होम -> सियासत

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 11 मई, 2018 04:19 PM
मृगांक शेखर
मृगांक शेखर
  @msTalkiesHindi
  • Total Shares

उन्नाव गैंगरेप केस की सीबीआई जांच में कोई नयी चीज सामने नहीं आई है. बल्कि, आरोपों में जो बातें सुनी जा रही थीं, वही साबित हो रही हैं. बिलकुल वही आरोप जिसे पुलिस के आला अधिकारी सबूत लायक नहीं समझ रहे थे - और बलात्कार के आरोपी सत्ताधारी बीजेपी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का नाम बगैर 'माननीय' लगाये सरेआम नहीं ले पा रहे थे.

सीबीआई जांच से ये भी मालूम होता है कि उन्नाव के पोस्टमॉर्टम हाउस में उस अफसर का गुस्सा कितना वाजिब था. अफसर थाने के पुलिसवालों से इसलिए नाराज हो रहा था क्योंकि सेंगर परिवार को बचाने और पीड़ित के पिता को मरने देने में कोई कसर बाकी नहीं रखी गयी.

क्या थाने की पुलिस इतनी आसानी से मैनेज हो जाती है? राजनीतिक रसूख वाला बलात्कार का आरोपी हो या फिर हत्या और वसूली के दर्जनों केस में वांटेड अपराधी, पुलिस सबको समान भाव से बचाती है - यहां तक कि एनकाउंटर की हालत में भी.

ऐसे मैनेज होती है यूपी पुलिस

16 फरवरी को दोपहर बाद यूपी पुलिस ने एक ट्वीट कर बताया एनकाउंटर से अपराधी किस तरह दहशत में हैं. अपनी बात को सही ठहराने के लिए पुलिस ने अखबारों की क्लिपिंग भी शेयर की थी.

ये तो पहली नजर में ही मजाक लगता है पुलिस को जिस अपराधी की शिद्दत से तलाश है उसे सड़क पर दया और माफी मार्च निकालने की छूट दे देती है. पुलिस की फितरत में ये शायद ही कभी फिट हो पाये. देखने को तो यही मिलता है कि सरेंडर से ऐन पहले घात लगाकर पुलिस वाले आरोपी को धर लेते हैं. मीडिया में वकील और पुलिस के बीच गुत्थमगुत्थी की खबरें और तस्वीरें आपने देखी ही होगी.

पुलिस के बारे में एक धारणा सच के काफी करीब लगती है - वो अपराधी को भी बचाना चाहे तो कोई कसर बाकी नहीं रखती और बेगुनाह को भी मार डालने में उसे गुरेज नहीं होती. फर्जी एनकाउंटर में पुलिसवालों को मिलने वाली सजा से भी इसे समझा जा सकता है. हालांकि, फर्जी एनकाउंटर केस में जितने आरोप लगते हैं सजा कम ही मामलों में मिल पाती है.

यूपी पुलिस कैसे एनकाउंटर करती है इस पर एक ऑडियो क्लिप वायरल हुआ था. इसमें झांसी जिले के एक थानेदार और ब्लॉक प्रमुख रह चुके हिस्ट्रीशीटर लेखराज की बातचीत थी. ऑडियो क्लिप के सही होने की पुष्टि भले न हो, लेकिन पुलिस की ऑफ-रिकॉर्ड चर्चाओं के काफी करीब है. थानेदार की बातों सुनकर मालूम होता है कि जिस अपराधी के खिलाफ 60-70 मामले हैं, पुलिस उसे भी चाहे तो बचा लेती है.

थानेदार इस अपराधी को एनकाउंटर के लिए फिट केस बताता है और उसी वक्त बचने का रास्ता भी सुझा देता है - बीजेपी के दो नेताओं को मैनेज कर लो. मतलब साफ है, बीजेपी नेता मैनेज हो गये तो एनकाउंटर नहीं होगा, वरना - 'पट-पट-पट.'

kuldeep sengarसीबीआई को मिले सेंगर के खिलाफ सबूत

जब बीजेपी नेता अपराधियों से मैनेज हो जाते हैं और उनसे पुलिस मैनेज हो जाती है फिर तो भगवान ही बेड़ा पार लगाये. जो नेता अपराधियों के लिए पुलिस को मैनेज कर सकता है - वो भला अपने ने लिए क्या नहीं कर सकता.

थानेदार अपराधी को ये भी बता देता है कि उसका तो काम उसी दिन तमाम हो गया होता, अगर पुलिस तय करके और हथियार लेकर गयी होती. उन्नाव रेप केस की सीबीआई जांच में भी यही मालूम हुआ है कि सेंगर परिवार पर आंच न आये इसके लिए स्थानीय पुलिस ने अपनी ओर से प्रयासों में कोई कमी न रखी.

सीबीआई ने जुटाये आरोपों के सबूत

उन्नाव गैंगरेप केस में सीबीआई ने बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ आरोपों की पुष्टि कर ली है, हालांकि ये जानकारी मीडिया में सूत्रों के हवाले से आई है. एक बयान जारी कर सीबीआई कहा है कि जांच अभी चल रही है और केस से जुड़े अपडेट या सबूत मिलने की बात या किसी नतीजे पर पहुंचने की बात मीडिया से शेयर नहीं की गयी है.

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक 16 अप्रैल को सीबीआई की स्पेशल जुडीशियल मजिस्ट्रेट सपना त्रिपाठी के समक्ष पीड़ित का बयान दर्ज किया गया था. ये बयान सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दर्ज हुआ जिसे प्रॉसीक्यूशन अदालत में बतौर सबूत पेश करता है. ऐसे में बयान से पलटने पर झूठी गवाही देने का केस भी चल सकता है.

बताते हैं कि बयान पीड़ित ने सारी बातें दोहरायी हैं कि 4 जून, 2017 को बीजेपी विधायक सेंगर के पास उसे ले जाया गया. विधायक के पास ले जाने वाली शशि नाम की महिला उस दौरान दरवाजे पर पहरा देती रही.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया गया है कि पुलिस ने मेडिकल जांच में भी देरी की और पीड़ित के कपड़े और दूसरे सबूत फरेंसिक लैब नहीं भेजे. बातचीत में अधिकारी ने बताया, 'ये सबकुछ जानबूझकर और आरोपियों की मिलीभगत से किया गया.'

पुलिस डाल डाल और वे पात पात

फर्जी वेबसाइट बनाकर स्वामी रामदेव के पतंजलि की एजेंसी दिलाने के नाम पर ठगने वालों के कारनामे तो आपने खबरों में देखे ही होंगे. ये भी जान लें के किस तरह बीजेपी नेता और सीबीआई अफसर बन कर दो ठग बीजेपी विधायक सेंगर की जिला परिषद सदस्य पत्नी से संपर्क किये.

sangeeta sengarसेंगर की पत्नी संगीता

सेंगर की पत्नी संगीता की शिकायत पर पुलिस ने ऐसे दो युवकों को गिरफ्तार किया है जो मामला रफा दफा करने को लेकर एक करोड़ रुपये मांग रहे थे. पुलिस की पूछताछ में पता चला है कि दोनों में से एक ने पहले बीजेपी नेता बन कर फोन किया लेकिन नाम नहीं बताया. बाद में दोनों ने खुद को सीबीआई अफसर बताया और कहा कि एक करोड़ रुपये देने पर सेंगर को क्लीन चिट दिला सकते हैं.

पुलिस और अपराधियों के रिश्ते को लेकर एक जुमला खूब चलता है - 'तू डाल-डाल मैं पात-पात'. अपराध को अंजाम देने वाले भी हमेशा शिकार की फिराक में होते हैं और उन्हें इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि दूसरी तरफ कौन है. ये बात पेशेवर अपराधियों पर भी लागू होती है और उन पर भी जो नया नया हाथ आजमाने निकल पड़ते हैं. दोनों युवक बेरोजगार थे - मौका और पोटेंशियल देखकर दोनों ने सेंगर परिवार से पैसे ऐंठने की कोशिश की, लेकिन पकड़ में आ गये.

इन्हें भी पढ़ें :

अपराधियों के माफी-स्टंट के बावजूद योगी की पुलिस मुठभेड़ को सही नहीं ठहरा सकती

बिरादरी और पुलिस का गठजोड़ फजीहत की जड़ है, योगी पर वो सब पड़ रहा भारी

ये उपवास था या बलात्कार की चीख के बीच बजती बेवक्त की शहनाई ?

Unnao Gang Rape, Kuldeep Singh Sengar, Cbi

लेखक

मृगांक शेखर मृगांक शेखर @mstalkieshindi

जीने के लिए खुशी - और जीने देने के लिए पत्रकारिता बेमिसाल लगे, सो - अपना लिया - एक रोटी तो दूसरा रोजी बन गया. तभी से शब्दों को महसूस कर सकूं और सही मायने में तरतीबवार रख पाऊं - बस, इतनी सी कोशिश रहती है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय