होम -> सोशल मीडिया

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 अक्टूबर, 2018 02:10 PM
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

इंडोनेशिया की Lion air flight JT610 आज सुबह क्रैश हो गई और इसमें सवार 189 लोगों की तलाश जारी है. ये फ्लाइट पांगकल पिनांग (Pangkal Pinang- उत्तरी इंडोनेशियन आइलैंड) की तरफ जा रहा था. प्लेन के क्रैश से पहले पायलट भाव्ये सुनेजा ने एयरपोर्ट से वापस बेस पर लौटने की इजाजत मांगी थी. टेकऑफ के बाद ही उन्हें समझ आ गया था कि प्लेन में कुछ गड़बड़ है. ट्रैफिक कंट्रोल ने वापस आने के लिए हामी भर दी थी, लेकिन एयरक्राफ्ट उसके कुछ समय बाद ही राडार से गायब हो गया. एयरक्राफ्ट तो नया था, लेकिन पायलट सुनेजा के पास करीब 11000 फ्लाइंग हावर्स का एक्सपीरियंस था. इंडोनेशियन फ्लाइट के पायलट सुनेजा असल में भारतीय थे.

जो तस्वीरें और वीडियो इंडोनेशियन फ्लाइट क्रैश के बाद सामने आ रहे हैं वो बताते हैं कि हादसा कितना भयानक था. वीडियो में देखा जा सकता है कि प्लेन का ऑयल और उसकी डिब्री किस तरह से समुद्र में तैर रही है.

इंडोनेशिया में लगातार एक के बाद एक ऐसे हादसे होते रहते हैं. इंडोनेशिया प्राक्रतिक आपदाओं से भी काफी परेशान रहता है. कुछ समय पहले जो सूनामी आई थी उसमें 800 से ज्यादा लोगों के मरने की खबर आई थी.

ये वीडियो इंडोनेशिया जकार्ता एयरपोर्ट का है जहां अपने बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं कि काश उनके परिजनों की कोई खोज खबर मिल जाए.

जिस जगह प्लेन क्रैश हुआ है उससे काफी दूर तक प्लेन का मलबा फैला देखा जा सकता है.

फ्लाइट JT610: कितने लोग थे प्लेन में?

रिपोर्ट के मुताबिक प्लेन में 189 लोग थे. जिनमें दो पायलट थे जिसमें से एक भारतीय था. तीन बच्चे और पांच फ्लाइट अटेंडेंट थे. एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक इंडोनेशियन सरकार के 23 लोग भी फ्लाइट में मौजूद थे. जिसमें से 20 इंडोनेशियन मिनिस्ट्री ऑफ फाइनेंस में काम करते थे.

सर्च और रेस्क्यू एजेंसी बासारनस (Basarnas) के हेड मोहम्मद सेयाउगी जो इस समय प्लेन क्रैश साइट का मुआयना कर रहे है और हताहत हुए लोगों की जानकारी जुटा रहे हैं उनके हवाले से रिपोर्ट आई है कि पानी में लोगों के शरीर के अंग बहते हुए दिख रहे हैं. साथ ही प्लेन के अवशेष भी दिख रहे हैं.

चौंकाने वाली बात ये है कि ये एयरक्राफ्ट लायन एयर को सिर्फ दो महीने पहले ही डेलिवर किया गया था और 18 अगस्त से ही इसका इस्तेमाल हो रहा था. ये जानकारी एयर ट्रैकिंग सर्विस flightradar24 के अनुसार दी गई है. इस वेबसाइट ने लायन फ्लाइट के आखिरी 13 मिनट की जानकारी भी रिकॉर्ड की थी और हर 5 सेकंड का डेटा लिया था.

ये उसी प्लेन क्रैश की साइट से मिले एक बैग की तस्वीरें हैं जहां देखा जा सकता है कि फोन की धज्जियां उड़ गईं.ये उसी प्लेन क्रैश की साइट से मिले एक बैग की तस्वीरें हैं जहां देखा जा सकता है कि फोन की धज्जियां उड़ गईं.

फ्लाइट JT610: क्या हुआ उन 13 मिनट में?

इंडोनेशियन फ्लाइट JT610 जकार्ता एयरपोर्ट से टेकऑफ करने के सिर्फ 13 मिनट के अंदर ही क्रैश हो गई. लायन एयर फ्लाइट जकार्ता से 20:31:56 UTC (भारतीय समय के अनुसार 29 अक्टूबर सुबह 4.50 बजे.) टेकऑफ करने के मिनटों बाद ही राडार से गायब हो गई. और समुद्र से महज 425 फीट की ऊंचाई पर ही प्लेन का बैलेंस बिगड़ गया था.

इस प्लेन में दो CFM LEAP-1B इंजन थे. एयरक्राफ्ट से आखिरी मैसेज 23:31 UTC (भारतीय समय के अनुसार 5:01 AM) बजे मिला था.

आम तौर पर किसी भी फ्लाइट का ADS-B (Automatic dependent surveillance) डेटा फ्लाइटराडार24 की वेबसाइट और मोबाइल एप पर हर 5 सेकंड का अंतराल दिखाता है और फ्लाइट JT610 के साथ भी यही हुआ.

ये चार्ट फ्लाइट का एल्टिट्यूड, स्पीड (knots में), प्रति मिनट वर्टिकल स्पीड दिखा रहा है.ये चार्ट फ्लाइट का एल्टिट्यूड, स्पीड (knots में), प्रति मिनट वर्टिकल स्पीड दिखा रहा है.

दूसरा चार्ट भी यही डेटा दिखा रहा है बस इस चार्ट में आखिरी मिनट का डेटा है.दूसरा चार्ट भी यही डेटा दिखा रहा है बस इस चार्ट में आखिरी मिनट का डेटा है.

साफ देखा जा सकता है कि वर्टिकल स्पीड आखिरी मिनट में कितनी नीचे गिर गई है. यानी फ्लाइट अपनी जगह से काफी नीचे आ गई थी.

इस चार्ट को आसानी से समझने के लिए फ्लाइट राडार का ही एक और डायग्राम देखिए.

ये उस प्लेन का ट्रैक था जो आज क्रैश हो गया है. प्लेन की क्रैश साइट के बारे में पता चल गया है, लेकिन अभी भी ये पुष्टी नहीं हुई है कि क्या कोई बच पाया है? इंडोनेशिया एयरपोर्ट से बेहद मार्मिक तस्वीरें सामने आ रही हैं जहां अपनों की खैरियत के लिए रिश्तेदार और दोस्त आस लगाए बैठे हैं.

 इंडोनेशिया जकार्ता एयरपोर्ट की तस्वीरें. इंडोनेशिया जकार्ता एयरपोर्ट की तस्वीरें.

ये हादसा 2018 के सबसे भीषण फ्लाइट हादसों में से एक है जहां 189 लोगों के बारे में अभी तक इतने घंटों बाद भी कुछ पता नहीं चल पाया है. जिस तरह से प्लेन की तस्वीरें सामने आ रही हैं उन्हें देखकर ऐसा लग रहा है कि प्लेन के चीथड़े उड़ गए और किसी के बचने की उम्मीद अभी तक नहीं है. इंडोनेशिया में 2001 से लेकर अभी तक 40 से ज्यादा एयरप्लेन एक्सिडेंट हो चुके हैं और मौतों की संख्या बहुत ज्यादा है.

इसके अलावा, अगर सिर्फ साउथ ईस्ट एशिया की बात करें तो भी दुनिया के सबसे खराब प्लेन हादसे हुए हैं. इसमें से एक मलेशियन फ्लाइट MH370 भी थी. उम्मीद है कि जल्द ही इस प्लेन क्रैश के बारे में ज्यादा जानकारी मिलेगी.

ये भी पढ़ें-

प्लेन में चढ़ने से पहले और उतरने से पहले इन 10 बातों का खास ध्यान रखें

फ्लाइट में कान और नाक से खून निकलने का मतलब पैसेंजर्स के लिए जानना जरूरी है

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय