देश में ऐसे लोगों की एक बड़ी संख्या हो गयी है जो अपने अपने घर पर रहकर दफ्तर का काम कर रहे हैं और खुद को इस बीमारी की चपेट में आने से बचा रहे हैं. यूं तो मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है उसके लिए समाज जरूरी है. लेकिन क्योंकि ये बीमारी का वक़्त है इसलिए ज्यादातर लोग अपने-अपने घरों पर मौजूद हैं. आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) भी अपने घर पर हैं और खुद का बचाव कर रहे हैं. इस दौरान महिंद्रा बहुत कुछ इनोवेटिव भी कर रहे हैं और हमें उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए और अपना सेल्फ आइसोलेशन भी इनोवेटिव बना लेना चाहिए. 

Coronavirus, Anand Mahindra, Twitter, Self Distancingआनंद महिंद्रा की तरह हम भी बहुत कुछ करके अपने सेल्फ आइसोलेशन को इनोवेटिव बना सकते हैं

आनंद महिंद्रा ने एक तस्वीर अपनी ट्विटर टाइम लाइन पर शेयर की है. उस तस्वीर के जरिये आनंद महिंद्रा ने देश दुनिया के लोगों को समझाने का प्रयास किया है कि कैसे वो सामाजिक दूरी बनाए गए हैं और इस दौरान जिन चुनौतियों का सामना वो कर रहे हैं उससे वो कैसे निपट रहे हैं.

आनंद महिंद्रा द्वारा पोस्ट की गयी इस तस्वीर को देखें तो हमें इसके कई दिलचस्प पहलू नजर आ रहे हैं. उन्होंने अपने घर के अलग अलग हिस्सों को मेट्रो स्टेशन के स्टेशनों का नाम दे दिया है. नक़्शे के अनुसार आनंद महिंद्रा के घर का नाम डाउन टाउन है जबकि वो अपने डाइनिंग रूम को क्राव फोर्ड मार्केट कह रहे हैं. सोशल मीडिया पर बहुत तेजी के साथ वायरल हो रही आनंद महिंद्रा के घर की इस इमेज में उन्होंने ये बताया है कि उनके घर का कौन सा हिस्सा कहां हैं. साथ ही आनंद महिंद्रा ने अपने घर के अलग अलग हिस्सों को अलग अलग रंगों की लाइंस से जोड़ा है जो अपने आप में काफी इनोवेटिव है.

इस इमेज को अगर ध्यान से देखें तो मिलता है कि घर पर रहकर आनंद महिंद्रा ने अपनी रचनात्मकता का परिचय दिया है. अब चूंकि आनंद महिंद्रा की ही तरह हम और आप भी अपने अपने घरों में हैं तो आइये जानें कि हम और आप इस सोशल डिस्टेंसिंग को कैसे बना सकते हैं इनोवेटिव?

कुछ लिखिए

दिन भर घर पर रहना वाक़ई अपने आप में एक टेढ़ी खीर है. आदमी समाज से अलग रहेगा तो उसका बोर होना लाजमी है इसलिए इन दिनों आपका जैसा दिन बीत रहा है या जिन चुनौतियों का सामना आप सोशल डिस्टैन्सिंग के तहत घर पर कर रहे हैं उसे लिखिए. क्या पता कल पाठकों के हाथ एक अच्छी किताब ही लग जाए.

गाना गाइये, आवाज़ और अच्छी होगी

भारत में रहने वाला हर दूसरा व्यक्ति बाथरूम सिंगर है. आप भी होंगे। मौका अच्छा है उठा लीजिये फायदा. ये वो वक़्त है जब आप घर में रहकर अपने गाने की प्रैक्टिस कर सकते हैं. बुरा भी हुआ तो कोई बात नहीं. वो कहावत है न करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान क्या पता कल को आप अच्छा गाना ही गाने लग जाएं.

अपनी हॉबी को करिये पूरा

घर पर रहना या ये कहें कि सेल्फ डिस्टैन्सिंग आपको केवल कोरोना वायरस से नहीं बचा रही बल्कि इसने आपको वो मौका भी दिया है जिसमें आप अपनी हॉबी को भी पूरा कर सकते हैं. मान लीजिये कि आपको पेंटिंग या फोटोग्राफी का शौक हो तो इस शौक को आप घर पर रहकर यूट्यूब के जरिये और निखार सकते हैं.

करिये योग का अभ्यास

इस बीजी लाइफस्टाइल में स्वस्थ्य रहना अपने आप में एक बड़ी चुनौती है इसलिए सेल्फ डिस्टैन्सिंग के तहत घर पर रहना वो मौका है जब आप योग कर सकते हैं और अपने को निरोगी बना सकते हैं. क्या पता इस दौरान किया गया आपका योग ही आपको कोरोना के उस जानलेवा वायरस से बचा ले.

बनाइये अपनी मन पसंद का खाना

कहा जाता है कि चिंता कितनी ही बड़ी क्यों न हो उसे भगाने का सबसे अच्छा तरीका कुकिंग या ये कहें कि खाना बनाना है. तो ये सेल्फ डिस्टैन्सिंग आपको वो मौका भी दे रही है जो आने वाले वक़्त में आपको एक उम्दा कुक बना सकती है. तो अब देर किस बात की लग जाइये काम पर और बना दीजिये अपनी मन पसंद की डिश.

पुराने दोस्तों और रिश्तेदारों के हाल चाल लेने का वक़्त

जैसा कि हम बता चुके हैं की कोरोना वायरस से बचने का सबसे आसान इलाज घर पर रहना है. साथ ही हमने ये भी बताया कि घर पर रहना बिलकुल भी आसान नहीं है. इसलिए ये वो मौका है जब आप अपने उन तमाम दोस्तों और रिश्तेदारों का हाल चाल ले सकते हैं जिनसे आप वक़्त की कमी के चलते बरसों से बात नहीं कर पाए हैं.

सीखिए टाइम मैनेजमेंट

एक बहुत बड़ा तबका है जिसका मानना है कि घर में दिन पहाड़ जैसा गुजर रहा है. घंटे बीत ही नहीं रहे. तो बता दें कि ये वो वक़्त है जब आप टाइम मैनेजमेंट के गुण सीख सकते हैं. इसके लिए आपको ज्यादा कोई मेहनत करने की ज़रुरत नहीं है. बस आपको करना ये है कि जो टाइम है आपके पास उसे लिस्ट डाउन करें और उसी के अनुरूप काम करें. इससे आपको आज और भविष्य दोनों में फायदा होगा.

घर के सदस्यों से बात करें

हम एक ऐसे दौर में हैं जो तकनीक का युग है. इस युग में लोग फेसबुक और व्हाट्सएप पर तो खूब लोगों से बातें करते हैं मगर जब बात अपने आस पास के लोगों से बात करने की आती है तो व्यक्ति खामोश ही रहता है. तो ये एक ऐसा समय है जो आपको फ़ोन और लैपटॉप को दरकिनार करके घर के बाकी सदस्यों से बात करने का मौका दे रहा है तो इस मौके का पूरा फायदा उठाइये और अपने घर के सदस्यों से बात करिये.

प्रकृति को दीजिये समय

आप घर से बाहर नहीं जा पा रहे हैं कोई बड़ी बात नहीं है ये आपकी ही सेहत के लिए अच्छा है. ये सेल्फ डिस्टैन्सिंग वो मौका है जब आप पेड़ पौधों को समय देकर प्रकृति के करीब जा सकते हैं. जाइये प्रकृति के करीब देखिये उसे. वो वैसी बिलकुल नहीं है जैसी वो आपको अपने दफ्तर के क्यूबिकल से दिखती है.

खुद का ध्यान रखिये

अंत में बस इतना ही कि इस सेल्फ आइसोलेशन का मकसद आपको कोरोना के खतरों से बचाना है. तो ये एक ऐसा समय है जब आपको खुद का ध्यान रखना है. इसलिए घर पर रहें और सुरक्षित रहें.

ये भी पढ़ें -

जनता कर्फ्यू के बाद अगली कार्रवाई के लिए सरकार की तैयारी एकदम नाकाफी है

Open Letter: काश शाहीनबाग़ के प्रदर्शनकारियों ने जनता की परवाह की होती...

राजस्थान में कोरोना संक्रमित लोग खतरनाक खेल खेलते रहे, सरकार सोती रही

Coronavirus, Disease, Death

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय