होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 11 अप्रिल, 2019 04:20 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण के मतदान हो रहे हैं और सोशल मीडिया पर इस खास दिन की पल पल की रिपोर्ट मिल रही है. कहां क्या अच्छा क्या बुरा सब बताया जताया जा रहा है. ऐसे में एक वीडियो भी खूब वायरल हो रहा है जिसमें एक कार में कुछ पुलिसकर्मी खाने के पैकेट लेकर जा रहे हैं. और पैकेट्स पर लिखा है 'नमो'.

कहा जा रहा है कि नोएडा के सेक्टर 15-A के एक पोलिंग बूथ में NaMo फूड पैकेट्स ले जाए जा रहे हैं. इस वीडियो को बीजेपी के खिलाफ प्रचारित किया जा रहा है. चुनाव आयोग से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की जा रही है.

तस्वीरें भी ये कहकर वायरल की जा रही हैं कि योगी जी पुलिस के हाथों खाने के पैकेट बंटवा रहे हैं.

namo foodsसभी सोशल मीडिया पोर्टल्स पर ये तस्वीरें वायरल हैं

नमो फूड पैक्ट्स का सच ये है

जब इंसान किसी के खिलाफ कुछ करने की ठान लेता है तो उसे हर तरफ गलत ही गलत नजर आता है. इस बार ये आरोप गलत साबित हुए हैं. असल में जो पैकेट पुलिसवाले ले जा रहे हैं उनपर 'नमो' साफ लिखा नजर आ रहा है लेकिन असल में ये नोएडा के एक रेस्त्रां का नाम है 'नमो फूड्स'. ये रस्त्रां इस इलाके में काफी समय से चल रहा है. खाने के डब्बे पर बड़े-बड़े अक्षरों में नमो लिखा है और फूड्स थोड़ा छोटा. और पुलिसवाले ये खाना इसी रेस्त्रां से लेकर जा रहे थे. लेकिन खाने के इन पैकेट्स को NaMo यानी नरेंद्र मोदी का प्रचार बताया जा रहा है.

namo foodsनोएडा का ये रेस्त्रां काफी प्रसिद्ध है

पोलिंग बूथ पर ड्यूटी दे रहे सरकारी कर्मियों के खान-पान का इंतजाम सरकार का ही होता है. ऐसे में पुलिस वाले उन्हें खाना उपलब्ध करवा रहे हैं. इसमें बुराई क्या है?

आश्चर्य की बात तो ये है कि लोगों ने तो कार के पीछे गुस्सेवाले हनुमान जी की फोटो पर भी आपत्ति जताई है. ये कहते हुए कि वो पुलिस की कार है फिर भी उसपर धार्मिक चिन्ह बना हुआ है. लेकिन इतनी बारीकी से देखने वाले लोग ये देखना भूल गए कि वो पुलिस वालों की कार नहीं बल्कि एक टैक्सी है. जिसपर paytm का लोगो और पीली पट्टी साफ दिख रही है.

tweet

नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार पर उंगलियां उठाना अगल बात है. जाहिर तौर पर उसे चुनाव आयोग ने सही भी माना और इसीलिए मोदी की बायोपिक पर बैन भी लगा दिया गया. लेकिन एक भला आदमी अगर नमो नाम से अपनी दुकान चलाता है तो उस दुकान को तो भाजपा प्रायोजित नहीं माना जा सकता. लोगों को उंगलियां उठाने से पहले याद रखना चाहिए कि जैसे हर पीली चीज़ सोना नहीं होती उसी तरह से हर नमो NaMo नहीं होता. नमो तो शिव का नाम है.

इस पूरे मामले में बीजेपी का तो कुछ नहीं बिगड़ा बल्कि विपक्ष को ही मुंह की खानी पड़ी. और फायदा हुआ नमो फूड्स का जिसे जबरदस्त पब्लिसिटी मिल गई वो भी बिना पैसे खर्च किए.

ये भी पढ़ें-

फर्जी वोटों के लिए फर्जी उंगलियों का सच जान लीजिए

EVM का जिन्न लोकसभा चुनाव में भी निकलकर सामने आ गया है

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय