होम -> स्पोर्ट्स

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 28 मार्च, 2016 10:58 AM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

टी20 वर्ल्डकप में जोरदार बैटिंग करने वाले दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में शुमार विराट कोहली के बैट से न सिर्फ रन बरसते हैं बल्कि पैसे भी बरसते हैं. दरअसल इस समय कोहली ऐड वर्ल्ड की दनिया के सबसे महंगे स्टार्स में से एक हैं. कोहली की फॉर्म और जबर्दस्त बैटिंग ने उन्हें ऐड की दुनिया का इस कदर चहेता बना दिया है कि वह धोनी से भी आगे निकल गए हैं. आइए जानें विराट कोहली ऐड से कितना कमाते हैं.

विराट के बैट से पैसे बरसते हैं!

विराट कोहली का सितारा इस समय बुलंदियों पर है. वह कितनी शानदार फॉर्म में हैं इसका नजारा टी20 वर्ल्डकप में पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच से पूरी दुनिया को हो गया. ईडन की जिस विकेट पर बाकी के बल्लेबाजों के लिए रुकना मुश्किल हो रहा था उस पर उन्होंने इतनी प्रभावशाली बैटिंग की कि हर कोई उनका कायल हो गया. इस समय भारत में विराट से ज्यादा चर्चित शायद ही कोई और खिलाड़ी हो. यही वजह है कि हर कंपनी उनसे साथ जुड़कर अपने ब्रैंड को और मजबूत बनाना चाहती है.

विराट की ब्रैंड वैल्यू सबसे ज्यादाः

विराट कोहली की ब्रैंड वैल्यू का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्हें अपने बैट पर एमआरएफ कंपनी का लोगों लगाने के लिए 8 करोड़ रुपये मिलते हैं. ये रकम धोनी को उनके बैट पर स्पार्टन का लोगो लगाने के लिए मिलने वाले 6 करोड़ रुपये से कहीं ज्यादा है. यही नहीं विराट को मैच के दौरान अपैरल और जूतों के एंडोर्समेंट के लिए 2 करोड़ रुपये और मिलते हैं. हालांकि मैदान के बाहर ब्रैंड ऐंडोर्समेंट के मामले में कोहली अभी धोनी से पीछे हैं. धोनी जहां एक ऐड के लिए 8 करोड़ रुपये लेते हैं तो वहीं कोहली इसके लिए 5 करोड़ रुपये लेते हैं.

बाकी क्रिकेटर्स की भी मोटी कमाईः

ऐसा नहीं है कि इस मामले में सिर्फ विराट और धोनी ही आगे हैं बल्कि कई अन्य भारतीय क्रिकेटर भी मोटी फीस लेते हैं. बाएं हाथ के स्टार बल्लेबाज युवराज सिंह को जर्मन स्पोर्ट्सवेयर कंपनी प्यूमा उनके बैट पर अपना लोगो लगाने और अपैरल और जूतों के लिए 4 करोड़ रुपये देती है. वहीं सुरेश रैना और रोहित शर्मा को अपने बैट पर सिएट का लोगो लगाने के लिए 2.5 से 3 करोड़ रुपये मिलते हैं. वहीं अजिंक्य रहाणे को इसके लिए 1.5 करोड़ रुपये मिलते हैं. अपने बैट पर एमआरएफ का लोगो लगाने वाले शिखर धवन को 3 करोड़ रुपये मिलते हैं.

वहीं भारत में काफी लोकप्रिय एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल जैसे स्टार बल्लेबाजों को भी मोटी रकम मिलती है. डिविलियर्स को अपने बैट पर एमआरएफ का लोगो लगाने के लिए 3.5 करोड़ रुपये मिलते हैं जबकि गेल का स्पार्टन कंपनी के साथ करार है और उन्हें 3 करोड़ रुपये मिलते हैं.

यानी बेहतरीन क्रिकेट खेलने वाले इन खिलाड़ियों को न सिर्फ फैंस का प्यार मिलता है बल्कि उन पर कंपनियों भी पैसे बरसाती हैं क्योंकि उनके साथ जुड़कर कंपनियां अपनी इमेज चमकाना चाहती हैं.

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय