charcha me| 

होम -> सोशल मीडिया

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 23 जून, 2022 10:25 PM
देवेश त्रिपाठी
देवेश त्रिपाठी
  @devesh.r.tripathi
  • Total Shares

महाराष्ट्र में जारी सियासी बवाल लगातार सुर्खियां बटोर रहा है. तो, ऐसे हर सम-सामयिक मामले पर जबरदस्ती अपना एक्सपर्ट कमेंट देने वाली स्वरा भास्कर कैसे चुप रह सकती थीं? वैसे, इस एक्सपर्ट कमेंट में स्वरा भास्कर का कोई दोष नहीं है. एक्टिंग में मिल रहे कम मौकों पर कोई भी एक्टिविज्म की ओर बढ़ सकता है. तो, अपने एक्टिविज्म को सर्वोपरि रखते हुए स्वरा भास्कर ने महाराष्ट्र सियासी संकट में भी अपनी नाक घुसा दी. स्वरा भास्कर ने एक ट्वीट में लिखा कि 'क्या अखंड बकवास है. हम वोट देते ही क्यों हैं. चुनाव की जगह 'बम्पर सेल' लगा दो हर 5 साल में.' खैर, स्वरा भास्कर अब अपने इस एक्सपर्ट कमेंट को लेकर हमेशा की तरह सोशल मीडिया पर लोगों की आलोचनाएं झेल रही हैं. लेकिन, इनमें से एक सोशल मीडिया यूजर ने स्वरा भास्कर के कमेंट का फैक्टचेक कर दिया. 

अपने चुटीले अंदाज को लेकर मशहूर इस सोशल मीडिया यूजर ने स्वरा भास्कर के ट्वीट के जवाब में लिखा कि देख पहली बात तो तू दिल्ली की वोटर है. महाराष्ट्र की वोटर मत बन. दूसरी बात महाराष्ट्र ने भाजपा-शिवसेना को वोट दिया था. और, देवेंद्र फडणवीस को सीएम बनना था. तो, जब तू ढाई साल से मुंह में उंगली लगा के चुप बैठी थी. तो, अब भी बैठी रह. वैसे, इस सोशल मीडिया यूजर के कमेंट को तथ्यों के हिसाब से देखा जाए, तो उसकी बात सही भी नजर आती है. स्वरा भास्कर कहां की वोटर हैं से लेकर महाराष्ट्र में बहुमत तक को लेकर कही बात सौ फीसदी सही ही बैठती है.

वहीं, एक सोशल मीडिया यूजर ने स्वरा भास्कर के इस एक्सपर्ट कमेंट पर लिखा है कि प्रिय चुनाव आयोग...क्या एक ही समय में दो राज्यों के वोटर आईडी रखना वैध है? इस एक्सपर्ट कमेंट पर एक सोशल मीडिया यूजर ने स्वरा भास्कर का 2014 में किया गया एक पुराना ट्वीट दिखाया. जिसमें स्वरा भास्कर ने शिवसेना के बारे में एक खबर पोस्ट की थी. जो किसी मुस्लिम शख्स को रमजान में जबरदस्ती खाना खिलाने को लेकर थी. स्वरा ने इस पोस्ट में लिखा था कि शर्म करो. दक्षिणपंथी गुंडों के अच्छे दिन आ गए हैं.

Swara Bhasker Expert comment tweet on Maharashtra Politics Crisisस्वरा भास्कर अपने एक्सपर्ट कमेंट को लेकर हमेशा की तरह सोशल मीडिया पर लोगों की आलोचनाएं झेल रही हैं.

एक अन्य सोशल मीडिया यूजर ने लिखा है कि 2019 में भाजपा-शिवसेना का चुनाव से पहले ही गठबंधन हो गया था. उनको 288 में से 169 सीटें मिली थीं. उनके पास स्पष्ट बहुमत था. तो, जनादेश भाजपा-शिवसेना के गठबंधन के लिए ही था. नाकि, शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के गठबंधन के लिए. जिसमें से अन्य दो ने केवल 98 सीटें ही जीती थीं. तो, जो कुछ भी महाराष्ट्र में हो रहा है, वह निश्चित तौर से आपके वोट के खिलाफ है. लेकिन, जनादेश के खिलाफ नहीं है. दरअसल, इस सोशल मीडिया यूजर ने स्वरा भास्कर के एक्टिविज्म को ध्यान में रखते हुए ही ये कमेंट किया था. क्योंकि, उसे पता था कि अगर वह महाराष्ट्र की वोटर होंगी. तो, भी उन्होंने भाजपा-शिवसेना गठबंधन को वोट नहीं दिया होगा.

वहीं, फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने भी इस ट्वीट को लेकर स्वरा भास्कर को लताड़ लगाई है. अशोक पंडित ने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'सिर्फ पीआर एजेंसी के भरोसे मत रहो, खुद भी थोड़ा पढ़ लो मोहतरमा. वोट तो लोगों ने किसी और पार्टी को जीतने के लिए दिया था. लेकिन, लोगों को धोखा देकर अपने दुश्मनों के साथ सरकार बना ली. वैसे एक ट्वीट के लिए कितने में डील हुई है?' अशोक पंडित ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि 'बॉलीवुड की पीआर एजेंसी एक बार फिर से महाविकास आघाड़ी सरकार को बचाने के लिए एक्टिव हो गई है. ये लोग वही हैं, जो शिवसैनिकों को गुंडे कहते थे. मैं पक्के तौर पर कह सकता है कि एक ट्वीट के लिए अच्छे पैसे दिए गए होंगे.'

लेखक

देवेश त्रिपाठी देवेश त्रिपाठी @devesh.r.tripathi

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं. राजनीतिक और समसामयिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय