होम -> इकोनॉमी

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 23 सितम्बर, 2019 02:07 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

इसी महीने की 13 तारीख को दिल्ली के मुखर्जी नगर में रहने वाले राजीव वर्मा से 5000 रुपए की ठगी की गई. इससे पहले 9 तारीख को मयूर विहार एक्सटेंशन में रहने वाले नित्या श्रीवास्तव को ठग कर 10,680 रुपए उनके खाते से उड़ा दिए गए. ये तो महज दो उदाहरण हैं. पिछले 3 महीनों में ऐसे करीब 150 मामले सामने आ चुके हैं. हैरानी हुई तो जरा रुकिए, असली हैरानी तो आपको तब होगी, जब इसकी वजह पता चलेगी. दरअसल, ये ठगी सिर्फ एक लिंक भेजकर की गई. यानी आपके पास एक लिंक आया और आपने उस पर क्लिक किया और खाते से पैसे गायब. सवाल ये उठता है कि ये सब हुआ कैसे?

दरअसल, इन दिनों ठगों ने UPI (यूपीआई) को ठगी का जरिया बना लिया है. इस UPI के जरिए ही पिछले 3 महीनों में करीब 150 लोगों को ठग लिया गया. आपको बता दें कि UPI के जरिए बेहद आसानी से किसी को भी पैसे भेजे या उससे पैसे लिए जा सकते हैं. जरूरत होती है सिर्फ UPI पिन की. बेशक UPI ने लोगों का पैसों का लेन-देन बेहद आसान बना दिया है, लेकिन इसी UPI के लापरवाह इस्‍तेमाल को ठगी करने वालों ने निशाना बनाया है.

यूपीआई, बैंक, ठगीपिछले 3 महीनों में करीब 150 लोगों को UPI के जरिए ठग लिया गया है.

ठगने का तरीका आसान और उलझाने वाला

UPI के जरिए न सिर्फ पैसे भेजे जा सकते हैं, बल्कि पैसे मांगे भी जा सकते हैं. बस ये मांगने वाला विकल्प ही लोगों के खाते खाली कर रहा है. ऐसे में मामलों में ठग बात तो करते हैं पैसे देने की, लेकिन पैसे मांगने वाला लिंक (डेबिट लिंक) भेज देते हैं. जैसे ही कोई इस लिंक पर क्लिक कर के UPI पिन डालता है, उसके पैसे कट जाते हैं. जबकि UPI में सिर्फ पैसे मांगने के लिए ही अनुमति की आवश्‍यकता होती है, भेजने के लिए नहीं. लेकिन ठगी करने वालों ने UPI का इस्‍तेमाल करने वाली अज्ञानता और लापरवाही का फायदा उठाते हुए पैसे भेजने के नाम पर निकालने का लिंक भेज दिया. और ठगी का शिकार हुए लोगों ने खुशी-खुशी उसे 'Ok' कर दिया, ये सोचकर कि पैसा उनके अकाउंट में आ रहा है.

अब एक उदाहरण से समझिए इसे

मान लीजिए आपने Olx पर एक पुराना मोबाइल बेचने के लिए विज्ञापन दिया. उसे देखकर कोई ठग आपको फोन करेगा और कहेगा कि वह आपका पुराना मोबाइल खरीदना (मान लीजिए 10 हजार रुपए का) चाहता है. डील पक्की होने पर वह पैसे ना तो आपके खाते में ट्रांसफर करेगा ना ही कैश देगा. वह UPI से 10 हजार रु. भेजने के नाम पर डेबिट रिक्‍वेस्‍ट लिंक आपको भेजेगा. थोड़ी सी लापरवाही हुई नहीं कि आप उस लिंक पर क्लिक कर के UPI पिन डाल देंगे. और इस तरह आपको 10 हजार रुपए मिलने के बजाय, आपके ही खाते से 10 हजार रुपए काट जाएंगे.

Phone Pay से भी हो रही है ठगी

बहुत से लोग अपने मोबाइल में Phone Pay इंस्टॉल करके रखते हैं और उसी से भुगतान करते हैं. उन्होंने फोन पे ऐप को UPI के जरिए अपने खाते से कनेक्ट किया हुआ होता है. अब मान लीजिए किसी ने आपसे कहा कि वह आपको फोन पे से पैसे देगा. वो आपको मैसेज करेगा और उसमें एक मैसेज लिखेगा, जो आपको लगेगा कि पैसे रिसीव करने के लिए है. जैसे उसमें लिखा हो सकता है कि पैसे रिसीव करने के लिए नीचे क्लिक करें. आप क्लिक करेंगे और पैसे आपके खाते से गायब.

यूपीआई, बैंक, ठगीफोन पे के जरिए भी हो रही है ठगी, जो दरअसल UPI आधारित ही है.

ठगी से बचने का क्या है तरीका?

सबसे पहली बात तो ये कि आप पेमेंट लिंक से पैसे ना भेजें. जिसे भी पैसे भेजने हैं आप सीधे उसे अपने UPI ऐप या फिर खाते से पैसे भेजें. ऐसा करने पर कोई कंफ्यूजन नहीं रहेगा कि आप पैसे भेज रहे हैं या आपको पैसे मिल रहे हैं.

किसी पेमेंट लिंक के जरिए पैसे तभी भेजें, जब आप डेबिट लिंक को पहचानने में गलती ना करें. वैसे भी किसी भी पेमेंट गेटवे में सिर्फ PAY का ऑप्‍शन होता है. Recieve के लिए कोई जरूरत नहीं होती. तो पेमेंट करने वाले पेज पर ये साफ लिखा होता है कि आप पैसे भेज रहे हैं या आपको पैसे मिल रहे हैं, लेकिन अक्सर लोग जल्दबाजी में पेज पर लिखी जानकारियों को ठीक से नहीं पढ़ते और रिमार्क को ही देखकर UPI पिन डाल देते हैं. ठग इस रिमार्क में ऐसी बात लिखते हैं, जो यूजर को थोड़ा कंफ्यूज कर सके.

क्या ऐसी स्थिति में पैसे वापस मिलते हैं?

बैंकों के डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के जरिए अगर कोई फ्रॉड हो जाता है तो ग्राहकों के पास ये विकल्प होता है कि वह इसके बारे में बैंकों को सूचित करें. अधिकतर मामलों में ग्राहकों के ठगे गए पैसे उन्हें वापस मिल जाते हैं. लेकिन अगर UPI के जरिए कोई फ्रॉड होता है तो ऐेसे में ग्राहकों को उनका पैसा बैंक से वापस नहीं मिलता है. हो सकता है कि 1-2 फीसदी मामलों में पैसा मिल भी जाए, लेकिन 98-99 फीसदी मामलों में UPI ट्रांजेक्शन के लिए हुई ठगी के पैसे वापस नहीं मिलते हैं.

बैंकों में फ्रॉड की छानबीन करने वाले एक इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर के अनुसार डेबिट और क्रेडिट कार्ड से हुए फ्रॉड के पैसे इसलिए वापस मिल जाते हैं, क्योंकि इन कार्ड्स का इंश्योरेंस होता है. ऐसे में कोई फ्रॉड होने की सूरत में बैंक अपने ग्राहकों के कार्ड पर इंश्योरेंस क्लेम कर लेते हैं और पैसे मिलते ही ग्राहकों को दे देते हैं. ऐसे में ग्राहकों का पैसा उन्हें वापस मिल जाता है. वहीं दूसरी ओर, UPI से भुगतान बिल्कुल वैसा है कि आप किसी को अपने खाते से पैसे ट्रांसफर करते हैं. आपके सामने पूरी जानकारी होती है कि आप किसे, कितने पैसों का भुगतान कर रहे हैं. पिन आप खुद ही डालते हैं. यानी ये यूजर ही होता है, जो ऑथेन्टिकेशन की हर स्टेज को अप्रूव करता है. ऐसे में बैंक UPI के जरिए हुए फ्रॉड के मामलों में पैसे वापस नहीं देते.

ठगी होने पर कहां करें शिकायत?

अगर लाख बचने की कोशिशों के बावजूद आप UPI के जरिए ठगी का शिकार हो जाते हैं, तो आपको सबसे पहले तो ये समझ लेना चाहिए कि बैंक आपके पैसे नहीं लौटा पाएगा. हालांकि, आपके पास एक विकल्प है, जिसके जरिए आप अपने पैसे वापस पा सकते हैं. इसके लिए आपको ठग को बिना भनक लगे उसकी सूचना साइबर पुलिस को देनी होगी और ठग को अपनी बातों में उलझाए रखना होगा. ऐसे मामलों में साइबर पुलिस तेजी से एक्शन लेती है और अपराधी को दबोच लेते है. अगर अपराधी पकड़ा जाता है तो एक तो आपके पैसे वापस मिलेंगे, अपराधी जेल जाएगा और ऊपर से आपकी इस हिम्मत की वजह से बहुत से लोग ठगी से बच जाएंगे जो आने वाले समय में उस ठग का शिकार हो सकते थे.

ये भी पढ़ें-

नौकरी के मुद्दे पर संतोष गंगवार सही हैं, और ये मोदी सरकार की नाकामी है

GDP के 1 फीसदी घटने का नौकरी और आमदनी पर असर समझ लीजिए...

इनकम टैक्स को लेकर जिस फैसले की उम्मीद थी, वो लागू होने वाला है

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय