होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 15 नवम्बर, 2019 02:11 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

इस वीकेंड जो फिल्में रिलीज़ हुई हैं उनमें मरजावां (Marjaavaan), मोतीचूर चकनाचूर (Motichoor chaknachoor), मेक इन इंडिया (Make in India), मरने भी दो यारों (Marne Bhi do yaaron) और झलकी (Jhalki) की चर्चा हो रही है. लेकिन इन फिल्मों में से दो ही फिल्में ऐसी हैं जिनको लेकर लोगों में रुचि बनी हुई है. पहली सिद्धार्थ मल्होत्रा(Siddharth Malhotra) और रितेश देशमुख(Ritesh Deshmukh) की मरजावां और दूसरी है नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) और आथिया शेट्टी (Athiya Shetty) की मोतीचूर चकनाचूर. दोनों ही फिल्में लगभग एक ही स्तर पर हैं. लेकिन अगर बड़ी कास्ट की बात करें तो marjaavaan भारी पड़ती है. लेकिन marjaavaan movie review, ratings, box office collection लोगों को निराश कर सकता है.

marjaavaan Film review जो अच्छे नहीं हैं

जी हां, दो ही सूरतों में आप इस फिल्म को देखने जा सकते हैं- या तो आप इस फिल्म के कलाकारों के जबरदस्त फैन हों या फिर आपका समय काटे नहीं कट रहा हो और फिल्म देखना मजबूरी हो. इन दोनों बातों के अलावा अगर आप फिल्मे देखेंगे तो ठगा हुआ ही महसूस करेंगे.  

marjaavaan  reviewफिल्म में एक्शन और इमोशन खूब डाला गया लेकिन फिरभी कमी रह गई

Siddharth Mehrotra और Ritesh Deshmukh को साथ लेकर 2014 में बनी फिल्म एक विलेन वाली कहानी दोहराने की कोशिश की गई है. लेकिन यकीन कीजिए एक विलेन इससे ज्यादा अच्छी थी. पहले भी फिल्म में रितेश देशमुख बाजी मार ले गए थे जिसमें वो पहली बार विलेन के रूप में देखाई दिए थे और इस बार भी फिल्म में वही हैं जिन्हें कुछ समय तक याद किया जा सकता है. वजह है उनका लुक. रितेश फिल्म में विलेन के साथ-साथ 3 फिट के बौने भी बने हैं. फिल्म में दो हिरोइन भी हैं पहली Rakulpreet जो बार डांसर बनी हैं और दूसरी Tara Sutaria जो बोल नहीं सकतीं. ये दोनों खूबसूरत तो हैं लेकिन फिल्म में बहुत कमाल नहीं कर पाईं.

लेकिन अच्छी फिल्म बनाने के लिए इतना ही नहीं चाहिए होता, एक अच्छी कहानी भी जरूरी होती है, जो यहां है ही नहीं. फिल्म के लेखक और निर्देशक मिलाप जावेरी ने कई फिल्मों की कहानी लिखी है लेकिन निर्देशक के तौर पर ये उनकी चौथी फिल्म है. उनकी पिछली फिल्म सत्यमेव जयते हिट थी लेकिन इस बार मार मिलाप जावेरी मार खाते नजर आ रहे हैं.

डायलॉग दमदार नहीं, अजीब हैं

कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा भानुमति ने कुनबा जोड़ा...ये कहावत इस फिल्म पर एकदम फिट बैठती है. क्योंकि कहानी की बात करें तो यूं लगता है जैसे किस्से जोड़-जोड़ कर एक कहानी बना दी गई है और इसीलिए मरजावां की कहानी बहुत प्रभावित नहीं करती. उपर से फिल्म के डायलॉग इस फिल्म को और खराब कर देते हैं. प्रभावशाली बनने के बजाए वो सेंसलेस सुनाई देते हैं. जिसकी वजह से अच्छा सीन भी कॉमेडी सीन बन जाता है. 'तोड़ुंगा भी और तोड़ के जोड़ुंगा भी', 'मैं मारुंगा मर जाएगा, दोबारा जनम लेने से डर जाएगा'... अरे कुछ भी मतलब !

फिल्म में सिर्फ एक ही चीज मरजावां से मेल खाती है और वो है हीरो की प्रमिका का मरजाना जिसे मारने वाला खुद हीरो यानी उसका प्रेमी ही हो. ये अलग है और अजीब भी लगता है क्योंकि ऐसा अमूमन कोई नहीं करता, और फिल्मों में भी ऐसा कभी नहीं देखा गया. लेकिन कमजोर स्क्रीनप्ले इस फिल्म के ले डूबा. फिल्म में न कहानी प्रभावित करती है, न एक्शन, न इमोशन और न ही फिल्म का निर्देशन ही ऐसा था जो फिल्म की खामियों को छिपा पाता.

marjaavaan social media reactions जो देखने बहुत जरूरी हैं

किसी भी फिल्म को देखने से पहले उन लोगों की बात जरूर सुन लेना चाहिए जो फिल्म देखकर आए हैं. सोशल मीडिया पर फिल्म को लेकर मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

किसी को पसंद नहीं आई तो किसी को पैसा वसूल लगी.

marjaavaan  reviewरितेश देशमुख ही फिल्म में देखने लायक हैं

Ritesh Deshmukh ही खींचेंगे फिल्म

'कमीनेपन की हाइट होती है तीन फुट' इस डायलॉग ने कम से कम Ritesh Deshmukh को फ्रंट फुट पर लाने की कोशिश जरूर की है लेकिन फिल्म में उन्हें 3 फिट का दिखाए जाने की कोई खास जरूरत थी नहीं. उनको बौना दिखाया जाना अगर सिर्फ दर्शकों को खींचने के लिए था तो निर्देशक को पहले ही समझ लेना चाहिए था कि जब दर्शकों ने फिल्म फैन में 3 फिट के शाहरुख खान को खारिज कर दिया था तो फिर रितेश क्या चीज है. लेकिन फिर भी रितेश का अभिनय असर करता है. और उनके चाहने वाले उन्हें इस रूप में देखने जरूर पहुंचेंगे.

फिल्म रिव्यू के स्टार मत खोजिए नहीं तो कन्फ्यूज़ हो जाएंगे. किसी ने 1/2 तो किसी ने 3.5 भी दिए हैं.

ये भी पढ़ें-

बॉलीवुड में हीरो का विलेन बनना एक सफल एक्सपेरिमेंट रहा है

अरेंज मैरिज या लव मैरिज? आज की लड़कियों की सोच हैरान कर सकती है

ज्यादा कमाने वाला पार्टनर धोखा तो दे सकता है लेकिन भारत में?

Film Review, Sidharth Malhotra, Ritesh Deshmukh

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय