होम -> सोशल मीडिया

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 10 अप्रिल, 2019 04:31 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

ईवीएम हैकिंग से जुड़ी बहस अभी नतीजे पर पहुंची भी नहीं थी कि नकली उंगलियों ने सोशल मीडिया पर कब्‍जा कर लिया. एक तस्वीर में मेज पर पड़ी कुछ नकली उंगलिया दिखाई दे रही हैं जिसमें दावा किया जा रहा है कि ये उंगलियां चुनावों के लिए बनाई जा रही हैं जिससे लोग नकली फर्जी वोट डाल सकेंगे.

जिन्हें याद नहीं उन्हें ये बता दें कि ये तस्वीर पिछले साल भी चुनावों के दौरान खूब वायरल हुई थी. और अब जब लोकसभा चुनावों में समय बचा ही नहीं है तो ये तस्वीर लोगों में कौतुहल फैलाने के लिए एक बार फिर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

fake fingersये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है

तस्वीर सच्ची है लेकिन इस तस्वीर के साथ लिखी गई बात बिल्कुल गलत है. ये नकली उंगलियां चुनाव में फर्जी वोट डालने के लिए नहीं बनाई गई हैं.

जानिए क्या सच है इन फर्जी उंगलियों की तस्वीर का

सच ये है कि इस तरह बनाई गई नकली उंगलियां भारत से संबंधिंत नहीं हैं. ये तस्वीरें जापान की हैं. 2013 में जापान से एक रिपोर्ट पब्लिश हुई थी जिसमें बताया गया थी कि जापानी प्रोस्थेटिक्स निर्माता यानी कृत्रिम अंग बनाने वाले शिंतारो हयाशी किस तरह जापान के पूर्व गैंगस्टर्स के लिए नकली उंगलियां बनाकर उन्हें बेहतर जीवन जीने में मदद कर रहे हैं. इन गैंगस्टर्स को यकूज़ा कहा जाता है.

fake fingersये उंगलियां उन लोगों के लिए बनाई जाती हैं जिनके उंगलियां नहीं होतीं

गंभीर अपराधों का प्रायश्चित करने के लिए यकूजा के सदस्यों को अपनी खुद की उंगलियां काटनी पड़ती थीं. सबसे पहले बाएं हाथ की सबसे छोटी उंगली को काटा जाता था, और अपराध दोहराए जाने पर ये प्रकिया दोहराई जाती थी. जो लोग इस माफिया से बाहर निकल गए उन्हें कटी उंगलियों की वजह से कहीं भी काम मिलने में बहुत मुश्किलें आती थीं. और उन्हीं लोगों की मदद के लिए कृत्रिम अंग बनाने वालों ने ऐसा उंगलियां बनाई थीं.

ये पूरी कहानी यहां देखी जा सकती है-

तो इस वीडियो ने ये साफ कर दिया है कि जो तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं वो यहीं से ली गई हैं. और उसका लोकसभा चुनावों से कोई लेना देना नहीं है. ये सिर्फ भ्रामक जानकारी है जिसे मौका देखकर फैलाया जा रहा है. चुनाव के समय इस तरह की तस्वीरों का सोशल मीडिया पर दिखाई देना स्वाभाविक है. असल में लोगों को अब पता चल गया है कि किस तरह का कंटेट वायरल होता है. यहां भी लोग हैरान हैं और गुस्से में भी हैं इसलिए ये तस्वीर वायरल हो रही है. लेकिन अब सच सामने है.

fake fingersचुनाव के समय ऐसी तस्वीरों को शेयर करके लोगों को भ्रमित किया जा रहा है

लेकिन एक सच ये भी है जो हैरान करने वाला है

हालांकि आप ये मत सोचिएगा कि इस दिशा में किसी ने सोचा ही नहीं है. भारत में फेक वोट डालने के लिए इस तरह की fake fingers का इस्तेमाल किया जाता है. 2017 में इंडिया टुडे ने एक स्टिंग ऑपरेशन के तहत इस बात का खुलासा किया था कि इन नकली उंगलियों का इस्तेमाल वोटिंग के लिए किया जाता है. और चुनावी मौसम में कृत्रिम अंग बनाने वालों की चांदी हो जाती है. वीडियो में देखिए किस तरह पॉलिटिकल पार्टियां सैकड़ों नकली उंगलियां ऑर्डर पर बनवाती हैं. जो निहायाती खुफिया तरह से बनाई और सप्लाई की जाती हैं.

चुनावों में कैसे उपयोग होती हैं नकली उंगलियां, बता रहा है ये स्टिंग ऑपरेशन

तो देखा आपने माना कि ये तस्वीर जो वायरल की जा रही है वो फेक है लेकिन फेक उंगलियों का सच फेक नहीं है. चुनावों में ऐसा होता है हो सकता है इस बार भी हो. फर्जी वोट डालने के लिए अपनाया गया ये तरीका चुनाव आयोग की आंख में धूल झोंकने वाला तो है. साथ ही ये भी दिखाता है कि किस तरह राजनीतिक पार्टियां जीत हासिल करने के लिए इस तरह के हथकंडे अपनाती हैं. जहां एक एक वोट की कीमती है, जहां कुछ सौ वोटों से हार-जीत का फैसला हो जाता है वहां अगर कुछ सौ वोट इस तरीके से डाल दिए जाएं तो जनता को कितना भारी पड़ेगा.

ये भी पढ़ें-

मिलिए उस नर्स से जिसने अपने मजे के लिए 12 साल में 5000 बच्चे बदल दिए

14 साल से 'कोमा' में पड़ी महिला का मां बन जाना 'हैवानियत' का नमूना ही है!

डॉक्टरों का गुस्सा या मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ ??

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय