होम -> सियासत

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 27 अगस्त, 2016 04:48 PM
शुभम गुप्ता
शुभम गुप्ता
  @shubham.gupta.5667
  • Total Shares

बुजदिल आतंकवादी...दिन भर भारत के खिलाफ जहर उगलने वाला आतंकी. मैं दुसरों की तरह हाफिज़ को मोस्ट वाटेंड आतंकवादी कह कर उसे इज़्जत नहीं देना चाहता. वैसे तो इस आतंकी का काम ही दिन भर आतंक फैलाना है. दिन-रात भारत की सेना को, सरकार को गालियां देना है. कश्मीर के लिये आतंकी तैयार करना, उन्हें भारत भेजना..आतंकी हमले करवाना. और बस किसी भी किमत पर भारत की बर्बादी ही चाहना.

हाफिज़ सईद हमेशा से ही कश्मीर को लेकर ज़हर उगलता रहता है. कश्मीर की आज़ादी को लेकर बात करता है. मगर प्रधानमंत्री मोदी के पीओके वाले बयान के बाद तो जैसे पागल सा हो गया है हाफिज़ सईद.

hafiz-650_082716044328.jpg
 हाफिज की बातों पर हंसी आती है..

हाफिज़ सईद अब मुंबई की आज़ादी की बात कर रहा है. जी हां....इस बात पर आपको हंसी आएगी. बदकिस्मती से मुंबई हमले को भले ही अंजाम दिया गया हो. मगर क्या हाफिज़ इतना सोच सकता है कि मुंबई को भारत से आज़ाद कराएगा! ऐसे सपने तो सपनों के सपनों में भी सफल नहीं होंगे. लेकिन आज भारत की ओर से ऐसा जवाब देने वाला कोई नहीं, जिस तरह का जवाब बाला साहेब दिया करते थे.

यह भी पढ़ें- सुना आपने, हाफिज सईद पेरिस अटैक की निंदा कर रहा है!

अगर आज बाला साहेब होते तो हाफिज़ को क्या जवाब देते आप कल्पना कर सकते हैं. जब बाला साहेब देश के किसी व्यक्ति को मुंबई के बारे में ग़लत बोलने पर नही बख्शते थे तो हाफिज़ की क्या औकात? आज उद्धव ठाकरे उतने जवाबी नही जिस तरह के बाला साहेब थे.

मुंबई हमलों के आतंकी डेविड हेडली ने अपनी गवाही में कहा था कि हाफिज़ सईद बाला साहेब को सबक सिखाना चाहता था. यहां तक कि उन्हें मारना चाहता था. जिस कारण उसने शिवसेना की रेकी भी थी. मगर शेर का शिकार कभी गिदड़ो ने किया है क्या ?

हाफिज़ सईद ने कभी किसी भारतीय नेता को मारने की बात नही कहीं. फिर वो भले ही किसी भी पार्टी के नेता हों. मगर उसने सिर्फ बाला साहेब को मारने के बारे में सोचा. यानी आप सोचिये की कितना भयभीत था हाफिज सईद , बाला साहेब से. कितना डरता था, कि लश्कर की मीटिंग में बाला साहेब को मारने के बारे में प्लान करता था.

आज बाला साहेब हमारे बीच नहीं हैं. मगर काश वो होते तो एक करारा जवाब ज़रुर देते. जिससे कि वो आतंकी मुंबई के बारे में सपने में भी नहीं सोचता.

यह भी पढ़ें- बिक रहे हैं नवाज, कहीं आतंकी न खरीद लें!

Hafiz Saeed, Bal Thackeray, Mumbai

लेखक

शुभम गुप्ता शुभम गुप्ता @shubham.gupta.5667

लेखक आज तक में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय