charcha me| 

सोशल मीडिया

बड़ा आर्टिकल  |   15-05-2018
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के तहत आज एक अहम दिन है. राज्य भर में मतों की गिनती जारी है. 12 मई को राज्य की 224 सदस्यीय विधानसभा की 222 सीटों पर मतदान हुआ था. और दो सीटों पर चुनाव टाल दिया गया था. आरआर नगर सीट पर चुनावी गड़बड़ी की शिकायत के चलते मतदान स्थगित कर दिया गया था तो वहीं जयनगर सीट पर बीजेपी उम्मीदवार की मृत्यु के चलते मतदान को आगे बढ़ा दिया गया था. इन दोनों सीटों के लिए 28 मई को चुनाव कराए जाएंगे और 31 मई को यहां मतगणना होगी.

कर्नाटक चुनाव, कर्नाटक, कांग्रेस, भाजपा, जेडीएस जल्द ही इस बात का फैसला हो जाएगा कि कर्नाटक का किंग कौन बनता है

ताजा रुझानों को देखें तो मिल रहा है कि राज्य में मोदी लहर है और बीजेपी कई अहम सीटों पर आगे हैं. राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया बादामी सीट से आगे चल रहे हैं पर चामुंडेश्वरी सीट पर वो फिलहाल जेडीएस उम्मीदवार से पिछड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं. वहीं बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी एस येदियुरप्पा अपनी शिकारीपुर सीट से बढ़त बनाए हुए हैं. इसके अलावा जेडीएस के अध्यक्ष एच डी कुमारस्वामी भी शुरुआती रूझानों में अपनी दोनों सीटों, रामनगर और चन्नपटना में अपने प्रतिद्वंदियों को कड़ी टक्कर देते दिखाई दे रहे हैं.

राज्य की जनता के अलावा देश भर को इन्तेजार है कि कर्नाटक का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा. एक तरफ जहां टीवी चैनल पर बड़े बड़े पैनल बैठे हैं तो वहीं सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर पर भी चुनाव परिणामों को लेकर सरगर्मी तेज है. आइये नजर डालते हैं ट्विटर के उन ट्वीट्स पर जिनको देखकर लग रहा है कि हो न हो मगर कर्नाटक में सरकार भाजपा की ही बन रही है.

इस मतगणना को भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य प्रीती गांधी ने मार्केट से जोड़ा है और कहा है कि इस चुनाव और इसका असर शेयर बाजार में देखने को मिलेगा.

वहीं इस पूरी चुनावी गहमा गहमी में मंजुल का ट्वीट हंसाने वाला है और कहीं न कहीं इस बात की तरफ भी इशारा करता है कि बस कुछ देर और उसके बाद कर्नाटक में भाजपा आ रही है.

ट्विटर पर सोनम महाजन का ट्वीट ये बताने के लिए काफी है कि कर्नाटक में लोगों ने उसे ही पसंद किया जिसने जहां विकास और शिक्षा की बात कही तो वहीं राष्ट्रवाद को भी जानता के सामने उतनी ही प्रमुखता से रखा.

पत्रकार सबा नकवी ने अपने ट्वीट में भाजपा को मुबारकबाद दी है और कहा है कि ये कांग्रेस के लिए एक बड़ा सबक रहेगा जहां उन्होंने और कुछ नहीं बस संसाधनों का दुरूपयोग किया.

भाजपा नेता सुब्रमण्यन  स्वामी ने अभी अपने ट्वीट में बात साफ कर दी है स्वामी लिखते हैं कि जब कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने लिंगायत को अलग करने की बात की थी मैंने पहले ही कह दिया था कांग्रेस आत्महत्या कर रही है.

ट्विटर पर पत्रकार नरेंद्र नाथ मिश्रा ने भी कर्नाटक चुनाव और आ रहे परिणामों को देखते हुए कहा है कि मोदी और शाह दोनों ही इस बात को भली प्रकार जानते हैं कि उन्हें जीत कैसे और किस अंदाज में दर्ज करनी है.

कर्नाटक चुनाव में एक बार फिर evm को चर्चा का विषय बनाया जा रहा है. इसपर पत्रकार सुशांत सरीन ने बेहद तल्ख लहजे में जवाब दिया है और कहा है कि क्या हमें चुनावों का ममता मॉडल अपना लेना चाहिए.

पत्रकार अभिजीत मजुमदार ने इसे राहुल गांधी की शिकस्त बताया है और उनपर करारा तंज किया है. कह सकते हैं कि एक बार राहुल गांधी को अभिजीत की बात पर गौर करना चाहिए.

फिल्म समीक्षक सुमित ने भी अपने अंदाज में कर्नाटक चुनाव की समीक्षा की है और कहा है कि अब देश की जनता को राहुल गांधी का इस्तीफ़ा ले ही लेना चाहिए. वो और कुछ नहीं बस भाजपा के स्टार प्रचारक हैं.

गुजरात से भाजपा के नेता मनसुख मंडाविया ने भी कर्नाटक चुनाव् के मद्देनजर भाजपा को आड़े हाथों लिया है और कहा है कि कर्नाटक में कमल का खिलना ये बताता है कि अब उस परिवार का अंत होने वाला है जो लम्बे समय से भ्रष्टाचार में लिप्त थी. साथ ही मनसुख ने इस जीत की एक बड़ी वजह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन को बताया.

ट्विटर सेलेब्रिटियों में शुमार जागृति शुक्ला ने भी इसे भाजपा की एक बड़ी जीत कहा है और माना है कि मोदी और शाह की जोड़ी ने एक बार फिर कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को साकार कर दिया है. कांग्रेस आज भी अपनी गलती मानने को तैयार नहीं है और कह रही है इस हार की जिम्मेदार evm है.

कर्नाटक की इस हार पर दिलीप के पांडे का तर्क बड़ा रोचक है. पांडे मानते हैं कि कांग्रेस कभी भी भाजपा के मुकाबले खड़ी नहीं हो सकती.

भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडे ने इस जीत  को ऐतिहासिक कहते हुए माना है कि कर्नाटक की जनता ने पीएम मोदी पर आस्था रखी और परिणाम हमारे सामने हैं.

कर्नाटक चुनावों के मद्देनजर पत्रकार रूही तिवारी का भी तर्क काबिल ए गौर है जिसपर पूरे देश को विचार करने की जरूरत है.

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय