होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 12 दिसम्बर, 2017 01:05 PM
प्रवीण शेखर
प्रवीण शेखर
  @praveen.shekhar.37
  • Total Shares

गुजरात विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कांग्रेस पर आक्रमण तेज होता जा रहा है. पिछले तीन दिनों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर की पाकिस्तानी उच्चायुक्त के साथ मुलाकात को लेकर लगातार टिपण्णी कर रहे हैं. इन तीन दिनों में प्रधान मंत्री ने कांग्रेस पर ताबड़तोड़ तीन 'पाक गोले' भी दागे हैं. 

गोला नंबर 1: “मणिशंकर ने मेरे लिए पाकिस्तान में सुपारी दी.”

शनिवार को बनासकांठा के चुनावी रैली में नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तान में मोदी को हटाने की सुपारी दी है. जिससे की दोनों देशों के बीच गतिरोध ख़त्म हो जाये.

मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तान यात्रा दौरान उनलोगों से कहा- "रास्ते से मोदी को हटा दो और फिर देखो कि भारत-पाकिस्तान शांति का क्या होता है. कोई मुझे बता सकता है कि ये उस बैठक में जो मुझे रास्ते से बाहर निकालने की बात हुई है, इसका क्या मतलब होता है? आप पाकिस्तान गए थे मोदी की सुपारी देने. हालांकि, लोगों को चिंता करने की जरूरत नहीं है. क्योंकि 'माँ अम्बे' देवी मुझे सुरक्षित रखती हैं."

गोला नंबर 2: “पाकिस्तान अहमद पटेल को गुजरात का मुख्यमंत्री क्यों बनना चाहता है?”

narendra modi, gujaratमोदी का हमला तेज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आरोप लगाया कि पाकिस्तान गुजरात विधानसभा चुनावों में हस्तक्षेप कर रहा है. साथ ही उन्होंने कांग्रेस से उसकी पार्टी के आला नेताओं के हाल ही में पड़ोसी देश के नेताओं से मिलने पर स्पष्टीकरण भी मांगा. गुजरात के पालनपुर और साणंद में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने पाकिस्तानी सेना के पूर्व महानिदेशक अरशद रफीक द्वारा कथित तौर पर की गई अपील को लेकर सवाल उठाए. रफीक ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाने की कथित तौर पर अपील की थी.

उन्होंने कहा- “पाकिस्तानी सेना के पूर्व महानिदेशक का अहमद पटेल को गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में समर्थन करना एक चिंता का विषय हैं. यह भारत की सार्वभौमिकता और आत्मसम्मान का मामला है.”

गोला नंबर 3: कांग्रेस के सदस्यों ने अय्यर के घर में पाकिस्तान के राजदूत के साथ गुप्त बैठक की

चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए तीसरा 'पाक' गोला दागा. नरेंद्र मोदी ने दावा किया कि कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा उनको ''नीच'' व्यक्ति कहने से पहले, कुछ कांग्रेस नेताओं ने पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री के साथ एक गुप्त बैठक की थी.

सूत्रों के अनुसार, डिनर के साथ यह बैठक 6 दिसंबर को कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के दिल्ली आवास पर हुई थी. उस बैठक में पूर्व भारतीय सेना प्रमुख, पूर्व विदेश सचिव और पाकिस्तान में स्थित भारतीय उच्चायोग में काम कर चुके राजनयिक मौजूद थे. उस समय पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद भारत आए हुए थे. अय्यर द्वारा दिए गए डिनर में शामिल हुए लोगों में पूर्व सेना प्रमुख दीपक कपूर, पूर्व विदेश मंत्री के. नटवर सिंह, पूर्व राजनयिकों में सलमान हैदर, टीसीए राघवन, शरत सभरवाल, के. शंकर बाजपेई और चिन्मय घरेखान मौजूद थे. बाजपेई, राघवन और सभरवाल ने पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग में सेवाएं दी हैं. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी भी डिनर में मौजूद थे.

नरेंद्र मोदी ने इस बैठक की निंदा करते हुए कहा, “यह गंभीर चिंता का मुद्दा है. जब पाकिस्तान देश के लिए एक संवेदनशील मुद्दा बन गया है, तो गुजरात चुनाव के पहले पाकिस्तान के साथ एक गुप्त बैठक आयोजित करने का क्या कारण था?”

गुजरात के विधान सभा चुनाव के नतीजे अगले सोमवार यानी 18 दिसम्बर को आ जायेंगे. देखना यह होगा कि नरेंद्र मोदी का पाकिस्तान को लेकर कांग्रेस पर 'सर्जिकल स्ट्राइक' कितना भाजपा के पक्ष में होता है.

ये भी पढ़ें-

गुजरात चुनाव में अहमद पटेल की साख और भविष्य दोनों दांव पर हैं

गुजरात में 2014 के चुनाव कैंपेन की तरह मोदी आगे - बीजेपी पीछे हो गई है

प्रधानमंत्री मोदी को 'नीच' कहते वक्‍त मणिशंकर अय्यर की जुबान नहीं फिसली थी

लेखक

प्रवीण शेखर प्रवीण शेखर @praveen.shekhar.37

लेखक इंडिया ग्रुप में सीनियर प्रोड्यूसर हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय