charcha me| 

होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 12 अप्रिल, 2019 02:53 PM
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

फिल्म Student Of the Year 2 का Trailer आ गया है और करण जौहर ने इस फिल्म में भी वही कमाल कर दिखाया है जो उनकी फिल्मों से उम्मीद की जा सकती है. पर यकीन मानिए करण इस फिल्म में अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ने वाले हैं. अगर मेरी बात समझ नहीं आ रही तो साफ शब्दों में कहती हूं. करण जौहर की स्टूडेंट ऑफ द इयर 2 में बस जादू (Magic) की कमी थी वो बिलकुल लो बजट हैरी-पॉटर बन सकती थी. यहां तो स्टूडेंट्स को उड़ने के लिए झाड़ू की भी जरूरत नहीं और किसी ने 'विंगार्डियम लेवियोसा' बोला. (हैरी पॉटर सीरीज का उड़ने वाला मंत्र, केवल हिंदी डबिंग वाली फिल्मों में मिलता है.)

अब टाइगर श्रॉफ को ही देख लीजिए. फिल्म ट्रेलर के 30 सेकंड के अंदर वो एक बिल्डिंग से छलांग लगा चुके हैं, एक स्टेडियम में उछल कूद कर चुके हैं और कबड्डी (दिखने में वो खेल कबड्डी ही लग रहा है.) के बाकी प्लेयर्स को क्रिकेट के स्टम्प की तरह उड़ा चुके हैं. इतना सब कुछ सिर्फ 30 सेकंड में. है न कमाल? Student of the year 2 Trailer में कुछ बातें खास तौर पर देखी जा सकती हैं.

- टाइगर श्रॉफ का उछलना (बागी के जमाने से वो यही करते आ रहे हैं.)

- हिरोइनों का एक्सट्रा ग्लैमरस होना (काश मैं भी इस कॉलेज में होती.)

- हीरो का स्टूडेंट ऑफ द इयर खिताब जीतकर दुनिया जीत लेना (महत्वकांक्षा की हद या यूं कहें कि कवि की कल्पना देखिए.)

- हिरोइन का काम क्या है वो समझ नहीं आया. (कोई ये कहे कि लड़कियों का कॉलेज में कोई गोल नहीं होता तो मेरे अंदर की फेमिनिस्ट जाग जाएगी.)

- कॉलेज में उछलना कूदना गाना गाना जरूरी है, लेकिन पढ़ाई उतनी नहीं (काश एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज से सरकारी नौकरी मिल जाती.)

- ट्रेलर की शुरुआत में बोला जाता है 'Gooooood Morrrrrrrning Student' (जी हां, सही पहचाना लगे रहो मुन्ना भाई की विद्या बालन का ओपनिंग डायलॉग.)

- इस फिल्म में 'ये जवानी है दीवानी' गाने का रीमेक भी है.

पर जो भी हो यकीन मानिए स्टूडेंट ऑफ द इयर 2 की जरूरत महसूस नहीं हो रही थी. खैर, तारा सुतारिया और अनन्या पांडे को लॉन्च करने के लिए फिल्म बना भी दी, लेकिन फिर फिल्म में उनकी अहमियत तो दिखानी चाहिए थी. वो ट्रेलर से तो बिलकुल गायब हैं और ट्रेलर में सिर्फ टायगर श्रॉफ की बॉडी, स्टंट और डायलॉग डिलिवरी दिखाई गई है.

एक डायलॉग है जो टाइगर बार-बार बोल रहे हैं, 'दिन तेरा था, लेकिन साल मेरा होगा.' इसे देखकर 'हीरोपंती' का डायलॉग याद आ गया, 'सबको आती नहीं, मेरी जाती नहीं.' टाइगर की डायलॉग डिलिवरी वैसी ही है. हीरोपंती जैसी.

हां टाइगर श्रॉफ ने वापस वही स्टंट नए रूप में दोहराए हैं जो अन्य फिल्मों में थे.हां टाइगर श्रॉफ ने वापस वही स्टंट नए रूप में दोहराए हैं जो अन्य फिल्मों में थे.

पहली स्टूडेंट ऑफ द इयर को अप्रत्याशित तौर पर अच्छी फिल्म नहीं कहा जा सकता है, वो फिल्म सिर्फ एंटरटेनिंग थी और तीन नए चेहरों का लॉन्चपैड थी. पर नई वाली का ट्रेलर देखकर तो पुरानी वाली यकीनन मास्टर पीस लग रही है.

चलिए मैं बुक को कवर से नहीं जज करती, लेकिन ट्रेलर तो किसी फिल्म का आइना होता है उसे भला ऐसा क्यों बनाया गया? और हां, मार्वल के दो सुपर हीरो वाले सीन का मजाक उड़ाना. बेहद निंदनीय है.

क्या अच्छा लगा ट्रेलर में?

  • अनन्या पांडे की डायलॉग डिलिवरी, 'Park Here now Princess'. एटिट्यूड वैसा ही दिख रहा है जैसा दिखना चाहिए.
  • 'मुन्ना माइकल' की तरह यहां भी टाइगर की हिरोइन डांस कॉम्पटीशन जीतने के लिए बेताब हैं. पर कम से कम एक लड़की के पास कोई गोल तो है. ये अच्छी बात है कि एक हिरोइन तो अपने सपने पूरा करने के बारे में सोच रही है.
  • फिल्म में विलेन भी है जो टाइगर को पीटकर गेट के बाहर फेंक देता है और टाइगर को कॉलेज से निकाले जाने वाला भी एक सीन है, मतलब ड्रामा होगा फिल्म में. और कहीं तो टाइगर श्रॉफ की बॉडी और स्टंट से कुछ अलग देखने को मिलेगा.

टाइगर श्रॉफ में कोई बुराई नहीं न ही उनके स्टंट्स में लेकिन हर फिल्म में एक ही जैसी एक्टिंग और कॉमेडी करना सही नहीं है न. पब्लिक बोर भी हो जाती है.

ट्रेलर में दोनो हिरोइनों का कोई रोल समझ नहीं आ रहा है कि वो क्यों वहां हैं. बिना उनके भी ट्रेलर बनता तो ऐसा ही लगता.ट्रेलर में दोनो हिरोइनों का कोई रोल समझ नहीं आ रहा है कि वो क्यों वहां हैं. बिना उनके भी ट्रेलर बनता तो ऐसा ही लगता.ट्रेलर के आधे हिस्से में टाइगर श्रॉफ बोलते हैं, 'टेरेसा का स्टड, किशोरीलाल चमनदास कॉलेज के हाथों से डिग्निटी ट्रॉफी हारेगा', यानी टेरेसा से निकाले जाने के बाद शायद टाइगर श्रॉफ ने कॉलेज बदल लिया हो. पर 'डिग्निटी ट्रॉफी हारेगा' और इस डायलॉग के साथ टाइगर श्रॉफ की तैयारी जो बोरी उठाने से लेकर टायर में कूदने तक सब कर रहे देखकर एक फिल्म की याद आ गई जो अपने जमाने की हिट थी. फिल्म है 'जो जीता वही सिकंदर' यानी यहां टाइगर श्रॉफ मॉर्डन आमिर खान की तरह अंग्रेजी मीडियम के लड़कों को हराने की कोशिश कर रहे हैं. ट्रेलर से ये लग रहा है और अगर कहानी भी यही है तो मैं मायूस हूं क्योंकि यहां भी बात पुरानी कहानी की हो गई है.

बहरहाल, स्टूडेंट ऑफ द इयर 2 से मैं बहुत उम्मीद लगा रही थी, लेकिन ट्रेलर ने निराश ही किया है.

ये भी पढ़ें-

50 का आशिक और 25 की माशूका वाला बॉलीवुड का फंडा

बॉलीवुड के ये 10 सितारे वोट अपील तो कर सकते हैं, वोट नहीं दे सकते

 

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय