होम -> सोशल मीडिया

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 15 मार्च, 2017 01:32 PM
सुशांत झा
सुशांत झा
  @jha.sushant
  • Total Shares

मेरी एक सहकर्मी मातंगी का विवाह तय हुआ तो उसने स्वीकार किया कि इस विवाह में फेसबुक का बड़ा रोल है. मेरे ऑफिस में कई अन्य विवाहों में भी फेसबुक का खासा रोल था. कहिए कि हम डिजिटल विवाह के दौर में प्रवेश कर चुके हैं. खैर, ये कोई बड़ी खबर नहीं है-हालांकि शोध इस बात पर जरूर होना चाहिए कि फेसबुक या अन्य माध्यमों ने शादी.कॉम जैसी वेबसाइट्स के बिजनेस को कितना प्रभावित किया है.

इधर मेरे ही ऑफिस की एक लड़की ने दावा किया कि वह उसी से शादी करेगी जिसका ट्विटर अकाउंट वेरीफाइड हो और जिसके इंस्टाग्राम पर कम से कम 5000 फॉलोअर हों. बात हास्य की है लेकिन इस तरफ इशारा जरूर करती है कि लोगबाग सोच कैसे रहे हैं. हाल तक कई बौद्धिक किस्म की लड़कियां कहती थीं कि वो उस लड़के से शादी नहीं करेंगी जो सलमान खान की फिल्में देखता हो! 'आजतक' की सोशल मीडिया टीम में काम करनेवाली ओजस्विनी कहती हैं कि अपनी शादी के समय वे जरूर इस बात पर ध्यान देंगी कि लड़के को शाहरुख खान पसंद हो और वो उसका ट्विटर पेज फॉलो करता हो!

digital-marriage-650_030817042824.jpg

मेरे एक परिचित ने अपने विवाह के लिए लड़की ढ़ूंढ़ते समय गूगल मैप का भी सहारा लिया. उनका मानना था कि वे उसी कामकाजी लड़की से शादी करेंगे जो नोएडा के खास हिस्से में रहती हो. क्योंकि वे साल भर के ट्रांसपोर्ट का इंतजाम और बजट देख रहे थे.

इंडिया टुडे की सोशल मीडिया में काम करनेवाली देवयानी श्रीवास्तव की मानें तो शादी करने के बाद इंस्टाग्राम के फॉलोअर बढ़ जाते हैं! वजह? चमकते फोटो और उसकी विविधता फॉलोअर्स की संख्या बढ़ा देते हैं. अभी तक सुनते थे कि विवाहित लोगों को किराये का मकान ही सहूलियत से मिल जाता है, अब पता चला कि सोशल मीडिया पर फॉलोअर्स भी बढ़ जाते हैं.

सन् नब्बे के दशक में ढेर सारे जवान बेरोजगार लड़के पर्स में हनुमान चालीसा के साथ-साथ माधुरी का फोटो रखते थे लकिन जिसे जेनरेशन वाई या कुछ लोग मिलेनियल्स कहते हैं, वो बहुत प्रैक्टिकल है. नाम नहीं छापने की शर्त पर लड़की ने कहा जब किसी लड़का का रिश्ता उसके लिए आता था और उसे शादी नहीं करनी होती थी तो वो उससे पूछ लेती थी कि ट्विटर और इंस्टा पर उसके कितने फॉलोअर हैं! जाहिर है ऐसे औचक सवाल से कई लड़के बिदक जाते थे और दुबारा नहीं आते थे!

एक अन्य मित्र जब पिता बनने वाले थे तो लोगों ने भावी बच्चे के लिए एक से एक नाम सामने रखे. दिलचस्प ये था कि अगर बेटा हो तो नाम 'हैशटैग' रखा जाए और बेटी हो तो 'मेंशन'! यानी बच्चा पैदा होते ही दुनिया में ट्रेंड करने लगे. कुछ लोगों ने 'इनसाइट', 'प्रमोशन' और 'लाइव' जैसे नाम भी सुझाए!

वो जमाना तेजी से बीत रहा है जब सिर्फ बड़े फिल्मी सितारे ही अपने बच्चे की पहली तस्वीर सोशल मीडिया पर जारी करते थे.

यानी सोशल मीडिया पर सिर्फ चुनाव लड़ना, मकान, नौकरी, रेस्त्रां या फर्नीचर शॉप खोजने का ही काम नहीं हो रहा, यहां तलाक भी होता है और उससे ज्यादा प्यार पनप रहा है.

महाभारत के बारे में पता नहीं किस विद्वान ने लिखा कि 'यन्न भारते..तन्न भारते', यानी जो महाभारत में नहीं वर्णित है वो पूरे भारतवर्ष में नहीं है. सोशल मीडिया के बारे में कह सकते हैं जो यन्न सोशल मीडिया... तन्न सोशल मीडिया! यानी जो फेसबुक पर नहीं है, वो ससुरा कहीं नहीं है.  

ये भी पढ़ें-

फेसबुक पर महिलाओं और पुरुषों के दर्द

जानिए वॉट्सएप से होने वाले सिरदर्द को कम करने के 7 तरीके

साइंस ने बता दिया कि शादी का लड्डू खाने से फायदा है या नुकसान !

Marraige, Pati Patni, Social Media

लेखक

सुशांत झा सुशांत झा @jha.sushant

लेखक टीवी टुडे नेटवर्क में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय