होम -> समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 31 मार्च, 2021 11:21 AM
अनु रॉय
अनु रॉय
  @anu.roy.31
  • Total Shares

भारतीय समाज का मॉरल इतना ऊंचा है कि क्या ही कहना! मध्य प्रदेश के अलीराजपुर में एक 16 साल की लड़की के बलात्कार का मामला सामने आया है. वैसे आ रही ख़बरों कि माने तो ये बलात्कार का नहीं बल्कि प्यार का मामला है. लड़की का प्रेमी पहले से शादी-शुदा है और लड़की से मिलने आया था. गांव वालों ने दोनों को पकड़ लिया और फिर उन्हें पूरे गांव में रस्सी से बांध कर घुमाया. मजेदार बात ये है कि इस दौरान भारत माता की जय के नारे भी खूब लगे. वीडियो इंटरनेट पर जब वायरल हुआ उसके बाद लड़की ने पुलिस के पास जाकर बलात्कार का मामला दर्ज करवाया है.

अब यहां कई बातें ऐसी है जिससे मुझे घिन्न आ रही है. पहली बात तो ये कि लड़का या लड़की आपस में अगर प्यार करते हैं और सेक्स कर रहें थे तो गांव वालों को किसने हक़ दिया कि दोनों को बांध कर सरेआम ऐसे उन्हें बेइज़्ज़त करें? दूसरी बात ये कि अगर वो लड़की सच में प्यार करती थी उस लड़के से और मर्ज़ी से सेक्स कर रही थी तो फिर उसने पुलिस के सामने बलात्कार की बात क्यों कही?

Madhya Pradesh, Love, Rape, Girl, Boys, Marriage, Villages, Viral Video, Relationshipएमपी के अलीराजपुर में जो हुआ है वो पूरी मानवता को शर्मसार करता है

तीसरी बात, वो लड़का शादी-शुदा है और अपनी बीवी को धोखा दे कर किसी के साथ प्यार में था तो सज़ा देने और सवाल करने का हक़ सिर्फ़ उस लड़के की बीवी का है न कि गांव वालों का.

आख़िरी और सबसे अहम बात वो तमाम लोग जिन्होंने इस वीडियो को न केवल बनाया बल्कि इंटरनेट पर डाला और जो मॉरल ग्राउंड पर उन दोनों को ज़लील कर रहे हैं, क्या उनका दामन सच में साफ़ है? या फिर उनको ये मौक़ा नहीं मिला इसलिए वो अपना फ़्रस्ट्रेशन लड़की को स्लट-शेम करके निकाल रहे हैं.

बात सीधी है ये समाज धंस चुका है. इंसानियत मर चुकी है. ऊपर से कोई भी नौटंकी करेंगे और जहालत का आलम देखिए कि भारत माता की जय बोलेंगे. भारत माता अपने ऐसे सपूतों पर शर्मिंदा हो रही होंगी. ख़ैर.

ये भी पढ़ें -

Holi 2021: मां के सभी त्योहार किचन में ही क्यों बीत जाते हैं?

दुनिया को खूबसूरत बनाने के लिए ज़रूरत है जैसिंडा अर्डर्न जैसे प्रधानमंत्रियों की!

महिलाओं को लेकर अक्सर ही लोग इन 5 झूठी बातों पर करते हैं भरोसा...

लेखक

अनु रॉय अनु रॉय @anu.roy.31

लेखक स्वतंत्र टिप्‍पणीकार हैं, और महिला-बाल अधिकारों के लिए काम करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय