होम -> सिनेमा

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 02 जुलाई, 2018 08:33 PM
मनीष जैसल
मनीष जैसल
  @jaisal123
  • Total Shares

'जिंदगी का मजा हमने बहुत कम लिया है, अब वापस लौटा हूं जिदंगी भर का मजा लूंगा.' -संजय दत्त का यह संवाद आगामी 27 जुलाई को रिलीज होने वाली फिल्म साहब बीबी और गैंगेस्टर-3 का है. हाल ही में फिल्म का ट्रेलर लांच हुआ है. शुक्र मनाइए फिल्म का ट्रेलर राजकुमार हिरानी की फिल्म संजू के साथ रिलीज नहीं हुआ नहीं तो एक तरफ दर्शक संजय दत्त को महान रूप में देखने से पहले ही उनका खलनायकीय रूप की झलक फिल्म के ट्रेलर से देख लेते. फिर दर्शकों को फिल्म संजू में दिखाये गए महान संजय और साहब बीबी और गैंगेस्टर-3 के ट्रेलर में दिख रहे संजय दत्त बने गैंगेस्टर में फर्क कर पाना थोड़ा मुश्किल हो जाता.

संजय दत्त, साहब बीवी गैंगस्टर, फिल्म, खलनायक     एक बार फिर साहब बीवी गैंगस्टर के सीक्वेल में संजय दत्त अपने पुराने रूप में नजर आने वाले हैं

अपनी निजी ज़िंदगी में कई उतार चढ़ाव देख चुके संजय दत्त को लेकर निर्देशक राजकुमार हिरानी ने बायोपिक संजू से उनकी एक सकारात्मक छवि का निर्माण करने की पुरजोर कोशिश की है. कह सकते हैं जो दर्शक पहले संजय को घोर अपराधी मान रहे थे उनके अन्तर्मन में उनके लिए थोड़ी सी आत्मीयता भी जगी. फिल्में इन दिनों छवि निर्माण का महत्वपूर्ण जरिया है. ऐसे में साहब बीबी और गैंगेस्टर-3 में संजय दत्त का फिर से अपराधी की तरह पर्दे पर दिखना कितना सही है यह आने वाला वक्त बताएगा. फिलवक्त फिल्म का ट्रेलर लांच हुआ है जिसमें संजय के अलावा जिमी शेरगिल, माही गिल, चित्रांगदा सिंह, कबीर बेदी, दीपक तिजोरी, नफीसा अली और जाकिर आदि दिख रहें हैं.

कहना गलत नहीं होगा कि पूर्व की फिल्मों कि भांति इसमें भी वहीं राजशाही, वहीं भव्य सेट और आन बान शान का जिक्र दिखता है. साहब बीबी और साथ में गैंगेस्टर के त्रिकोणीय संबंध को निर्देशक तिग्मांशु धूलिया निर्देशित कर रहें हैं. हाल ही में धूलिया ने रागदेश फिल्म बनाई थी जिसे समीक्षकों ने काफी सराहा था. 2011 में साहब बीबी और गैंगेस्टर और अब इसी के तीसरे भाग में वे नई कहानी दर्शकों के समक्ष पेश करने वाले हैं.

"मेरे बारे में जो भी सुना होगा बुरा ही सुना होगा, लेकिन मैं इतना भी बुरा नहीं कि मेरे बगल में खड़े होने से बदनाम हो जाओ." यह संवाद फिल्म के ट्रेलर में जरूर है लेकिन निजी जीवन में भी संजय के साथ इसी तरह की स्थिति बनी थी जिसे काफी हद तक दूर करने में हिरानी की फिल्मों ने मदद की थी. अब फिर से खलनायीक रूप में जिस तरह संजय फिर से कूदे हैं यह भले ही उनका निजी फैसला हो लेकिन ये दर्शकों के मन में अंतर्द्वंद वाली स्थिति जरूर पैदा करेगा,

एक तरफ हिरानी का स्पष्ट छवि को उकेरता सिनेमा तो दूसरी तरह दर्शकों के मन में पहले से बनी फिल्म वास्तव, खलनायक आदि वाली छवि के बाद फिर से साहब बीबी और गैंगेस्टर-3 में गोली बारी करते संजय दत्त. फिलहाल दर्शकों ने फिल्म संजू को हाथों हाथ लेते हुए बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा दिया है लेकिन जैसे जैसे संजू का खुमार अगले शुक्रवार खत्म होगा वे फिर से खलनायकीय रूप में दिखने वाले संजू से रूबरू होंगे और 27 जुलाई को साहब बीबी और गैंगेस्टर-3 की रिलीजिग पर पूरी तरह दर्शक अपने पुराने संजय दत्त से मिल पाएंगे. जो खून खराबा और अपराधी प्रवृत्ति को पर्दे पर दिखाता था.

ये भी पढ़ें -

5 कारण मैं क्यों संजू फिल्म देखना चाहती हूं

'संजू': संजू बने रनबीर को दर्शकों के प्यार से मालामाल करेगी या संजू बाबा को?

अखबारी रिपोर्टिंग पर भी तंज़ कसती है हिरानी की 'संजू'

 

Sanjay Dutt, Villian, Trailer

लेखक

मनीष जैसल मनीष जैसल @jaisal123

लेखक सिनेमा और फिल्म मेकिंग में पीएचडी कर रहे हैं, और समसामयिक मुद्दों के अलावा सिनेमा पर लिखते हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय