charcha me| 

होम -> समाज

 |  एक अलग नज़रिया  |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 13 जनवरी, 2022 04:43 PM
ज्योति गुप्ता
ज्योति गुप्ता
  @jyoti.gupta.01
  • Total Shares

दूधो नहाओ, पूतो फलो आशीर्वाद सदियों से चला आ रहा है क्योंकि शादी तो खुशनुमा पल पहले से ही होता है. मतलब 25 होते ही शादी और एक साल अंदर बच्चा कर (baby birth) लो. इतना अगर आपने कर लिया तो समाज की नजरों में आप एक ट्राफी वाले वर्ग में शामिल हो जाती हैं. वरना तैयार हो जाइए लोगों के सवालों को हंसकर मजाकिया जवाब देने के लिए.

गुड न्यूज कब दे रही हो?

बात शुरु करते हैं गुड न्यूज (good news) कब दे रही हो? यह एक ऐसा सवाल है जिससे शादी के बाद शायद ही कोई लड़की बच पाई हो. नई-नवेली दुल्हन के ससुराल आते ही लोग उससे पूछ लेते हैं और आगे का क्या प्लान है? खुशखबरी देने में कितना वक्त लगाओगी.

मतलब यह सवाल को पूछा जाना बुरा भी नहीं माना जाता जैसे हर किसी यह पूछने का अधिकार मिला हो. चाहें सेलिब्रिटी हों या आम लड़की अगर उनकी शादी हो गई तो सबकी निगाहें होने वाले बच्चे पर ही रहती हैं. लोग सेलिब्रेटी की प्रेंगनेंसी (pregnancy) की चटपटी खबरें छापनी शुरु कर देते हैं. उनकी तस्वीर में उनके पेट पर मार्क बनाकार बेबीबंप दिखाने की कोशिश करते हैं.

deepika padukone, ranveer singh, is deepika padukone pregnant, pregnancy बार-बार सवाल पूछ कर लोग लड़कियों का जीना हराम कर देते हैं

चाहें दीपिका पादुकोंण हों, सोनम कपूर हों या फिर प्रियंका चोपड़ा...भले ही इनका ईरादा अभी मां बनने का नहीं हो लेकिन इनके बेबी प्लानिंग (baby planning) की अफवाहें इतना हावी हो जाती हैं कि खुद इन्हें कभी-कभी सफाई देना पड़ता है कि ये अभी प्रेगनेंट नहीं है. खैर, जब इस सवाल से दीपिका पादुकोंण (deepika padukone) नहीं बच पाईं तो आम लड़कियों का तो छोड़ ही दीजिए.

असल में 'द बिग क्विज' शो पर गोविंदा और उनकी पत्नी सुनीता अपने बच्चे टीना और यशवर्धन के साथ पहुंचे थे. इसी मौके पर सुनीता ने रणवीर सिंह (ranveer singh) और उनकी पत्नी दीपिका पादुकोण से सवाल किया कि आखिर वह गुड न्यूज कब सुनाने वाले हैं?

सुनीता ने पूछा नन्हा सा रणवीर कब देखने को मिलेगा

सुनीता ने रणवीर से पूछा कि, 'आपकी शादी को तीन साल पूरे हो चुके हैं. मुझे कब नन्हा सा रणवीर, मेरा लाल देखने को मिलेगा. आज फैंस को बता ही दीजिए आखिर नन्हा रणवीर कब आ रहा है और वह कब सभी को खुशखबरी देने वाले हैं?' इस सवाल को रणवीर ने मजाक के तौर पर लिया. रणवीर ने जवाब में कहा कि मैं 'आपको अलग से बताता हूं, टिप्स ले रहा हूं, बेबी नेम देख रहा हूं.' इसके बाद सुनाती कहती हैं कि, 'मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं कोशिश जारी रखिए जल्द ही सब हो जाएगा.'

आम लोग भी तो यही करते हैं जो रणवीर सिंह ने किया. अगर किसी महिला से पूछा जाता है कि खुशखबरी कब दे रही हो तो वह भी शर्मा कर बात को मजाक में टाल देती है. पूछने वाला तो यह भी कह देता है कि हम तो तुम्हारी भलाई के लिए कह रहे हैं. भले ही नवदंपत्ति को माता-पिता बनने की जल्दी नहीं है लेकिन समाज के लोग ऐसे रिएक्ट करते हैं जैसे यही सबकुछ है.

क्या महिलाएं सिर्फ बच्चा पैदा करने की मशीन हैं?

लड़कियां मातृत्व सुख पाना चाहती हैं लेकिन जब वे मां बनने के लिए मानसिक और शारीरिक तौर पर तैयार हों. क्या महिलाएं सिर्फ बच्चा पैदा करने की मशीन हैं? जो दूसरों के हिसाब से जबरन गर्भधारण कर लें. शादी के बाद उन्हें दूसरी दुनिया में संभलने का समय तो दीजिए. मां बनने की एक शारीरिक सीमा भले तय है लेकिन उसके लिए मानसिक रूप से तैयार होना जरूरी है. क्या उनकी जिंदगी पर उनका कोई हक नहीं है. वे हमेशा दूसरों के बताए मार्ग पर चलने को मजबूर क्यों होती हैं?

एक तो महिला अपना घर छोड़कर दूसरे के घर जाती है ऊपर से मां बनना कोई आसान काम नहीं होता, एक बड़ी जिम्मेदारी होती है. बच्चे पैदा करने में पति-पत्नी दोनों का सहयोग होता है लेकिन बच्चे को पालती को मां ही है. पति-पत्नी को आर्थिक रूप से मजबूत होना भी जरूरी है, ताकि जब वह बच्चा इस जहां में आए तो उसे तकलीफ न हो. सिर्फ पैदा कर लेने भर से कोई महान नहीं हो जाता. बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी भी निभानी पड़ती है. एक्ट्रेस की अपनी लाइफ है, करियर है तो उन्हें ही तय करने दीजिए कि वे क्या चाहती हैं. आप क्यों कैमरे को जूम करके उनका पेट दिखाने पर तुले हैं?

बेबी प्लानिंग पति-पत्नी का बेहद प्राइवेट फैसला

यह पति-पत्नी का कितना प्राइवेट फैसला होता है कि वे कब बेबी प्लान कर रहे हैं, लेकिन यह सवाल उनसे सबके सामने बड़ी आसानी से पूछा जाता है. ऊपर से पति-पत्नी दोनों ही माता-पिता बनते हैं लेकिन यह सवाल सिर्फ महिला से ही किया जाता है. जैसे यह उसका अकेले का फैसला है कि उसे बच्चा कब चाहिए और कब नहीं. हो सकता है कि पति-पत्नी ने इसके बारे में कुछ सोचा...यह भी हो सकता है कि वे ट्राई कर रहे हों लेकिन कोई प्रॉब्लम हो जिस वजह से बच्चे का जन्म नहीं हो रहा हो. कई बार चाहते हुए भी बच्चे नहीं हो पाते.

एक तो दंपत्ति दुखी होते हैं फिर आप किसी के दुखती रग पर हाथ क्यों रखते हैं. क्या पता उस कपल को बच्चा करना ही नहीं हो तब...कहने का मतलब साफ है कि शादी कब करनी है, बच्चा कब होगा, यह पूछना आपका काम नहीं है. जिसे आप अपना हक समझते हैं असल में वह आपका अधिकार है ही नहीं...क्या शादी करने का मतलब किसी भी लड़की के लिए सिर्फ बच्चा पैदा करना है?

हिंदू विवाह के अंतिम फेरे में कहा गया है, मात्र 7 कदम चलकर इंसान एक दूसरे का मित्र बन जाता है. तो ठीक है दो मित्रों की फैसला लेने दीजिए कि वे कब माता-पिता बनना चाहते हैं? खासकर लड़की के ऊपर...हो सकता है कि उनकी कोई मेडिकल दिक्कत हो या फिर करियर की बात हो. बूढ़ी होकर शादी करेगी या फिर बूढ़ी होकर मां बनेगी ऐसी बाते लड़की पर दवाब बनाती हैं और आज की नारी जबाव वाले रिश्ते को झेल नहीं पाती.

क्या एक महिला का महत्वाकांक्षी होना अपराध है?

ऐसी लड़कियों महत्वकांक्षी बताया जाता है. लोग कहते हैं कि बुढ़ापे में सहारा चाहिए होता है. इसलिए बार-बार यह सवाल पूछकर लड़कियों का जीना हराम कर देते हैं. वहीं मां बनने के बाद लड़कियां कुछ सालों के लिए घर में ही कैद हो जाती हैं...उनके सपने उनका करियर सब पर ब्रेक लग जाता है. क्या एक महिला का महत्वाकांक्षी होना अपराध है?

क्या बच्चा पैदा करना ही महिलाओं की स्वभाविक ड्यूटी है? फिर तो लोगों को कर्तव्य के तले दबी उस लड़की की सिसकियां सुनाई ही नहीं देतीं...किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि समाज ने महिलाओं के लिए एक सीमा तय कर ली है. उस सीमा के बाहर सब गलत है. ऐसे में दीपिका पादुकोण का यह कहना सही है कि 'नहीं हूं प्रेगनेंट और अभी मेरा कोई इरादा भी नहीं है. बहुत सारे प्रोजेक्ट है जिनपर काम करना बाकी है...अब जिन्हें बेबी बंप देखना है वो कुढ़ते हैं तो कुढ़ते रहें...

#दीपिका पादुकोण, #रणवीर सिंह, #बच्चा, Ranveer Singh Deepika Padukone On Baby, Deepika Padukone, Ranveer Singh

लेखक

ज्योति गुप्ता ज्योति गुप्ता @jyoti.gupta.01

लेखक इंडिया टुडे डि़जिटल में पत्रकार हैं. जिन्हें महिला और सामाजिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय