होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 10 अगस्त, 2017 01:23 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

त्योहार कोई भी हो उसका उद्देश्य होता है एक साथ खुशियां मनाना. लेकिन कुछ त्योहार ऐसे भी हैं जिनमें रिवाजों के नाम पर जानवरों के साथ खुले आम बर्बरता दिखाई जाती है. धर्म, आस्था और ईश्वर के नाम पर सबसे बड़ी कुप्रथा का नाम है बलि, लेकिन यहां अंधी आस्था में डूबे लोग पूजा के नाम पर निरीह जानवरों के साथ क्रूरता की सारी हदें लांघ देते हैं.

हम बात कर रहे हैं नेपाल के देवपोखरी त्योहार जो हर साल खोकन गांव में बड़ी ही धूम-धाम और संवोदनहीन होकर मनाया जाता है. यहां संवेदनाएं सिर्फ मासूम बच्चों की आंखों में दिखाई देती हैं, जो बेजुबान जानवर के साथ हो रही क्रूरता का मंजर हर साल अपनी आंखों से देखते हैं.

2ad5812600000578-0-i_042016065703.jpg
900 सालों से मनाया जा रहा है ये त्योहार

संवेदनाशून्य है देवपोखरी त्योहार

नेपालियों का ये त्योहार देवपोखरी करीब 900 सालों से मनाया जा रहा है, और इस त्योहार का सबसे खौफनाक हिस्सा है एक प्रतियोगिता जिसे एक पोखर में संचालित किया जाता है.

1_042016065748.jpg
 ये है वो पोखर जहां इंसानी बर्बरता को देखने के लिए सारा गांव इकट्ठा होता है

गांव के बीचों बीच रुद्रायनी मंदिर के करीब एक पोखर है जिसे बहुत पवित्र माना जाता है. इस पवित्र तालाब में 5 महीने की एक बकरी को फेंक दिया जाता है और उसके साथ-साथ पुरुषों का एक दल भी पानी में उतरता है.

4_042016065914.jpg
 पहले पानी में बकरी को फेंका जाता है
12_042016070006.jpg
 पानी से बकरी को बाहर निकालने का मतलब उसकी जान बचाना नहीं है

इन लोगों को बकरी को पानी से बाहर निकालना होता है, जो व्यक्ति बकरी को पहले पानी से बाहर निकाल लेता है वो प्रतियोगिता में विजयी माना जाता है. ईनाम के तौर पर त्योहार के जुलूस का नेतृत्व उसे सौंप दिया जाता है.

5_042016070147.jpg
सिर्फ मनोरंजन के लिए रखी जाती है ये प्रतियोगिता

लेकिन सुनने में समान्य लगने वाले इस त्योहार का खौफनाक हिस्सा अब शुरू होता है. पानी में फेंकी गई बकरी को निकालने के लिए इन लोगों में खींचतान होती है.

6_042016070207.jpg
 
7_042016070218.jpg
 बकरी से साथ किया जाता है अमानवीय व्यवहार

कोई बकरी को फेंकता है, कोई उसकी गर्दन कसकर पकड़ लेता है, कोई शक्ति प्रदर्शन करते हुए उसका एक पैर पकड़कर हवा में उठा लेता है.

8_042016070241.jpg
 
10_042016070300.jpg
किसी जानवर के प्रति दया का भाव शायद शून्य हो जाता है यहां

कोई सर को दबोचता है तो कोई गर्दन. औरर ये सब करीब 45 मिनट कर ऐसे ही चलता रहता है. एक बकरी के बच्चे की जान जाने के लिए इतना देर काफी होता है.

11_042016070315.jpg
 एक बकरी का बच्चा 40 मिनट के अंदर ही दम तोड़ देता है

दरअसल बकरी पर की जाने वाली इस हिंसा का मकसद उसे दुर्बल करना या मारना ही होता है. इतनी मार खाकर बकरी दुर्बल हो जाती है, और अपनी जान बचाने के लिए उछल कूद नहीं करती और और यही वो समय होता है जब बकरी को कोई भी आसानी से तालाब से बाहर निकाल सकता है.

9_042016070344.jpg
 कल्पना कीजिए इस भयावह दृश्य की

बलि देने की प्रथा में एक जानवर को बलि से पहले पूजा जाता है. लेकिन यहां इस बकरी को तड़पा तड़पा कर मारा जाता है. ये तस्वीरों में इंसानों के इस प्रवृत्ति को देखकर उसे इंसान कहना गलत लगता है.

क्या ऐसा करने का ये कारण वाजिब है?

अपने मनोरंजन के लिए भगवान के नाम पर खोकन में यह त्योहार हर साल इसी अमानवीय तरीके से मनाया जाता है. लेकिन इसे मनाने के पीछे जो कारण यहां के स्थानीय लोग बताते हैं वो जरा अजीब है. लोग कहते हैं कि तालाब में एक राक्षस रहता था, जिसकी वजह से कई लोगों की मौत तालाब में डूबकर हुई.  तालाब को शांत करने के लिए इस त्योहार का आय़ोजन किया जाने लगा. जिससे किसी की मौत न हो.

2ad58cc500000578-0-i_042016070748.jpg
एक निरीह जानपर के साथ ऐसा व्यवहार करने वाला कोई इंसान कैसे हो सकता है

कई एनिमल राइट्स संस्थाओं द्वारा इस कृत्य को अमानवीय करार कर इसपर प्रतिबंध लगाने की मांग की जा रही है. इस त्योहार को बान करने के लिए कई सारी ऑनलाइन पिटीशन भी फाइल की गई हैं. पेटा भी इस मामने में नेपाल के एनिमल राइट्स संस्थाओं का साथ दे रहा है. पर धर्म के नाम पर किए जाने वाले इन आडंबरों के खिलाफ लड़ाई जरा लंबी ही चलती है.

14_042016070811.jpg
 इस बच्चे के चेहरे पर वो दर्द साफ देखा जा सकता है जिसे वो इस खौफनाक नजारे को देखकर महसूस कर रहा है.

देखिए वीडियो

ये भी पढ़ें-

मुस्लिम भाई बकरीद पर जानवरों को मारना बंद करें

फैशन नहीं, ये क्रूरता है!

ये कौन हैं जो जानवरों का रेप करते हैं

Animal, Nepal, Animal Rights

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय