charcha me| 

समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   13-02-2018
महेंद्र गुप्ता
महेंद्र गुप्ता
  @mahendra.manas2100
  • Total Shares

वैलेंटाइन वीक के सातवें दिन Kiss day रखा गया, ताकि प्रेमी सात दिन तक इंतजार करता रहे. यदि पहले दिन होता तो प्रेमी इसे मनाकर रफूचक्कर हो जाता. बाकी के छह दिन के झमेलों से बचना चाहता. चॉकलेट डे की तरह किस डे का कोई प्राचीन इतिहास तो नहीं मिलता, लेकिन इसका आधुनिक इतिहास और महत्व जरूर मैं आपको सुना देता हूं. स्वयं किस के ही शब्दों में. मैं किस आज अपने जन्मदिन पर बहुत खुश हूं. प्रेमी युगलों के बीच में मेरा बड़ा सम्मान है. मुझ तक पहुंचने के लिए पता नहीं क्या-क्या कोशिशें की जाती हैं.

किस डे, वैलेंटाइन डे, वैलेंटाइन वीक, किस, सोशल मीडिया, व्यंग्य

मैं भट्‌ट कैम्प की फिल्मों के साथ लंबे समय से काम कर रहा हूं. उनकी हर फिल्म में मेरा छोटा या बड़ा रोल होता ही है. इमरान हाशमी साहब मेरे पसंदीदा को-एक्टर हैं, और शायद मैं भी उनका. वे मेरे ही नाम "सीरियल किसर" के रूप में मशहूर हैं. उन्होंने मुझे जो इज्जत दी है, वो इंडस्ट्री में कोई नहीं दे सकता. वरना लोग तो मुझे हेय दृष्टि से देखते हैं. सनी लियोनी ने भी मुझे भरपूर प्रेम दिया. उनकी फिल्म जिस्म में मैं ही मैं दिखा. इस फिल्म ने इंडस्ट्री में मुझे स्थापित कर दिया.

आदित्य चोपड़ा साहब ने तो मेरी बायोपिक बना दी. इसे नाम दिया बेफिक्रे. फिल्म के एक गाने में तो मैं ही मैं हूं. इसमें मुझे अंतराराष्ट्रीय स्टार के तौर पर दिखाया गया है. मैं फिरंगियों की जुबान पर चढ़ा हूं.

सच कहूं तो सबसे बेहतर मेरी परेशानी करीना जी समझती हैं. उन्होंने थ्री इडियट्स में मेरी पीड़ा जाहिर की थी. इतना अच्छा लगा जब उन्होंने कहा कि किस करते वक्त नाक बीच में आ जाती है. मैं न जाने कितने सालों से अपने आड़े आ रही इस परेशानी को झेल रहा हूं. सहानुभूति प्रकट करने के लिए करीना जी का शुक्रिया. एक औरत ही मेरी परेशानी समझ सकती है, पुरुष नहीं.

वैलेंटाइन डे और उससे एक दिन पहले मुझे पार्कों में ले जाया जाता है, लेकिन मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता. मेरी भी इज्जत है. घर के काम घर में हों तो ही अच्छा. पार्कों में मेरे कारण कभी-कभी प्रेमी पिट भी जाते हैं. अब इसमें मेरा क्या दोष. फिर भी प्रेमी मुझे हर हाल में प्रेम करते हैं, क्योंकि मैं चॉकलेट या टैडी की तरह नहीं हूं, जो उनका खर्चा कराएं. मेरा और प्रेमियों का रिश्ता चिर काल से यूं ही पवित्र रहा है. नारे लगाओ "किस डे अमर रहे". जो भी मेरे बर्थडे पर मुझे विश कर रहे हैं, उनका शुक्रिया.

अब चलता हूं, आज पार्कों और होटलों में मुझे कई आयोजनों में जाना है.

आपका अपना ..किस कुमार

ये भी पढ़ें-

ख्याल रखना! 'गले लगना और गले पड़ना दो अलग अलग बातें हैं'

Promise day: भारतीय समाज और वादे का नाजुक शीशमहल

पॉपुलर होने से पहले चॉकलेट ने भी स्ट्रगल किया था

टैडी डे: 'पुतला' तो 'पुतला' होबे है, टैडी डे का हो या नेताजी का

लेखक

महेंद्र गुप्ता महेंद्र गुप्ता @mahendra.manas2100

लेखक आजतक में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय