होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 01 मार्च, 2021 01:28 PM
देवेश त्रिपाठी
देवेश त्रिपाठी
  @devesh.r.tripathi
  • Total Shares

भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण 1 मार्च यानी आज से शुरू हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के एम्स में भारत बायोटेक द्वारा बनाई गई 'कोवैक्सीन' का डोज लिया. इस कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देने पर लगातार सवाल उठाए जा रहे थे. नरेंद्र मोदी ने टीकाकरण के लिए कोवैक्सीन का चुनाव कर सभी प्रश्न चिन्हों पर पूर्णविराम लगाते हुए कोरोना टीकाकरण के लिए 'थाली बजा' दी है. विपक्ष द्वारा इस वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने पर काफी सवाल खड़े किए गए थे, साथ ही वैक्सीन की गंभीरता पर भी निशाना साधा गया था. पीएम मोदी ने लोगों से भी टीकाकरण अभियान में जुड़ने की अपील की. उन्होंने कहा कि मैंने एम्स में वैक्सीन की अपनी पहली डोज ले ली है. देश के डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने के लिए इतने कम समय में वैक्सीन बनाई है, यह सराहनीय है. मैं उन सभी लोगों से अपील करता हूं, जो वैक्सीन लेने के लिए योग्य हैं. हम साथ मिलकर भारत को कोरोना मुक्त बनाएंगे.

दूसरे चरण का कोरोना टीकाकरण 

भारत में शुरू हुए दूसरे चरण के टीकाकरण में 60 साल से ज्यादा और एक से ज्यादा रोगों से जूझ रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों कोरोना का टीका लगवा सकेंगे. कोरोना टीके की डोज सरकारी के साथ ही निजी अस्पतालों में भी उपलब्ध होगी. केंद्र सरकार ने दूसरे चरण के टीकाकरण के लिए 10000 सरकारी और 20000 निजी सेंटर्स को चयनित किया है. 16 जनवरी को कोरोना वैक्सीनेशन का पहले चरण का आगाज हुआ था, जिसमें स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके की डोज दी गई थी. वहीं, दूसरे चरण में कोरोना का टीका अब आम लोगों के लिए भी उपलब्ध हो गया है.

ये लोग ले सकेंगे कोराना का टीका?

दूसरे चरण के टीकाकरण में 60 साल से ज्यादा के बुजुर्गों को टीका लगाया जाएगा. इसके साथ ही कोमॉर्बिडिटी (एक से ज्यादा रोग) से जूझ रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग भी टीका लगवा सकेंगे. सरकारी सेंटर्स में कोरोना टीकाकरण मुफ्त होगा. वहीं, निजी अस्पतालों में इसके लिए 250 रुपये प्रति खुराक देने होंगे. केंद्र सरकार ने 20 बीमारियों की लिस्ट जारी की है. जिसमें दिल से जुड़ी बीमारियों, डायबिटीज और हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों को जगह दी गई है. गंभीर बीमारी वालों के लिए मान्यता प्राप्त डॉक्टर का सार्टिफिकेट जरूरी होगा. कोरोना टीकाकरण के दूसरे चरण में करीब 27 करोड़ लोगों को टीके की डोज देने का लक्ष्य रखा गया है.

कोरोना टीकाकरण के लिए सरकारी और निजी सेंटर्स पर ऑन-साइट पंजीकरण कराने की सुविधा उपलब्ध होगी.कोरोना टीकाकरण के लिए सरकारी और निजी सेंटर्स पर ऑन-साइट पंजीकरण कराने की सुविधा उपलब्ध होगी.

Co-Win एप और आरोग्य सेतु एप से होगा पंजीकरण

कोरोना टीकाकरण के लिए सरकारी और निजी सेंटर्स पर ऑन-साइट पंजीकरण कराने की सुविधा उपलब्ध होगी. योग्य लाभार्थी सीधे टीकाकरण केंद्र पर जाकर पंजीकरण कराकर टीका लगवा सकते हैं. योग्य लाभार्थी टीके के लिए Co-Win 2.0 एप व पोर्टल और आरोग्य सेतु मोबाइल एप के जरिए भी पंजीकरण करा सकते हैं. टीकाकरण केंद्र पर पंजीकरण कराने के लिए आधार कार्ड या वोटर आईडी और 45 से 59 साल के लोगों को बीमारी का डॉक्टर से प्राप्त सर्टिफिकेट दिखाना होगा. टीकाकरण के लिए एप या पोर्टल पर लॉगइन करने पर मोबाइल नंबर डालना अनिवार्य होगा. नंबर डालने पर मोबाइल पर एक OTP आएगा, जिसकी सहायता से लाभार्थी अपना अकाउंट बना सकेंगे.

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय