होम -> सिनेमा

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 09 फरवरी, 2019 04:00 PM
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

कंगना रनौत की फिल्म Manikarnika: The Queen of Jhansi धीरे-धीरे 100 करोड़ के जादुई आंकड़े तक पहुंच रही है. रिलीज के 12वें दिन मणिकर्णिका का Box Office Collection 84 करोड़ हो चुका है. मणिकर्णिका के साथ ही बढ़ रहे हैं उससे जुड़े विवाद. पहले कंगना रनौत का फिल्म के डायरेक्टर से विवाद हुआ और अब कंगना एक के बाद एक बॉलीवुड के अलग-अलग दिग्गजों पर सिलसिलेवार आरोप लगा रही हैं. कंगना को इस कारण लगभग हर जगह ट्रोल किया जा रहा है और यही नहीं पूरा बॉलीवुड एक तरह से उनका बहिष्कार कर रहा है. अब इसी कड़ी में ताज़ा मामला आलिया भट्ट का है जहां कंगना ने आलिया पर आरोप लगाया है कि वो करण जौहर के हाथ की कठपुतली हैं और इसीलिए मणिकर्णिका के बारे में कुछ नहीं बोल रही हैं.

पहली नजर में देखें तो शायद किसी को ये लग सकता है कि कंगना गलत हैं और उन्हें सिर्फ बॉलीवुड के बाकी लोगों पर आरोप लगाने आते हैं. कम से कम यही सोशल मीडिया के दिग्गज कह रहे हैं, लेकिन एक बात बताइए क्या तीन नैशनल अवॉर्ड जीतने वाली अभिनेत्री को सिर्फ आरोप लगाना ही आता होगा? इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि कंगना रनौत का काम काबिलेतारीफ है. वो जो भी हैं आज अपने दम पर हैं और उन्हें एक के बाद एक अपने काम की वजह से ही सराहा जा रहा है.

कंगना को गलत कहने से पहले खुद से कुछ सवाल पूछिए-

1. क्या कंगना रनौत ने नेपोटिज्म की चर्चा छेड़कर कुछ गलत कहा था? क्या फिल्म इंडस्ट्री का ये चेहरा नहीं है? ये तो फिल्म इंडस्ट्री में काम करने वाले लाखों लोग भी जानते हैं.

2. क्या कंगना ने बॉलीवुड के सेक्सिज्म और हीरो-हिरोइन की सैलरी को लेकर सवाल उठाकर गलत किया? बॉलीवुड में हिरोइनें अब अहम किरदार निभा रही हैं, लेकिन इसके पहले सिर्फ ग्लैमर के लिए ही थीं और ये बिलकुल सही है कि बॉलीवुड में एक हिरोइन चाहें जितनी भी मेहनत कर ले उसे उसके काम के हिसाब से सैलरी नहीं मिलती.

3. क्या कंगना ये गलत कह रही हैं कि उनके खिलाफ सब गैंग अप कर रहे हैं? बॉलीवुड में उनकी फिल्म की चर्चा होती ही नहीं है भले ही कंगना ने इसपर कितनी भी मेहनत की हो. 4. कंगना द्वारा लगाए गए हर आरोप में क्या सच्चाई नहीं दिखती है? भले ही कोई कहे कि उनमें घमंड आ गया हो, भले ही कोई ये कहे कि वो अपनी फिल्म की पब्लिसिटी के लिए हो या फिर कोई ये कहे कि उनकी ये आदत है, लेकिन कहीं ना कहीं वो जो बातें बोलती हैं वो बॉलीवुड के गलत रिवाजों के बारे में बोलती हैं.

कंगना रनौत ने जब से आलिया भट्ट के बारे में बोला है मामला गर्मा गया है और ये कहा जा रहा है कि आलिया भट्ट की कोई गलती नहीं है और उन्हें इस तरह से कंगना ने क्यों बोला तो एक बार इस पूरे मामले के बारे में बात कर लेते हैं.

कंगना रनौत, मणिकर्णिका, आलिया भट्ट, बॉलीवुडआलिया और कंगना के मामले में न ही आलिया भट्ट को गलत कहा जा सकता है और न ही कंगना को

क्यों आलिया और कंगना की बात पर तूल दिया जा रहा है-

कंगना का आरोप है कि आलिया ने अपनी फिल्म राज़ी के लिए कंगना को ट्रेलर भेजा और कंगना ने इसपर प्रतिक्रिया भी दी थी और राज़ी देखी भी थी. पर जब यहीं बात कंगना की फिल्म मणिकर्णिका की आई तो आलिया ने इसपर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और पूरे बॉलीवुड की तरह उस फिल्म को नजरअंदाज कर दिया. ये फिल्म कोई कंगना के घर की तो नहीं है. ये देश की शान महारानी लक्ष्मी बाई पर बनी फिल्म है जो न सिर्फ नेश्नलिज्म दिखाती है बल्कि ये फिल्म महिला सशक्तिकरण के लिए भी जरूरी है. ऐसे में पूरे बॉलीवुड का एक फ्रीडम फाइटर की फिल्म को नजरअंदाज करना गैंगअप करना ही है.

और अगर आलिया ने कंगना से अपनी फिल्म को लेकर चर्चा की थी तो आलिया कम से कम एक बार अपने किसी इंटरव्यू, किसी सोशल मीडिया पोस्ट में मणिकर्णिका का जिक्र कर सकती थीं, लेकिन आलिया ने अगर ऐसा नहीं किया तो इसमें गलती भले ही उन्हें न दी जाए पूरी तरह से लेकिन इसमें कंगना की बात को भी गलत नहीं कहा जा सकता.

जहां तक बॉलीवुड का सवाल है तो ये मेल-मिलाप की इंडस्ट्री है और ये एक साथ चलती है. यहां तक कि अगर कोई साउथ की फिल्म हो तो उसका प्रमोशन भी एक दूसरे के सोशल मीडिया अकाउंट पर मिल जाता है. ऐसे में मणिकर्णिका जैसी बड़ी फिल्म रिलीज हो जाती है और कोई इसपर चर्चा भी नहीं करता तो ये कितना सही है? इस जगह आलिया को भी गलत नहीं कह सकते क्योंकि इस पूरे विवाद का जिस तरह से उन्होंने जवाब दिया है वो उनकी मैच्योरिटी दिखाता है. आलिया ने कहा कि वो कंगना से माफी मांगने को तैयार हैं अगर उनकी किसी हरकत की वजह से आलिया अपसेट हैं तो.

कंगना सिर्फ अपने रोल में ही बोल्ड नहीं हैं बल्कि वो अपनी बातों में भी बोल्ड हैं और ये कहना कि कंगना जो गलत हो रहा है उसके बारे में बोलने के लिए गलत हैं, ये किसी भी तरह से वाजिब बात नहीं है.

कंगना जो भी कर रही हैं वो अपने दम पर कर रही हैं, आज की तारीख में वो ये खुले आम कह रही हैं कि उन्होंने 5 मिनट के रोल से शुरुआत की और वो अब इस मुकाम तक पहुंची हैं कि वो न सिर्फ एक्ट कर रही हैं बल्कि डायरेक्ट भी कर रही हैं.

ऐसे समय में क्या कंगना के काम की तारीफ नहीं करनी चाहिए? क्या उनके जज्बे की तारीफ नहीं करनी चाहिए जहां वो किसी से डर के नहीं जी रही हैं बल्कि वो तो अपना काम बेहद इमानदारी के साथ कर रही हैं और पूरी दुनिया से अकेली लड़ रही हैं. अपना काम संजीदगी से कर रही हैं. आए दिन न जाने कितने ऐसे बॉलीवुड स्टार्स के बारे में खबर मिल जाती है कि वो किसी के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते, वो घमंडी हैं, ऐसे कितने स्टार किड्स हैं जो बिना किसी मुकाम को हासिल किए भी अपनी अकड़ दिखाते हैं तो ऐसे में कंगना का अपनी सफलता पर थोड़ा घमंड करना भी वाजिब है.

ये भी पढ़ें-

URI को नेशनलिज्म ने बनाया बॉक्स ऑफिस का 'बाहुबली'!

सेलिब्रिटी की प्राइवेट तस्वीरों को देखकर ये सवाल तो उठता ही है...

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय