होम -> टेक्नोलॉजी

 |  बात की बात...  |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 18 जनवरी, 2016 02:55 PM
धीरेंद्र राय
धीरेंद्र राय
  @dhirendra.rai01
  • Total Shares

सीआईए चाहता है कि ओबामा जब भारत जाएं तो वे अपनी ही कार में सवारी करें. तो सवाल यह है कि ऐसा क्या है ओबामा की कार में? क्या वह मोदी की कार से भी ज्यादा हाईटैक और सुरक्षित है? आइए, जानते हैं कि इस कार की 10 खूबियों को-1. विंडो: ओबामा की कार के विंडो ग्लास 5 से 6 इंच मोटे और बमरोधी हैं. पूर्व राष्ट्रपतियों की कार के मुकाबले इसमें बेहतर विजिबिलिटी वाले ग्लास हैं. सिर्फ ड्राइवर की ओर वाली विंडो ही खोली जा सकती है, वह भी सिर्फ 2.75 इंच. ताकि ड्राइवर बाहर मौजूद सीक्रेट सर्विस एजेंट से बात कर सके.

2. दरवाजे: आठ इंच मोटे दरवाजों का वजन बोइंग 757 विमान के दरवाजों के वजन के बराबर है. यह वजन स्टील की उन परतों के कारण है, जो कार को बुलेटप्रूफ बनाती हैं.

3. पैसेंजर सेक्शन: कार में जहां ओबामा और उनके मेहमान बैठते हैं, वहां सुरक्षा और लक्जरी दोनों का मिला-जुला रूप देखा जा सकता है. यहां चार लोग बैठ सकते हैं. इस सेक्शन में एक ग्लास पार्टिशन भी है, जिसे राष्ट्रपति ही खोल सकते हैं. इसके अलावा कोई खतरा होने पर राष्ट्रपति के लिए एक पैनिक बटन दिया गया है. कार से ही राष्ट्रपति अपने दफ्तर के कंप्यूटर से कनेक्ट रह सकते हैं. उनके पास सीक्योर्ड वाईफाई इंटरनेट कनेक्शन रहता है. इसके अलावा कार में एक सैटेलाइट फोन भी है, जिससे राष्ट्रपति पेंटागन और उपराष्ट्रपति से सीधे कनेक्ट रहते हैं.

4. इंटीरियर: कार के अंदरुनी हिस्से को कुछ इस तरह से बनाया गया है कि किसी कैमिकल अटैक की स्थिति में वह पूरी तरह सील हो जाए. इसके अलावा कार किसी खतरे की स्थिति में खुद को पूरी तरह लॉक कर लेती है. और बन जाती है किसी बैंक वॉल्ट की तरह सुरक्षित.

5. ड्राइवर: ओबामा का कार ड्राइवर कोई आम ड्राइवर नहीं है. वह स्पेशल सीआईए एजेंट है. जिसे ड्राइविंग के दौरान आ सकने वाली तमाम परिस्थितियों के लिए खास ट्रेनिंग दी गई है. जिसमें आम मशीनी खराबी से लेकर सभी इमरजेंसी से निपटना शामिल है. ड्राइविंग सिस्टम के अलावा उसके पास स्पेशल जीपीएस यूनिट भी होती है.

6. फ्यूल टैंक: इसे भी खासतौर पर स्टील से कवर किया गया है ताकि गोलियों का इस पर असर न हो. इसके अलावा इस कार में फ्यूल को खास फोम के साथ भरा जाता है ताकि आग लगने पर उसमें विस्फोट न हो.

7. डिफेंस सिस्टम: सिर्फ जेम्स बॉन्ड ही नहीं, ओबामा की कार में भी ऐसे कई स्पेशल उपकरण है जो हमले की स्थिति में उपयोगी हैं. जैसे- नाइट विजन कैमरा, शॉटगन, आंसू गैस छोड़ने वाली कैनन. यदि किसी हमले में ओबामा घायल भी हो जाएं तो कार में ही ऑक्सीजन सप्लाय के साथ उनके ब्लड ग्रुप वाला खून हमेशा कार में मौजूद रहता है.

8. टायर्स: यदि कार में लगे गुडइयर टायर को गोलियों या कांटे वाली स्ट्रिप से पंचर भी किया जाए तो वह होंगे नहीं. उन्हें भी नैनोटेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से बुलेट-प्रूफ बनाया गया है. यदि किसी वजह से टायर खराब भी हो जाएं तो कार की फ्लैट-रन टेक्नोलॉजी काम आती है. जिसकी मदद से कार पहियों के स्टील रिम की बदौलत बिना टायर के भी तेज गति से खतरे से बाहर निकल सकती है.

9. चेसिस: राष्ट्रपति की कार आमतौर पर कैडिलेक वन या लिमोजीन वन कही जाती है, लेकिन अमेरिकी सीक्रेट सर्विस ने इसे नाम दिया है बीस्ट. यह लगती भी किसी महाजीव की तरह है. तकनीकी तौर पर देखें तो इसे बनाया भी ट्रक के चेसिस पर है ताकि यह भारी भरकम पार्ट्स और उसके उपकरणों का बोझ सह सके. कार के तले को सुरक्षित रखने के लिए चेसिस के नीचे पांच इंच की स्टील प्लेट लगाई गई है, जिस पर बम विस्फोट का भी असर नहीं होता.

10. बॉडी: गोलियों से लेकर पत्थर तक, कुछ भी हो. कार की बॉडी इस तरह डिजाइन की गई है कि वह नर्म-सख्त हर तरह का हमला बर्दाश्त कर सके. और किसी भी तरह कार के भीतर उसका असर न हो. इसके लिए खासतौर पर दोहरी सख्ती वाली स्टील, एल्यूमिनियम, टाइटेनियम और सिरेमिक का उपयोग किया गया.

सिर्फ कम्युनिकेशन सिस्टम का फर्क अलग करता है ओबामा और मोदी की कार को: प्रधानमंत्री बनने के बाद से नरेंद्र मोदी ने बीएमडब्ल्यू750 मॉडल को अपनी ऑफीशियल कार बनाया है. यह इसकी डिजाइन और सुरक्षा उपकरण ओबामा की कार की तरह ही हैं. यह कार तो आपात स्थिति में ड्राइवर को जरूरी मदद के लिए सुझाव भी देती है. लेकिन एक बात जिसकी वजह से अमेरिकी खूफिया विभाग चाहता है कि ओबामा नई दिल्ली में भी अपनी ही कार में बैठें, वह है उसका कम्युनिकेशन सिस्टम. सेटेलाइट लिंक और पेंटागन की कनेक्टीविटी अन्य कारों में नहीं दी सकती. और मौजूदा हालात में उनका व्हाइट हाउस और पेंटागन से हरपल जुड़ा रहना जरूरी है.

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय