होम -> सिनेमा

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 08 नवम्बर, 2019 02:21 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

गंजेपन को लेकर पिछले हफ्ते आई फिल्म 'उजड़़ा चमन' से अगर आप निराश हुए हों और इस हफ्ते रिलीज हुई Bala को लेकर मन बना लिया हो तो आपका Bala movie review पढ़ना बहुत जरूरी है. एक ही सब्जेक्ट पर अगर दो फिल्में आस-पास रिलीज होती हैं तो स्वाभाविक है कि लोग राय बना लेते हैं कि पहली खराब है तो दूसरी भी ऐसी ही होगी. लेकिन न तो 'उजड़़ा चमन' खराब थी और न ही Ayushmann Khurrana की बाला. बल्कि बाला ने तो लोगों की उम्मीदों से बेहतर कर दिखाया है.

बाला को आयुष्मान खुराना का बेहतरीन फिल्मों में से एक कहा जा रहा है. लगातार 6 हिट फिल्में देने के बाद ये Ayushmann Khurrana की 7वीं हिट फिल्म है. और साल 2019 की सबसे खास फिल्म भी कही जा रही है. लेकिन इतना काफी नहीं. आज कई स्तर पर फिल्म Bala को जज करने की कोशिश करते हैं जिससे आपको ये समझ आ जाए कि ये फिल्म कैसी है.

bala-film-reviewबाला पैसा वसूल फिल्म कही जा रही है

Bala movie story

फिल्म बाला में बालामुकुंद यानी बाला हैं Ayushmann Khurrana. Bhumi Pednekar यानी लतिका बाला के बचपन की दोस्त और पड़ोसन हैं. लतिका एक सांवले रंग की लड़की है, पेशे से जानी-मानी दबंग वकील है जिसका मजाक बचपन से बन रहा है. लेकिन उसने अपने रंग को शुरू से ही अपनाया है और उसे किसी की बात से फर्क नहीं पड़ता. उधर बाला के बाल शुरू से ही घने थे जिसपर उसे बड़ा गुमान था लेकिन 25 की उम्र तक आते-आते उसके बाल झड़ने लगे. बढ़ते गंजेपन की वजह से बाला के बचपन की गर्लफ्रेंड भी उसे छोड़ कर चली गई. मजाक बनी, नौकरी में डिमोशन मिला. शादी भी नहीं हुई. दोस्त लतिका उसे समझाती भी है कि जैसे हो उसे स्वीकार करो लेकिन बाला को बाल के अलावा कुछ नहीं सूझता. बालों को उगाने के लिए वो अजीब अजीब नुस्खे अपनाता है जिन्हें देखकर घिन भी आएगी. लेकिन बाल के बाल हर चीज से ज्यादा अहम थे. अपनी हर कोशिश में नाकाम बाला आखिरकार विग का सहारा लेता है जिससे उसका खोया हुआ आत्मविश्वास लौटता है. उसे टिक टॉक स्टार परी से प्यार हो जाता है. परी का किरदार Yami Gautam निभा रही हैं. बात शादी तक पहुंचती है, मगर ट्विस्ट ये है कि परी को बाला के गंजेपन के बारे में कुछ पता नहीं है. शादी के बाद क्या परी का प्यार काफूर होता है या फिर बाला अपने गंजेपन को स्वीकार कर पाता है यही फिल्म का क्लाइमैक्स है.

फिल्म की दमदार अदाकारी इसकी जान है

फिल्म में आयुष्मान खुराना ने शानदार काम किया है. जिसकी तारीफ आप फिल्म देखने के बाद करेंगे. आयुष्मान को बिना बालों में देखना अजीब जरूर लगेगा लेकिन वो अपने कैरेक्टर में इतना डूब गए हैं कि आपको वहां आयुष्मान नहीं सिर्फ बाला दिखाई देगा. उतना ही अजीब भूमि पेडनेकर के काले रंग को देखकर लगेगा लेकिन भूमि ने भी अपने किरदार बखूबी निभाया है. यामी गौतम तो हीरोइन हैं और हीरोइन जैसी ही लगती हैं. फिल्म की सपोर्टिंग कास्ट में सौरभ शुक्ला से लेकर सीमा पाहवा, अभिषेक बनर्जी और जावेद जाफरी तक सभी का काम उम्दा है. इसके अलावा बाला के छोटे भाई बने धीरेन्द्र गौतम भी आपका दिल जीत लेंगे.

bala-film-reviewअगर आप भी किसी वजह से खुद को कमतर समझते हैं तो ये फिल्म जरूर देखिए

Bala social media reactions: 'पैसा वसूल' फिल्म है

अब बात उन लोगों की जो इस फिल्म को देखकर आए हैं. बाला को लेकर सोशल मीडिया पर जो रिएक्शन आए हैं वो आपको फिल्म देखने के लिए मजबूर कर सकते हैं.

फिल्म में आयुषामान के काम जमकर तारीफ की जा रही है

बाकी ये पब्लिक रिव्यू आपका काम और आसान कर सकते हैं

Bala critics review

जो लोग स्टार्स और क्रिटिक्स पर भरोसा करते हैं वो भी जान लें कि फिल्म बाला ने क्रिटिक्स का मन भी मोह लिया है. क्रिटिक्स इसे आयुष्मान के करियर की बेस्ट फिल्म कह रहे हैं, जिसमें शानदार स्क्रीनप्ले, कॉमेडी और इमोशन्स को बहुत प्यार से बुना गया है. फिल्म क्रिटिक्स इस फिल्म को 3.5 से 5 स्टार तक दे रहे हैं. यानी समझिए कि ये फिल्म लोगों को बहुत पसंद आ रही है.  

अब भी चाहते हैं कि फिल्म में कुछ ऐसा और मिल जाए जिसकी वजह से आप इसे देख आएं तो सुनिए. फिल्मों में आपने एक्शन, प्यार, इमोशन्स तो खूब देखा होगा लेकिन फिल्म बाला आपको अपने आप से प्यार करना सिखा देगी. दुनिया में कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं है. हर इंसान में कमियां हैं. और ये फिल्म इन कमियों को ही स्वीकार करना सिखाती है, ये वो कमियां है जो आपका आत्मविश्वास आपसे छीन लेती हैं. जिसकी वजह से आप जीवन के बहुत महत्वपूर्ण पल खो देते हैं. हर किसी को ये फिल्म देखनी ही चाहिए. उन पुरुषों को भी जो कम बाल होने की वजह से हीन भावना से ग्रस्त हैं और महिलाओं को भी जो अपने सांवले रंग को लेकर खुद को औरों के कमतर समझती हैं. आयुष्मान और भूमि पेडनेकर आपको इंटरटेनमेंट के साथ आपको सीख भी दे रहे हैं. और फिल्म अगर किसी को भी मोटिवेट करती है तो फिल्म हिट है बॉस !

ये भी पढ़ें-

उजड़ा चमन हकीकत तो है लेकिन उतनी हसीन नहीं

'बाला' और 'उजडा चमन' जैसी फिल्मों का बनना भी जरूरी है

रिसर्च ने कहा डियो- परफ्यूम नहीं, महिलाओं को आकर्षित करते हैं गंजे...

 

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय