होम -> सिनेमा

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 05 सितम्बर, 2016 06:15 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

कभी सत्या, शूल और कंपनी जैसी फिल्मों के लिए पहचाने जाने वाले फिल्मकार राम गोपाल वर्मा हाल के वर्षों में अपनी फिल्मों से ज्यादा विवादों की वजह से चर्चा में रहते हैं. एक लंबा अरसा हुआ रामू की कोई हिट फिल्म आए, लेकिन अपने विवादित बयानों और ट्विट्स की वजह से मीडिया की सुर्खियों में छाए रहते हैं.

देश-दुनिया से लेकर, स्पोर्ट्स, फिल्मों और फिल्मकारों की आलोचना तो राम गोपाल वर्मा करते ही रहे हैं लेकिन उन्होंने दो साल पहले गणेश चतुर्थी के दौरान भगवान गणेश का मजाक उड़ाते और उन पर निशाना साधते ट्वीट्स से जरूर उन्होंने लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत कर दी थी. ऐसा करके वह लोगों के निशाने पर आ गए थे, हालांकि उन्होंने बाद में इन ट्वीट्स के लिए माफी भी मांग ली थी.

राम गोपाल वर्मा ने भगवान गणेश का उड़ाया था मजाक!

लेकिन इस गणेश चतुर्थी में लगता है राम गोपाल वर्मा को भगवान गणेश का मजाक उड़ाने की अपनी अतीत में की गई गलतियों का अहसास हो गया है. तभी तो उन्होंने 5 सितंबर से शुरू हुई गणेश चतुर्थी के उत्सव के दौरान भगवान गणेश के आगे हाथ जोड़े अपनी एक तस्वीर ट्ववीट करते हुए भगवान से अतीत में उनके द्वारा की गई गलतियों को माफ कर दिए जाने की प्रार्थना की है.

अब ये तो नहीं पता कि अतीत में की गई उनकी बकवास के लिए भगवान गणेश उन्हें माफ करेंगे या नहीं लेकिन एक बात तो तय है कि अपने करियर में उन्होंने कुछ बेसिर-पैर की ऐसी फिल्में जरूर बनाई हैं जिनके लिए दर्शक शायद उन्हें कभी माफ न कर पाएं!

जिसने भी उनकी शोले की रीमेक की कोशिश फिल्म आग या अमिताभ के लीड रोल से सजी रण जैसी फिल्में देखी होंगी वह तो पक्का कभी राम गोपाल वर्मा को इतनी घटिया फिल्में बनाने के लिए माफ नहीं करेगा. आइए जानें अतीत में राम गोपाल वर्मा के उन अक्षम्य अपराधों (बकवास फिल्मों) के बारे में जिसके लिए उन्हें कभी माफी नहीं मिलेगी!

1.RGV की आग (2007): भारतीय सिनेमा इतिहास की सबसे सफल फिल्मों में शुमार रही शोले की रीमेक बनाने की भला कौन सोच सकता है. लेकिन राम गोपाल वर्मा ने ये करने की कोशिश की. एक लीजेंडरी फिल्म की रीमेक की उनकी कोशिशों पर लोगों ने शुरू से ही सवाल उठाए. खैर राम गोपाल वर्मा ने अमिताभ को विलेन बनाकर और बसंती के किरदार को तांगा चलाने वाली की जगह ऑटो रिक्शा ड्राइवर बनाकर फिल्म की ऐसी भद्द पीटी कि इस फिल्म को सबसे फ्लॉप फिल्मों में जगह मिल गई. फिल्म में अजय देवगन और सुष्मिता सेन जैसे स्टार्स भी थे, लेकिन ये फिल्म बॉलीवुड की सबसे घटिया फिल्मों में से एक मानी जाती है.

aag_090516045040.jpg
2003 में आई फिल्म राम गोपाल वर्मा की शोले की रीमेक आग सुपर डुपर फ्लॉप रही

2. डार्लिंग (2007): आग के अलावा उसी साल राम गोपाल ने एक और जबर्दस्त फ्लॉप फिल्म बनाई थी, डार्लिंग. फरदीन खान, ईशा देओल और ईशा कोप्पीकर के लीड रोल वाली यह हॉरर रोमांटिक फिल्म बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह पर गिरी. न तो रामू की स्टोरी में दम था और न ही फिल्म के ऐक्टर्स की ऐक्टिंग में, नतीजा फिल्म सुपर डुपर फ्लॉप साबित हुई.

यह भी पढ़ें: रजनीकांत से पंगा लेकर अपना ही नुकसान कर रहे हैं रामू

darling_090516045146.jpg
वर्ष 2007 में आई फिल्म डार्लिंग भी जबर्दस्त फ्लॉप रही थी

3. रण (2010): फिल्म रण में राम गोपाल वर्मा ने आज के मीडिया के गिरते स्तर पर निशाना साधा था. फिल्म में अमिताभ बच्चन के काम की तारीफ हुई और उसके एकमात्र प्लस पॉइंट भी थे. लेकिन फिल्म बिना कोई छाप छोड़े बॉक्स ऑफिस पर कब आई और कब चली गई, किसी को पता भी नहीं चला. अमिताभ बच्चन, परेश रावल और रितेश देशमुख जैसे बड़े नाम होने के बावजूद बॉक्स ऑफिस पर फिल्म महज 12 करोड़ रुपये की कमाई ही कर पाई.

rann_090516045254.jpg
स्क्रिप्ट कमजोर थी तो अमिताभ की मौजूदगी भी 'रण' को डूबने से बचा नहीं पाई

4.नॉट ए लव स्टोरी (2010): एक्सपेरीमेंटल फिल्में बनाने में माहिर रामू ने 2008 में हुई नीरज ग्रोवर की हत्या की घटना को पर्दे पर उतारने की कोशिश की. लेकिन दीपक डोबरियाल और माही गिल के लीड रोल वाली फिल्म नॉट ए लव स्टोरी राम गोपाल वर्मा की भुला दी जाने वाली फिल्मों में से एक बनकर रह गई और बॉक्स ऑफिस पर अपनी लागत भी नहीं निकाल पाई.

not-a-love-story_090516045352.jpg
नॉट ए लव स्टोरी रामू की सबसे बड़ी फ्लॉप फिल्मों में से एक रही

5.नाच (2003): अभिषेक बच्चन, अतंरा माली और रितेश देशमुख जैसे स्टार्स को लेकर 2003 में रामू ने फिल्म नाच बनाई थी. लेकिन न तो लोगों को फिल्म की कहानी समझ में आई न ही ऐक्टिंग. 13 करोड़ की लागत में बनी यह फिल्म महज 3.2 करोड़ कमाकर सबसे फ्लॉप फिल्मों की लिस्ट में शुमार हो गई.

naach_090516045502.jpg
फिल्म नच बॉक्स ऑफिस पर अपनी लागत भी नहीं निकाल पाई

इन सुपर फ्लॉप फिल्मों को देखने वाले दर्शक शायद ही कभी राम गोपाल वर्मा को माफ कर पाएं! और यदि गणपति बप्‍पा की नजर पड़ी होगी तो वे भी रामू को माफ नहीं करेंगे.

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय