होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 11 जुलाई, 2020 07:31 PM
  • Total Shares

सिंघम मूवी (Singham Movie ) का एक बहुत ही खास डायलाग है 'बड़े बुजुर्ग कह गए हैं, पुलिस वालों की न दोस्ती अच्छी है और न ही दुश्मनी' फिल्म में अपराधी का एक बहुत बड़ा नेटवर्क होता है. पुलिस (Police ) में भी उसकी अच्छी पकड़ होती है. लेकिन फिर आखिर में सभी पुलिस वाले एक होकर अपराधी को उसकी सज़ा दे देते हैं. न्यायपालिका तक मामले को पहुंचने से पहले ही उसका एनकाउंटर कर दिया जाता है. फिल्म खत्म होती है, तालियों की गड़गड़ाहट से पूरा थियेटर गूंज उठता है. फिल्म देखने वाले लोग भी यह मानने लगते हैं कि अपराधी को ऐसी ही सजा मिलनी चाहिए. कोई भी उस एनकाउंटर (Encounter) का विरोध नहीं करता है. वह एक फिल्म थी. फिल्मों में कुछ भी फिल्माया जा सकता है. लेकिन हकीकत में ऐसा करना टेढ़ी खीर होता है. पुलिस के हरेक एनकाउंटर की जांच की जाती है और फिर पुलिस को जांच के दरमियान साबित भी करना होता है कि अपराधी को मारना बेहद जरूरी हो गया था वरना वह अपराधी भाग सकता था या फिर हमें मार सकता था. जांच पूरी होती है, या तो पुलिस को क्लीन चिट मिल जाती है या फिर एनकाउंटर वाली टीम खुद ही शिकंजे में कस जाती है.

Vikas Dubey, Encounter, UP Police, Yogi Adityanathविकास दुबे को मारकर यूपी पुलिस ने तमाम अपराधियों को बड़ा संदेश दिया है

विकास दुबे का एनकाउंटर पहला एनकाउंटर नही है जिसपर कई सवाल खड़े हुए हैं इससे पहले भी कई एनकाउंटर हुए हैं जिसमें सवाल उठे हैं. मौजूदा वक्त की बात करते हैं. उत्तर प्रदेश की ही बात करते हैं. उत्तर प्रदेश में 2017 से लेकर अबतक 119 लोगों का एनकाउंटर हुआ है. इनमें से 74 एनकाउंटर ऐसे हैं जो सही ठहराए जा चुके हैं. इनकी मजिस्ट्रेट स्तर की जांच पूरी हो चुकी है.

बाकी मामले की अभी जांच चल रही है. ज़ाहिर है विकास दुबे के एनकाउंटर की भी जांच होगी जिसमें पुलिस को समझाना होगा कि उसने जो किया उसकी ज़रूरत थी. जांच में क्या कुछ होगा यह अलग विषय है लेकिन अभी जो चर्चा चल रही है, उसमें सबसे मजबूत और ठोस चर्चा यही है कि पुलिस वालों को गुस्सा था अपने ही पुलिसकर्मियों के मारे जाने का. पुलिस हर हाल में इस तरह पुलिस पर हमला को आखिरी बार होते देखना चाहती थी.

पुलिस को यकीन भी था कि अगर विकास दुबे अदालत तक पहुंच गया तो अपने नेटवर्क के जरिए वह गवाहों को डरा धमका कर जमानत पा ही जाएगा. फिर पुलिस वालों को ही अपना निशाना बनाएगा और एक माफिया की तरह अपने अपराधों को और बड़े तौर पर अंजाम देगा.

पुलिस किसी भी कीमत पर विकास को अब नहीं पनपने देना चाहती थी. वह विकास का खात्मा चाहती थी तभी तो पुलिस वालों को एनकाउंटर का मौका मिला तो उसे उसने पूरे तौर पर अमल में भी ला दिया. पुलिस से दोस्ती तो विकास ने खूब की लेकिन पुलिस वालों पर ही हमला करके विकास ने दुश्मनी भी मोल ली थी. अब दोस्ती और दुश्मनी एक ही जगह तो हो नहीं सकती.

यह बात विकास दुबे को भी मालूम थी उसे पहले से ही डर था कि वह पकड़ा नहीं जाएगा बल्कि मार गिराया जाएगा. जिसके चलते उसकी गिरफ्तारी भी नाटकीय ढ़ंग से हुयी थी. पुलिस ने विकास के पूरे गैंग का ही सफाया कर दिया और अन्य अपराधियों को सीधे तौर पर संदेश दे दिया है कि पुलिसवालों पर हमला करने वालों की खैर नहीं है.

ये भी पढ़ें -

Vikas Dubey timeline: 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद बीते 7 दिन विकास दुबे के लिए मौत से बदतर थे

Vikas Dubey से हुई काल्पनिक पूछताछ का विवरण!

Vikas Dubey का 'फर्जी एनकाउंटर' नहीं, सबूत मिटा डालने की कोशिश हुई है!

Vikas Dubey Encounter, UP Police STF, Top Gangster Of Uttar Pradesh

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय