charcha me| 

ह्यूमर

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   04-01-2019
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

बिजनेस हर कोई कर सकता है. मगर ये बिल्कुल भी जरूरी नहीं कि सबका बिजनेस कामयाब हो. बिजनेस जहां एक तरफ मेहनत मांगता है तो वहीं इसमें सफलता उसी को मिलती है जिसके पास आइडिया हो. बात आइडिया की चल रही है तो हमारे लिए सोशल मीडिया पर बड़ी ही तेजी के साथ वायरल हो रही एक तस्वीर का जिक्र करना बेहद जरूरी हो जाता है. जो तस्वीर फेसबुक ट्विटर समेत सोशल मीडिया के दीगर माध्यमों पर तेजी से फैली है वो एक चाट की दुकान बल्कि चाट के एक ठेले की तस्वीर है.

यूं तो हमारे आस पास 465 चाट के ठेले लगते हैं. मगर ऐसा क्या था जिसने इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर ला दिया? यदि सवाल ये हो तो जवाब बस इतना है कि इस चाट वाले के पास आइडिया था और आइडिया भी कोई ऐसा वैसा नहीं एक ऐसा आइडिया जो अगर सच हो गया तो चाट वाले का जीवन धन्य हो जाएगा.

बिजनेस, स्टार्टअप, आइडिया, गोल गप्पे  सोशल मीडिया पर गोलगप्पे के इस ठेले को बहुत तेजी के साथ शेयर किया जा रहा है

Jio अन लिमिटेड पानी पतासी नाम के चाट वाले ने एक बड़ा ही अनोखा ऑफर शुरू किया है. दुकानवाला हर उस व्यक्ति को जो इसे 100 रुपए देगा उसे 3 घंटे तक लगातार पानी के बताशे या फिर गोल गप्पे खिलाएगा. मगर इसकी एक शर्त है. ये ऑफर रोजाना केवल 6 से 9 के बीच रहेगा. बिजनेसमैन अपने काम के लिए कितना सीरियस है इसका अंदाजा इसके दूसरे ऑफर से लगाया जा सकता है. यदि कोई इसे 2000 रुपए दे देता है तो वो उस व्यक्ति को 30 दिन तक रोजाना गोल गप्पे मुफ्त में खिलाएगा.

ये आइडिया दुकानदार को किसने दिया इसे या तो दुकानदार खुद या फिर उसका रब जानता है. मगर इस बात में कोई संदेह नहीं है कि इसका प्लान अपने आप में बेमिसाल है. भले ही लोग ये कहकर इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर शेयर करें कि, ये बंदा अंबानी को कड़ी टक्कर दे रहा है. या फिर ये कि मार्केट में दूसरा बिजनेसमैन आया है. मगर क्या पता इसका ये आइडिया चल निकले और कल हमारे सामने एक ऐसा अंबानी हो जो कभी 100 रुपए में पूरे 3 घंटे गोलगप्पे खिलाता था और जिसके पास गोल गप्पों वाले अलग अलग ऑफर थे.

एक बहुत पुरानी फिल्म आई थी. गुलशन ग्रोवर पुलिस इंस्पेक्टर बने थे और गोल गप्पे खाने के शौकीन थे. फिल्म में उनका तकिया कलाम था कि जिंदगी का मजा तो खट्टे में है. गुलशन ने वो बात तब कही थी और आज ये तस्वीर हमारे सामने हैं. शायद ये चाट वाला जानता हो कि जब खट्टा खाकर जीवन को मजा मिलता है तो क्यों न कुछ ऐसा किया जाए जो भविष्य में एक मिसाल बने.

अंत में बस इतना ही कि इस व्यक्ति का जो आइडिया है उससे बड़े बड़े मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट को सबक लेना चाहिए. चाट वाले ने उन्हें जो आइडिया दिया है उन्हें वो आइडिया न तो कभी मोटी-मोटी किताबें दे पाएंगी और न ही ऊंची फीस वैसे भी किसी ऐड की टैगलाइन थी An Idea Can Change Your Life.

ये भी पढ़ें -

अगर प्रियंका -निक हमारे घर के बच्चे होते तो कुछ यूं रहती हलचल...

सुतली बम को सिर्फ न फूट पाने का दुख नहीं है

गौ अवशेष बर्दाश्त नहीं तो मृतक गाय का क्रिया-कर्म किया करो!

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय