होम -> समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 25 अगस्त, 2020 09:45 PM
अनु रॉय
अनु रॉय
  @anu.roy.31
  • Total Shares

क्या आपने कभी सुना है कि किसी महिला (Woman) ने 18 महीने में 13 बच्चों को जन्म दिया हो? नहीं सुना हो तो सुन लीजिए, बिहार में 65 साल की एक महिला ने यह कारनामा कर दिखाया है. वैसे जिन्होंने इन 13 बच्चों को जन्म दिया है उनको भी नहीं पता कि आख़िर ये कांड हुआ कैसे? उनको तो पता भी तब चला जब सरकार ने उनके एसबीआई बैंक अकाउंट में 1400 रुपए भेजे और उनका पैसा किसी और के अकाउंट में चला गया. उस स्थिति में बैंक का एक आदमी कुछ जरूरी कागजों पर अंगूठा लगाने के लिए उनके घर गया तब जाकर मालूम चला कि ऐसा भी कुछ हुआ है. कर्मचारी ने बताया कि बिहार सरकार गर्भवती महिलाओं (Delivery Scam in Bihar) को जो 1400 रुपए इंस्टीट्यूशनल डिलीवरी के नाम पर देती है वो पैसा किसी दूसरे के अकाउंट में चला गया है. बता दें कि सिर्फ़ गर्भवती महिला को ही 1400 रुपए नहीं मिलते बल्कि जिस आशा कर्मी ने उसे रजिस्टर किया होता है उसे भी 600 रूपए मिलते हैं.

Bihar, Nitish Kumar, Pregnant, Woman, Election, Corruptionबिहार में गर्भवती महिलाओं के साथ भ्रष्टाचार का एक अनोखा ही मामला सामने आया है

गर्भवती होने की बात सुनकर लीला देवी जो खुद 65 साल की हैं, उनके होश उड़ गए. वो सीधे ब्लॉक पहुंची जहां उनका और उन जैसी कई महिलाओं को गर्भवती बता कर आशा-वर्कर और उनके एजेंट पैसे खा रहें हैं.

बताइए अब बिहार का क्या होगा? जहां ब्लॉक और पंचायत लेवल पर ऐसे-ऐसे कांड हो रहें हों? बिहार गर्त में नहीं जाएगा तो क्या उसका उदय होगा? नीतीश या तेजस्वी किस में दम है कि बिहार को सुधार लें. ऊपर से नीचे तक पापी भरें बैठे हैं. वैसे इस गंदे खेल में ऊपर तक के लोग शामिल होंगे. ऐसा तो है नहीं कि ख़ाली आशा-वर्कर को 600 रुपए मिलते हैं इंस्टीट्यूशनल डिलीवरी करवाने के तो ख़ाली वही इसमें शामिल होगी.

ऊपर बैठे उसके आका भी इस धांधली में शामिल होंगे और पैसे लूट रहे होंगे. बात सीधी है बिहार में ज़िला, ग्राम, ब्लॉक हर लेवल पर स्कैम चलता रहताहै. किसी को नहीं पड़ी है इसकी. बिहार के स्कूल में मिड-डे मील को लेकर जो कांड होते हैं उस पर अलग से रामायण लिखी जा सकती है.

मतलब, चुनाव आने वाले हैं और कमाल की बात ये है कि किसी को ज़रा भी डर नहीं है कि ऐसे पाप हो रहें हैं. साथ ही कोई ये भी नहीं सोच रहा है कि यदि ये पाप जनता के सामने खुल गए तो क्या होगा? वैसे बिहार कि जनता भी वैसी ही है. कोई फ़र्क़ ही नहीं पड़ता. सब अपने-अपने में मग्न हैं. सबको सब पता है लेकिन कोई बोलने को राज़ी नहीं होगा क्योंकि अगर बोल दिया तो भविष्य में जो भी मिलने वाला होगा वो मिलना बंद हो जाएगा.

बिहार में गुंडाराज तो कुछ यूं है कि किसी भी व्यक्ति के मुखिया-सरपंच के ख़िलाफ़ बोलने भर की देर है. उसे ग़ायब करवा दिया जाता है. अब जब स्थिति ऐसी हो तो सवाल ये है कि आखिर कोई बोले तो बोले क्यों ? सभी को अपनी जान की फ़िक्र है. वैसे मेरे भी लिखने से क्या ही होगा? बिहारन हूं इसलिए चुप भी नहीं हुआ जाता. मेरा राज्य डूब रहा है और कोई लौ नहीं दिख रही जो उसे बचा ले जाए. अब ये विडम्बना नहीं तो फिर और क्या है?

ये भी पढ़ें -

भाई का दोस्तों के साथ मिलकर विक्षिप्त बहन का रेप करना, असली पतन तो कृत्य का कुतर्क है

ब्रिटेन में नीलम हुए गांधी जी के चश्मे पर भारतीय प्रतिक्रियाएं...

हाय बेचारी कमला, पति के लिए खाना बनाती है. ये क्या उप-राष्ट्रपति बनेगी!  

लेखक

अनु रॉय अनु रॉय @anu.roy.31

लेखक स्वतंत्र टिप्‍पणीकार हैं, और महिला-बाल अधिकारों के लिए काम करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय