होम -> सियासत

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 12 मई, 2019 12:19 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

लोकसभा चुनाव के छठे चरण की वोटिंग शुरू हो गई है, जिसमें सबसे अहम है दिल्ली. आज ही राजधानी Delhi की 7 seats पर चुनाव हो रहे हैं. इस बार के चुनावी में दिल्ली की हर सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला हो रहा है. एक ओर तो सत्ताधारी पार्टी भाजपा ने अपने मजबूत सांसदों और कुछ नए उम्मीदवारों को टिकट दिया है. वहीं दूसरी ओर हैं कांग्रेस के अनुभवी नेता, जिनकी अपने इलाके में अच्छी पकड़ है. इसके अलावा, आम आदमी पार्टी ने भी युवा चेहरों को मैदान में उतारा है, ताकि अधिक से अधिक युवा आम आदमी पार्टी को वोट दें.

दिल्ली की तीनों अहम पार्टियों ने आचार संहिता लागू होने तक तो दिल्ली में जमकर प्रचार किया ही, उसके बाद भी वह सोशल मीडिया के जरिए अपना प्रचार करते रहे. अरविंद केजरीवाल और शीला दीक्षित से लेकर मनोज तिवारी तक, सभी ने आखिरी मिनट तक प्रचार किया. इसी बीच कुमार विश्वास ने चुटकी तक ले ली.

अरविंद केजरीवाल, मनोज तिवारी, शीला दीक्षित, दिल्ली, लोकसभा चुनाव 2019केजरीवाल और शीला दीक्षित से लेकर मनोज तिवारी तक, सभी ने आखिरी मिनट तक प्रचार किया.

अरविंद केजरीवाल ने सुबह सुबह ही दिल्ली की जनता के लिए ट्वीट किया. उन्होंने लिखा- 'Good morning Delhi. वोट डालने ज़रूर जाना. जिसने आपके काम किए उनको वोट देना. नफ़रत और ज़हर फैलाने वालों को और दिल्ली के काम रोकने वालों को वोट मत देना. आपका वोट देश बदल सकता है.'

वहीं दूसरी ओर मनोज तिवारी ने अन्ना हजारे का एक वीडियो शेयर किया, जिसमें उन्होंने अरविंद केजरीवाल को खरी खोटी सुनाई थी. अन्ना हजारे ने वीडियो में कहा है कि अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि वह राजनीति में नहीं जाएंगे, लेकिन चले गए. फिर कहा था कि सरकारी बंगला, आवास नहीं लेंगे, लेकिन ले लिया. अन्ना हजारे ने अरविंद केजरीवाल के ईमान पर भी सवाल उठाया. मनोज तिवारी ने ये वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन लिखा है- 'Shocking .. है ना.'

अरविंद केजरीवाल पर सिर्फ मनोज तिवारी ने हमला करते हुए अपना प्रचार नहीं किया, बल्कि शीला दीक्षित ने भी केजरीवाल पर हमला बोला. उन्होंने अरविंद केजरीवाल को जवाब देते हुए ट्वीट किया- 'अरे भाई @ArvindKejriwal, मेरी सेहत को ले कर क्यूँ ग़लत अफ़वाहें फैला रहे हो? अगर कोई काम नहीं हो तो आ जाओ भोजन पर. मेरी सेहत भी देख लेना, भोजन भी कर लेना और अफ़वाहें फैलाए बिना चुनाव लड़ना भी सीख लेना.'

इसी बीच कुमार विश्वास ने शीला दीक्षित के जवाब पर एक चुटकी लेते हुए ट्वीट किया- 'बे तो तीन महीने से चक्कर लगा रए थे आपके दरवज्जे पै, आप नैई दरवज्जा नई खोला. हाँ नईं तो.' कुमार विश्वास के ट्वीट से साफ जाहिर होता है कि वह आप और कांग्रेस के गठबंधन की ओर इशारा कर रहे हैं. आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस से बार-बार कहा कि वह गठबंधन कर ले, लेकिन सीटों पर दोनों पार्टियों के बीच कोई निर्णय नहीं लिया जा सका.

ऐसा नहीं है कि दिल्ली के चुनाव में प्रचार सिर्फ अपने पक्ष या फिर किसी खास पार्टी के हक में किया जा रहा है. बल्कि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो विरोध में प्रचार जैसे ट्वीट कर रहे हैं. सामाजिक कार्यकर्ता और वकील प्रशांत भूषण ने एक ट्वीट करते हुए लिखा- 'आज दिल्ली में वोटिंग है. ये समझना जरूरी है कि ये चुनाव मोदी सरकार द्वारा कुचले जा रहे गणतंत्र को बचाए रखने के लिए हमारी लड़ाई है. भाजपा को हराने के लिए आपको जिस भी उम्मीदवार को वोट देना है दीजिए. नोटा का बटन दबाना अपना वोट बेकार करना होगा.' यहां ये साफ है कि प्रशांत भूषण सिर्फ भाजपा को हारता हुआ देखना चाहते हैं. उन्हें इस बात से कोई मतलब नहीं कि कांग्रेस जीते या आम आदमी पार्टी.

इस बार दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला है. भाजपा, कांग्रेस और आप तीनों ने ही एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है. धरातल से लेकर सोशल मीडिया तक जमकर चुनाव प्रचार किया गया. तीनों ही पार्टियों ने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की, जनता को अपने काम गिनाने की कोशिश की और लुभावने वादों की भी झड़ी लगा दी. अब 23 मई को ये देखना दिलचस्प होगा कि दिल्ली की जनता के दिल में जगह कौन बना पाता है, भाजपा, कांग्रेस या फिर आप.

ये भी पढ़ें-

मोदी (NDA) सत्ता में न लौटे तो क्या होगा? झलक दिखने लगी

छठे दौर की 10 बड़ी सीटें - दिग्विजय सिंह, साध्वी प्रज्ञा, मेनका, अखिलेश और निरहुआ कसौटी पर

Delhi की 7 सीटें कौन जीत रहा है? राजदीप सरदेसाई का अनुमान

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय