होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 24 मई, 2019 10:47 PM
अमित जैन
अमित जैन
  @aajtak.amitjain
  • Total Shares

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के दो बड़े गुट के मुखियाओं को मोदी की सुनामी ले उड़ी है. 2019 के आम चुनाव के नतीजों में राजा यानी दिग्विजय सिंह और महाराजा याना ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार के मायने प्रदेश कांग्रेस के लिए साफ संकेत हैं कि अब आगे सियासी लड़ाई आसान नहीं है. सिंधिया घराने का गढ़ मानी जाने वाली गुना सीट से ज्योतिरादित्य का बीजेपी के एक स्थानीय नेता से हार जाने की खबर से पार्टी के दिग्गज नेताओं की नींद उड़ी हुई है. सिंधिया परिवार के लिए गुना सीट किसी भी पार्टी की विचारधारा से ऊपर रही है क्योंकि इस सीट से स्वर्गीय माधवराव सिंधिया कांग्रेस से चार बार जीते तो इसी सीट से स्वर्गीय राजमाता सिंधिया बीजेपी से पांच बार विजयी हुईं. और फिर चार बार से लगातार ज्योतिरादित्य सिंधिया डेढ़ लाख से ज्यादा वोटों से जीतते आ रहे थे. यहां तक कि 2014 की मोदी लहर में भी ज्योतिरादित्य ने आसानी से ये सीट बचा ली थी. इतना ही नहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया का जलवा छह महीने पहले दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव में भी बरकरार रहा. लेकिन सिंधिया की इस हार का असर काफी गहरा हुआ है.

digvijay singh and jyotiraditya scindiaदिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया का चुनाव हारना कांग्रेस पार्टी के लिए एक बड़ा झटका है

सिंधिया आखिरी दौर के मतदान से ठीक एक दिन पहले अपने निजी विदेशी दौरे पर निकल गए थे और उनकी कोई प्रतिक्रिया भी नहीं आई है. उन्हें अपनी इस हार का अंदेशा सपने में भी नहीं होगा क्योंकि दशकों से ये सीट महल की मानी जाती रही है. दिलचस्प बात तो ये है कि विधानसभा में पार्टी की जीत के बाद वे भी एक मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे और फिर पार्टी ने उन्हें उसके बदले बड़ी जिम्मेदारी दी थी.

कांग्रेस के चाणक्य और दस साल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह का भोपाल से चुनाव हारना भी कांग्रेस पार्टी के लिए एक बड़ा झटका है. 15 साल बाद कांग्रेस की प्रदेश में वापसी के बाद दिग्विजय सिंह की ताकत बढ़ी और उन्होंने बीजेपी का गढ़ मानी जाने वाली भोपाल सीट से ही दावा ठोक दिया. बीजेपी ने कट्टर हिंदु चेहरा साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर दांव खेला. भले ही प्रज्ञा पर कानूनी मुकदमे दर्ज थे और कांग्रेस की नजर में वो कमजोर उम्मीदवार थीं लेकिन जनता ने मोदी के नाम पर उन्हें इतने वोट दिए कि पहली बार चुनाव मैदान में उतरी प्रज्ञा ने दिग्विजय सिंह को धूल चटा दी. हालांकि दिग्विजय सिंह ने अपने बेटे को प्रदेश सरकार में केबीनेट मंत्री बनवाने के अलावा कई विधायक और नेता भी तैयार किए हैं.

इस बार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह अपने गृह क्षेत्र सीधी से ही हार गए हैं वहीं पूर्व उप मुख्यमंत्री सुभाष यादव के बेटे और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरूण यादव भी अपना गढ़ बचाने में कामयाब नहीं रहे. मोदी लहर में कांग्रेस के लगभग सभी क्षत्रप बेअसर साबित हुए हैं.

प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने गढ़ छिंदवाड़ा से अपने बेटे नकुल को जितवाकर कांग्रेस की बमुश्किल नाक बचाई है. बहुमत से 2 सीट कम होने के बावजूद पांच साल सत्ता बचाए रखना अब कमलनाथ के लिए तलवार की धार पर चलने से कम नहीं होगा क्योंकि इस बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के कई गढ़ और गुट धराशाही हो गए हैं. केंद्र में दोबारा मोदी सरकार आने के बाद से ही प्रदेश बीजेपी के नेताओं ने जोड़-तोड़ शुरू कर दी है. अब प्रदेश में सबसे शक्तिशाली गुट मुख्यमंत्री कमलनाथ का हो गया है. सरकार चलाने के साथ अब कमलनाथ की सबसे बड़ी जिम्मेदारी सभी गुट के विधायकों को एकजुट रखने की है.

ये भी पढ़ें-

रैलियों के मामले में भी मोदी-शाह टॉपर और राहुल-प्रियंका फिसड्डी रहे

Amethi election results: राहुल गांधी के लिए अमेठी की हार 'हुई तो हुई'

Modi 2.0 : मोदी की अगली पारी की ताकत बनेगी तीन शपथ

लेखक

अमित जैन अमित जैन @aajtak.amitjain

लेखक पत्रकार हैं और मध्‍य प्रदेश से जुड़ी राजनीति पर पैनी नजर रखते हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय