होम -> समाज

 |  एक अलग नज़रिया  |  7-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 12 जनवरी, 2021 06:34 PM
ज्योति गुप्ता
ज्योति गुप्ता
  @jyoti.gupta.01
  • Total Shares

विराट की बात हो तो अनुष्का का नाम अपने आप ही आ जाता है और यहीं से इन दोनों के बीच के कनेक्शन को समझा जा सकता है. प्यार, शादी और अब माता-पिता. परफेक्ट कपल के रूप में अनुष्का-विराट हम सभी के दिलों पर राज करते हैं. लड़कियां जब भी इस कपल से जुड़ी खबरें पढ़ती हैं तो उनके मन में एक बात जरूर आती है कि, पति हो तो 'विराट' दिलवाला. विराट जैसा से मतलब हैंडसम होने से तो बिल्कुल नहीं हैं. कहीं आप अब यह न सोचें कि पैसे वाले पति से हो. बात पैसे की भी नहीं हैं. आजकल की लड़कियां सेल्फ डिपेंडेंट हैं और अपने लिए पैसा भी कमा सकती हैं. मां-बाप भी लड़कियों को पहले पढ़ालिखाकर आत्मनिर्भर बना रहे हैं फिर शादी की सोच रहे हैं. तो आइए जानते क्यों हैं कि विराट होना आसान नहीं हैं या फिर क्यों लड़कियों को अपने पति में विराट कोहली की झलक चाहिए. 

ऐसे तो लड़कियों को अपने पति में हजारों छोटी-छोटी चीजें चाहिए होती हैं, जो किसी रिश्ते को मजबूत बनाती हैं, लेकिन हम यहां पांच बातों से समझाने की कोशिश कर रहे हैं. जिस बारे में हमें लड़कियों से बात करने पर ही जानकारी मिली है. जो पोजीशन, शोहरत, पावर और पैसे के बारे में तो बिल्कुल नहीं है. 

virat-650_011221050819.jpgविराट कोहली अपनी पत्नी अनुष्का के साथ

सबसे पहले आता है सम्मान 

लड़कियों को विराट कोहली की सबसे अच्छी बात यह लगती है कि वह अपनी पत्नी का बहुत सम्मान करते हैं. चाहें वह अकेले हों या फिर दुनिया के सामने. यानी कि उनका नेचर. शादी में एक लड़की बिना प्यार के तो जी सकती है, लेकिन बिना सम्मान के नहीं. आपको फिल्म थप्पड़ तो याद ही होगी. लड़कियों के इस ख़्वाहिश को आप उस फिल्म से रिलेट कर सकते हैं. आपको साल 2015 का वर्ल्ड कप तो याद ही होगा. जब टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंच गई थी, लेकिन हार गई. यह मैच ऑस्ट्रेलिया से था. जिसे देखने के लिए अनुष्का शर्मा भी सिडनी पहुंची थीं. मैच में विराट के खराब बल्लेबाज़ी का गुस्सा लोगों ने अनुष्का शर्मा पर निकला और उन्हें जमकर ट्रोल किया था. वहीं इस बार भी ऑस्ट्रेलिया मैच के बाद एक बार फिर ट्विटर यूजर्स ने अनुष्का शर्मा और उनके होने वाले बच्चे पर हार का इल्जाम लगाया. जिसके बाद विराट ने ट्रोलर्स को मुहतोड़ जवाब दिया. 

एक और किस्सा है जब विराट ने 2015 में पर्थ में प्रैक्टिस सेशन के दौरान अनुष्का पर लिखे गए एक आर्टिकल को लेकर एक पत्रकार पर न सिर्फ चिल्लाए बल्कि उसे काफी अपशब्द भी कहे. बाद में पता चला कि उस पत्रकार ने वह आर्टिकल लिखा भी नहीं था. जिसके बाद  विराट ने अपनी गलती के लिए मांफी भी मांगी थी. इससे पता चलता है कि वह अनुष्का के सम्मान के साथ कोई रिस्क नहीं ले सकते और खुद भी उनका सम्मान करते हैं. लड़कियों को ऐसे पति बहुत अच्छे लगते हैं जो महिलाओं का सम्मान करते हैं.

दूसरे नंबर पर आता है 'केयर'

लड़कियों का मानना है कि विराट अनुष्का की बहुत केयर करते हैं. उन्हें जब भी जरूरत हो उनके पास रहते हैं. जबकि किसी क्रिकेट कैप्टन के लिए ऐसा करना आसान नहीं है. वो इसके के लिए पहले से तैयारी करके चलते हैं. अगर वो अनुष्का के पास में न हों तो भी उनकी परवाह करना नहीं छोड़ते. वरना ज्यादातर पतिदेव  बहाना बनाकर बात को टाल देते हैं और बस बातों से ही परवाह करने का ढोंग करते हैं जैसे- खाना खा लेना, डॉक्टर के पास चली जाना, ये कर लेना वो कर लेना… जो केयर कम और ऑर्डर ज्यादा लगता है.

अनुष्का की प्रेग्नेंसी के समय पति विराट कभी योग करवाने में मदद करते दिखे तो कभी डॉक्टर के पास जाते दिखे. इस नाजुक समय में विराट अनुष्का के साथ रहना चाहते थे. इसलिए पैटरनिटी लीव लेकर ऑस्ट्रेलिया दौरे से वापस आ गए थे. विराट जानते थे कि प्रेग्नेंसी के समय एक पत्नी को पति के सपोर्ट की कितनी जरूरत होती है. 

करियर में सपोर्ट और आजादी

एक लड़की के लिए उसका करियर काफी मायने रखता है. हम ऐसी कई फेमस एक्ट्रेस को जानते हैं जिनका शादी के बाद फिल्मों में काम करना बंद कर दिया या उनके करियर पर लगाम लग गया. आम लड़कियों के साथ भी ऐसा है. शादी हुई नहीं कि घर संभालने के पूरी ज़िम्मेदारी उनके उपर आ जाती है. लड़कियों का कहना है कि शादी के बाद काम करना है या नहीं यह उनका फैसला होना चाहिए. विराट हमेशा अनुष्का शर्मा के काम की सराहना करते हैं उन्हें सपोर्ट करते हैं.

कहते हैं कि जब पार्टनर अच्छा मिल जाता है तो आपकी पर्सनैलिटी और काम दोनों में निखार आता है. वहीं अपने सक्सेस के पीछे भी वह पत्नी को क्रेडि़ट देने का मौका नहीं छोड़ते. सबके सामने जब भी मौका मिले वह अनुष्का की तारीफ जरूर करते हैं. इस साल अनुष्का प्रोडक्शन हाउस से बनी 'पाताललोक' वेब सीरिज़ को काफी सराहना मिली है. इसके अलावा 'बुलबुल' मूवी भी नेटफ्लिक्स पर रिलीज हुई है. इससे समझ आता है कि विराट और अनुष्का के प्यार से ज्यादा प्यारा इनकी बॉडिंग है.   

एक्सप्रेसिव नेचर

लड़कियां ऐसा पति चाहती हैं जो अपनी बात कहने में शर्म न करता हो. अब प्यार है तो है इसे लोगों के सामने जाहिर करने में शर्म कैसी. कहें तो विराट ने एक तरह से उन लड़कों को चैलेंज दे दिया है कि जो शादी करना चाहते हैं. भईया प्यार करते हो तो दिखाओ, जाहिर करो. अब प्यार किया तो डरना क्या. लड़कियों को विराट का ये एक्सप्रेसिव नेचर काफी पसंद आता है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2014 टेस्ट सीरिज़ के दौरान फील्ड में अनुष्का शर्मा भी मौजूद थीं. जहां विराट ने अनुष्का को फ्लाइंग किस दी थी. यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था.

वहीं अनुष्‍का के लिए विराट कोहली बीसीसीआई का नियम तोड़ने में भी पीछे नहीं रहे हैं. 2015 में दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ हुए एक मैच के दौरान बारिश आने पर कोहली अनुष्का शर्मा से बात करते दिखे गए थे. एंटी करप्शन गाइडलाइंस के मुताबिक, एक खिलाड़ी को मैच के दौरान अपने साथी खिलाड़ियों या टीम स्टाफ के अलावा किसी से बात करने की इजाजत नहीं होती. हालांकि, इसके लिए कोहली को चेतावनी भी मिली थी. लड़कियां ये नहीं कहती कि के पति भी नियम तोड़ें लेकिन अपने दिल की बात तो कह ही सकते हैं. यहां तो शादी के बाद नाम से बुलाना भी छूट जाता है और फलाने के पापा तक ही रिश्ता सिमट जाता है. ‘आइ लव यू’ कब बोला था याद भी नहीं रहता.

दोस्ताना सा शेयरिंग नेचर

लड़कियों को यह बात हमेशा सताती है कि उनके पति उनसे अपनी बातें, परेशानियां, खुशी या गम शेयर नहीं करते हैं. जिसका असर उनके रिश्ते पर भी पड़ता है. लड़कियां अपने पति में एक बेहतर दोस्त को खोजती रहती हैं. जिनसे कुछ बोलने से पहले उनको सोचना न पड़े. चाहें बात उनके पास्ट से क्यों न जुड़ी हों. लड़कियों के मन में यह डर बना रहता है कि कोई बात सुनकर उनके पति का रिएक्शन क्या होगा. विराट अपनी हर बात अनुष्का से शेयर करते हैं और अपना व्यवहार फ्रेंडली रखते हैं ताकि अनुष्का भी कंफर्ट रहें.

एक इंटरव्यू में विराट ने उस एक पल के बारे में बताया था जब वो अनुष्का के सामने रो गए थे. जब टीम इंडिया का टेस्ट कप्तान बनने की खबर मिली थी तो अनुष्का उनके साथ थीं. वह खुद को रोक नहीं पाए और अनुष्का के सामने फूट-फूटकर रोए थे. वहीं इनकी दोस्ती के मस्ती-मज़ाक के फनी किस्से भी वायरल होते रहते हैं. जो एक रिश्ते को कभी बोरिंग नहीं होने देते. विराट जानते हैं कि प्रोटेक्टिव होना तो ठीक होना है लेकिन पजेसिव होना नहीं. विश्वास करना सही है पर शक करना नहीं. रिश्ते को ईमानदारी से निभाना सही है लेकिन एक-दूसरे को पर्सनल स्पेस देना भी जरूरी है. ये सभी बातें विराट के अंदर हैं जो इस जमाने की लड़कियों की ख़्वाहिश है.

लेखक

ज्योति गुप्ता ज्योति गुप्ता @jyoti.gupta.01

लेखक इंडिया टुडे डि़जिटल में पत्रकार हैं. जिन्हें महिला और सामाजिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय