charcha me| 

होम -> समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 02 अगस्त, 2022 02:36 PM
अनु रॉय
अनु रॉय
  @anu.roy.31
  • Total Shares

रत्ना पाठक शाह (नसीरूद्दीन शाह की पत्नी) कहती हैं भारत सऊदी में बदल रहा है. यहां औरतों को करवा चौथ करना पड़ता है. सबसे पहले कोई उनको समझाओ कि करवा चौथ या तीज किसी भी स्त्री को ज़बरदस्ती नहीं करवाया जाता है. हिंदू स्त्रियां खुद अपनी मर्ज़ी की मालिक हैं, करना है तो करेंगी नहीं करना है तो नहीं करेंगी. दूसरी बात करवा चौथ या तीज कभी भी स्त्रियों के दमन का सूचक नहीं बल्कि श्रृंगार, स्पेशल फ़ील करने, विमन हुड को सिलेब्रेट करने का त्योहार था. इस दिन स्त्रियां न तो कोई घर का काम करती हैं न उनसे कोई कहता है कि तुम हमारी ख़िदमत करो.

Ratna Pathak Shah, Nasiruddin Shah, Saudi Arab, Festival, Fast, Karva Chauth, Teej, Hindu, Muslimहिंदू त्योहारों साध कर एक्टर रत्ना पाठक शाह ने एक नयी डिबेट को शुरू कर दिया है

करवा चौथ से कितने दिन पहले शॉपिंग शुरू हो जाती है. एक दिन पहले ब्यूटी पार्लर में रत्ना जी को जा कर देखना चाहिए कि कैसे सज रही होती हैं स्त्रियां. घर लौटती हैं तो हाथों में मेहंदी सजी होती है, आंखों में मुहब्बत वाला रंग. फ़ास्ट रखने से पहले सासु मां की तरफ़ से जो शगुन की थाली मिलती है जिसमें न जाने कितने आशीर्वाद के साथ गिफ़्ट्स रखे होते हैं. जो नहीं करते वो नहीं समझ सकते कि क्या होता है करवाचौथ या हरितालिका तीज़.

हां, आप उस करवाचौथ की किताब या हरितालिका तीज़ की किताब का ज़िक्र कर सकते हैं जिसमें लिखा है कि उपवास न करने पर तरह तरह के पाप लगते हैं. तो जान लीजिए वो कोई ग्रंथ नहीं है और न ही उसे कालिदास या वाल्मीकि जैसे किसी महान हस्ती ने लिखा है. उसमें लिखी बातों को कोई भी पढ़ी-लिखी लड़की नहीं मानती या किसी डर में आ कर कोई त्योहार नहीं करती.

वो किसी ने यूं ही लिख दिया होगा. अब हर अच्छी चीज़ में वक़्त के साथ कुरीतियां तो जुड़ी न तो वैसे ही हरितालिका की कथा में भी जोड़ दी गयी, उसका उस त्योहार से कोई वास्ता नहीं है. मेरे घर में न तो वो कथा पढ़ी जाती और न उसके अनुरूप कुछ होता है. भाभियां मेरी उपवास नहीं रखती हैं और उस दिन सिर्फ़ सजती संवरती हैं. ठीक न.

अब ज़रा कोई रत्ना पाठक को पूछे कि बुर्क़े में क्या क्रांति हो रही है? बहूपत्नी विवाह वाले समुदाय में औरतें कितनी आज़ाद हैं? पिरीयड आते ही उस क़ौम की लड़कियों की शादी करवा दी जाती है वो सऊदी अरब होता नहीं दिखता क्या? हिंदुओं के त्योहार से ही ख़ाली भारत सउदी हो जाएगा? या अल्लाह ये क्या सितम है, कोई उनको समझाओ या फिर हमारी अक़्ल पर ताले लगवा दो!

ये भी पढ़ें -

राष्ट्रपत्नी विवाद: स्त्रियों के काम और आधिपत्य को जेंडर के खांचे में कब तक बांधा जाएगा?

फेसबुकिया फेमिनिस्टों की सतही क्रांतियां किन औरतों का भला करेंगी?

'डिजिटल बाबा' के मन की बात: चरित्र प्रमाण-पत्र के लिए क्या एक साधु को शादी कर लेनी चाहिए?

लेखक

अनु रॉय अनु रॉय @anu.roy.31

लेखक स्वतंत्र टिप्‍पणीकार हैं, और महिला-बाल अधिकारों के लिए काम करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय