charcha me| 

होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 10 अगस्त, 2022 07:49 PM
  • Total Shares

इस बात में कोई शंका नहीं है कि 2014 के बाद भारतीय जनता पार्टी ने जीत का डंका बजाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. राज्य-दर-राज्य अपनी सरकार बनाती जा रही है. जब मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार नहीं बन पायी तो ज्योतिराज सिंधिया के साथ दो दर्जन विधायकों को कांग्रेस से तोड़ कर अपनी पार्टी में खींच लिया. कांग्रेस के विधायकों से इस्तीफा दिलाया और भाजपा ने अपना बहुमत साबित किया. परिणाम स्वरूप शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बन गये. हाल ही में देखें तो महाराष्ट्र में बीजेपी ने उद्धव ठाकरे की सरकार को गिराकर एकनाथ शिंदे की सरकार बनवा दी.

भले ही एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बने लेकिन, पार्टी ने भगवा फिर से लहरा दिया. इन घटनाक्रम ने भले ही भाजपा को सत्ता-सुख के मद्देनजर एक बड़ी बढ़त दी और ताकतवर बना दिया. लेकिन, क्षेत्रीय पार्टियां इस प्रकरण के बाद भयभीत हो गयी. जदयू तो भाजपा के साथ ऐसी बनी हुई थी कि बाघ के पंजे में कोई फंसा हो. ऐसे में जदयू को हर वक्त डर था कि कहीं जदयू के विधायक को तोड़कर एकाएक भाजपा अपना मुख्यमंत्री न घोषित कर दे.

Nitish Kumar, Bihar, Chief Minister, Tejashwi Yadav, Alliance, BJP. Narendra Modi, Chirag Paswan, Lalu Yadav आरजीडी के साथ आए जदयू को देखकर हैरत कैसी ये स्क्रिप्ट बहुत पहले ही लिख दी गयी थी

आरसीपी सिंह प्रकरण के बाद नीतीश कुमार का दिमाग डोला और राजनीति शिल्पी रहे नीतीश कुमार ने भी अपनी गणित धीमे-धीमे बिठानी प्रारंभ कर दी. पर्दे के पीछे तो यह खेल लंबे समय से चल रहा था. जिसका संकेत रमजान के दौरान इफ्तार पार्टी में नीतीश का पैदल पांव जाना और उसी अंदाज में तेजस्वी का भी नीतीश के यहां आना था. बहरहाल, खांटी समाजवादी रहे नीतीश कुमार का समाजवाद आंदोलन से ही प्रकट हुए लालू परिवार से जुगलबंदी बनाने में किसी प्रकार की असहजता नहीं हुई.

जैसा देखा जा रहा है कि यह सरकार अपना पूरा कार्यकाल ठीक-ठाक ढंग से पूरी कर लेगी. लोकसभा चुनाव में मजबूत दिख सकता महागठबंधन बिहार हिंदी पट्टी का सियासी क्षेत्र है. यहां जातीय समीकरण की बदौलत ही सियासत की सत्ता साधी जा सकती है. अभी की स्थिति देखें तो महागठबंधन काफी मजबूत है और यह मजबूती आगामी लोकसभा चुनाव में भी दिख सकती है.

दरअसल, भाजपा को अगर बिहार में कोई सत्ता में आने से रोक सकता था तो यह राजद थी. भाजपा की मजबूरी थी की वह अकेले दम पर नहीं आ पा रही थी तो जदयू को साथ लिया. ताकि, जदयू का कैडर वोट उसके साथ हो और वह गठबंधन की सरकार में रहे. अब ऐसे में जब दो बड़े कैडरों का वोट सीधे आपस में मिल जायेगा यानी राजद-जदयू तो निश्चित रूप से महागठबंधन भारी पड़ सकती है.

चूंकि, तेजस्वी के साथ एम व्हाई समीकरण है तो जदयू के साथ अति पिछड़ा खासकर कोयरी, कुर्मी व दलितों का एक बड़ा वर्ग हमेशा नीतीश कुमार पर भरोसा जताते आ रहा है. ऐसे में भाजपा को अब जमीनी स्तर पर अधिक काम करना होगा तभी लोकसभा चुनाव में वह टिक पायेगी. दरअसल, जितनी मेहनत भाजपा को करनी होगी, उससे आधी मेहनत में महागठबंधन का काम बन सकता है.

ये भी पढ़ें -

भाजपा ने नीतीश कुमार को 'उद्धव ठाकरे' बनाने की ठान ली है

नीतीश बस 'सत्ता कुमार' हैं, फिर चाहे भाजपा का साथ लेना पड़े या RJD का

सोनिया-राहुल को जेल भेजने को लेकर सुब्रह्मण्यन स्वामी के दावों में कितना दम है?

लेखक

Bibhanshu Singh Bibhanshu Singh @2275062259310470

घुमंतू स्वभाव का हूं। नयी व रोचक बातें खिलने की आदत है। खबर लेखन से जुड़ा हुआ हूं।

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय