होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 अक्टूबर, 2018 07:04 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

इंडोनेशिया में हुए विमान हादसे और 189 यात्रियों की मौत से पूरी दुनिया सकते में हैं और अपना दुःख प्रकट कर रही है. दुर्घटना पर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. ऐसी तमाम बातें निकल कर सामने आ रही हैं जिन पर यदि समय रहते अमल कर लिया गया होता तो शायद एक बड़ा हादसा होने से टल जाता. जब पूरी दुनिया का इस हादसे पर कुछ न कुछ ओपिनियन हो, घटना देखकर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के लिए भी लाजमी था कि वो भी कुछ न कुछ कहते. उमर ने घटना का संज्ञान तो लिया, मगर जाने अनजाने उन्होंने ऐसा बहुत कुछ कह दिया जो न सिर्फ उनकी असंवेदनशीलता दर्शाता है. बल्कि ये भी बताता है कि जो आदमी किसी महत्वपूर्व पद पर रह चुका हो ये बिल्कुल भी जरूरी नहीं कि वो समझदार ही हो.

उमर अब्दुल्ला, इंडोनेशिया, प्‍लेन क्रैश, ट्विटरइंडोनेशिया में हुए प्लेंन क्रैश पर उमर अब्दुल्ला ने एक बहुत ही गैर जिम्मेदाराना ट्वीट किया है

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस हृदय विदारक घटना में 'इंडियन कनेक्शन' निकाल कर पूरी मानवता को शर्मसार कर दिया है. घटना के सम्बन्ध में उमर ने एक खबर का लिंक पोस्ट करते हुए लिखा है कि 'दिल दहला देने वाले #LionAir फ्लाइट के क्रैश होने का संभावित इंडियन कनेक्शन

उमर के इस ट्वीट को देखकर साफ है कि उन्होंने घटना के लिए सीधे सीधे एयरलाइन के पायलट को दोषी ठहराया है और एक बड़ा आरोप लगाया है. ध्यान रहे कि इंडोनेशिया का लॉयन एयर विमान जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद ही क्रैश हो गया. विमान जेटी-610 जकार्ता से पंगकल पिनॉन्ग जा रहा था. विमान को दिल्ली के 31 वर्षीय पायलट 31 वर्षीय कैप्टन भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे.

2009 में पायलट का लाइसेंस हासिल करने वाले भव्य सुनेजा ने अमिरात में ट्रेनिंग की थी और 7 साल पहले ही लॉयन एयर ज्वाइन किया था. भव्य के विषय में बताया ये भी जा रहा है कि उन्हें 6000 घंटों का फ्लाइट अनुभव था जबकि को-पायलट को 5000 घंटों का फ्लाइट अनुभव था. इन बातों से साफ हो गया है कि जहाज का पायलट कोई नौसिखिया नहीं, बल्कि अनुभवी था और जहाज केवल एक दुर्घटना का शिकार हुआ है.

ऐसे में जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री, जिनका खुद का राज्य हिजबुल से लेकर दीगर आतंकी इदारों के चलते किसी न किसी कनेक्शन की भेंट चढ़ा हुआ और आए रोज गर्त के अंधेरों में जा रहा है. कनेक्शन के फेर से बाहर निकलें. ये बात जानते बुझते हुए कि जहाज का केवल एक्सीडेंट हुआ है उमर का इसमें कनेक्शन निकलना और कुछ नहीं बस उनकी संवेदनहीनता दर्शाता है. उमर जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री रह चुके हैं साथ ही वो इस देश के एक जिम्मेदार नागरिक भी हैं. उनका एक बेहद संवेदनशील मुद्दे पर इस तरह देश को ट्रोल करना उनके सम्पूर्ण व्यक्तित्व को संदेह के घेरों में डालता है.

अब चूंकि इस ह्रदय विदारक घटना में उमर को इंडियन कनेक्शन नजर आया है. साथ ही उन्होंने घटना के लिए फ्लाइट के पायलट भव्य सुनेजा पर संदेह किया है. तो ऐसे में हम उन्हें कैप्टन आईआर चौधरी के बारे में अवगत कराना चाहेंगे. कैप्टन आई आर चौधरी सिंगापुर एयरलाइन के पायलट हैं जो अभी कुछ दिनों पहले चर्चा में उस वक़्त आए थे जब उन्होंने अभी कुछ दिनों पहले नेवार्क से सिंगापुर तक चलने वाली फ्लाइट एयरबस 350 को 19 घंटे तक लगातार 16,800 किलोमीटर उड़ाया था.

इसके अलावा हम उमर को विदेशी धरती पर जहाज उड़ाने वाले एक अन्य पायलट मंसूर अनीस से भी अवगत कराना चाहेंगे. मंसूर 14 साल के हैं और शारजाह के दिल्ली पब्लिक स्कूल के छात्र हैं. मंसूर चर्चा में तब आए थे जब उनके बारे में गल्फ न्यूज़ में खबर छपी थी. गल्फ न्यूज़ के अनुसार कक्षा 9 के छात्र मंसूर को सिंगल इंजन एयरक्राफ्ट चलाने के लिए कनाडा की एक एविएशन अकादमी से सर्टिफिकेट प्राप्त हुआ है.

इन दो उदाहरणों से साफ हो गया है कि इन दोनों का जिक्र केवल इसी लिए हुआ कि इन दोनों में काबिलियत थी. इसी तरह लॉयन एयर के विमानचालक भव्य सुनेजा जिनपर उमर अब्दुल्लाह ने संदेह जताया, उनमें भी काबिलियत थी और उसी काबिलियत के बदौलत उन्होंने भी एक मुकाम हासिल किया था. मगर होनी को कुछ और मंजूर था और एक बड़े हादसे में उन्होंने अपनी जान गंवाई और उमर अब्दुल्ला जैसे लोगों को उसमें इंडियन कनेक्शन नजर आ गया.

ये भी पढ़ें -

Indonesia Flight crash video दिखाता है एक भयानक अंत

मॉस्को में प्लेन क्रैश से भारत को क्यों सबक लेना चाहिए

गारंटी मिलने वाली है कि विमान हादसे में जान नहीं जाएगी !

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय