होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 नवम्बर, 2019 06:32 PM
अनु रॉय
अनु रॉय
  @anu.roy.31
  • Total Shares

Hyderabad में डॉक्टर प्रियंका रेड्डी का गैंगरेप और फिर हत्या (Dr. Priyanka Reddy rape and murder case) हुई. लोग इसके खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं. लेकिन जब बलात्कार होते हैं तो हम बलात्कारियों को कोस कर चुप हो जाते हैं. फिर लड़कियों को सुरक्षा के क्या साधन अपनाने चाहिए ये भी बताते हैं. इन सब में जो सबसे ज़रूरी बात रह जाती है वो है कि हम अपने घर के लड़कों से इस पर कितनी बात करते हैं. उनको क्या हम समझा पाते हैं कि एक लड़की पर क्या गुजरती है जब कोई उसके साथ जबरदस्ती करता है. ये कितना दुखदायी होता है. एक लड़की जो बलात्कार के बाद मर जाती है या अगर बच भी जाती है तो उसके बाद उसके परिवार और उसकी ज़िंदगी कैसी हो जाती है. वो दुनिया में शायद किसी पर भी कभी भरोसा नहीं कर पाती होगी.

इसलिए सबसे जरूरी है हम अपने लड़कों को समझाएं उनसे बात करें. और ये समझाना तब तक मुमकिन नहीं हो सकता जब तक घरवाले खुलकर सेक्स से सम्बंधित बातें उनसे नहीं करेंगे. वैसे ये बदलाव एक दिन में नहीं आ सकता मगर कुछ चीज़ों पर अगर अभी से ध्यान देंगे तो शायद सालों बाद हम एक ऐसी नस्ल तैयार कर पाएंगे जो लड़कियों का सम्मान कर पाए. लड़कियां शायद सुरक्षित होकर घर से बाहर निकल पाएं.

dr priyanka reddy murderलड़कियों को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो लड़कों की परवरिश में बदलाव जरूरी है

यहां लिखी कुछ बातों को अपनाकर ये समस्या हल की जा सकती है-

1. आपका बेटा जैसे-जैसे बड़ा हो उसे उसकी सेफ़्टी यानी गुड-टच और बैड-टच के बारे में बताइए. साथ ही साथ उसे ये भी बताइए कि वो भी किसी के प्राइवेट पार्ट को टच न करे, खेलते हुए भी.

2. मैं अक्सर ये नोटिस करती हूं कि लड़कों को बचपन में माएं लाड़ में आकर नंगा रखती हैं. गांव और कस्बों में चलन है कि बेटों की बिना कपड़ों की तस्वीर खेंचकर घर में रखेंगे. तो यहीं से टॉक्सिक मेल मेंटैलिटी का बीज डाला जाना शुरू हो जाता है. अपने शरीर को लेकर नॉर्मल होना अच्छी बात है, साथ ही साथ दूसरे के शरीर को सम्मान देना भी जरूरी है.

3. लड़के जब थोड़े बड़े यानी किशोर अवस्था में जा रहे हों तो उन्हें उनके अंदर हो रहे हार्मोनल और बाहर होने वाले शारीरिक बदलाव के बारे में बताएं.

4. मां-बाप दोनों की ज़िम्मेदारी है कि वो खुलकर बात करें. इस उम्र में विपरीत सेक्स की तरफ आकर्षित होना स्वाभाविक है. लड़कों को ये बात समझाएं. इसमें गलत कुछ भी नहीं है. लेकिन लड़की की मर्ज़ी के बिना उसे छूना या छिपकर देखना गलत है.

5. बेटा अगर पॉर्न देख रहा है तो उसे डांटकर अपनी ज़िम्मेदारी निभा लिया ये सोचना गलत है. आपके डांटने के बावजूद भी वो छिपकर देखेगा तो बेहतर है कि उन्हें समझाएं.

6. सोलह-सत्रह साल की उम्र में उन्हें बताएं कि मास्टरबेशन एक नैचुरल प्रोसेस है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है.

7. अगर मां-बाप अपने बेटे को ये छः टॉपिक भी समझा पाएं और उनसे बात कर पाएं आधी समस्या का समाधान हो जाएगा. अकेली पुलिस और सरकार कुछ नहीं कर पाएगी. ना ही लड़कियों को घर में बंद कर देने से बलात्कार रुक जाएगा.

और एक बात ये सेंसेटाईज़ होने में वक़्त लगेगा तब तक के लिए अपनी बेटियों को सेल्फ़-डिफ़ेंस की ट्रेनिंग दिलवाएं. बचपन से ही उन्हें अपनी सुरक्षा के बारे में बताएं. अगर आपकी बेटी आपको कुछ बताना चाह रही हो तो उसे ध्यान से सुनिए. उससे बात कीजिए. घर में एक माहौल बनाइए जहां बेटा-बेटी दोनों एक जैसा महसूस करें. बदलाव तभी आएगा जब हम बदलेंगे.

ये भी पढ़ें-

डॉ. प्रियंका रेड्डी बनना तुम्हारा भाग्य नहीं बेटियों, अब उठो...

लीजिए, डॉ. प्रियंका रेड्डी को भी गलत साबित कर ही दिया!

सॉरी डॉक्टर प्रियंका रेड्डी, तुम एक बेहतर देश डिजर्व करती थी!

Priyanka Reddy Veterinary Doctor, Dr. Priyanka Reddy, Hyderabad News

लेखक

अनु रॉय अनु रॉय @anu.roy.31

लेखक स्वतंत्र टिप्‍पणीकार हैं, और महिला-बाल अधिकारों के लिए काम करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय