charcha me| 

समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   13-02-2018
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

पैडमैन के आने के बाद से ही पीरियड्स को लेकर बातें शुरू हो गई हैं. जो बातें पहली दबी जुबान में की जाती थीं अब उन्हें खुले आम किया जा रहा है. सोशल मीडिया पर पैडमैन चैलेंज भी चल रहा है और लोग इस बात पर बहस भी कर रहे हैं कि इससे साफ पैड्स खराब किए जा रहे हैं.

पैड्स को लेकर हमेशा से ये बहस चलती आ रही है कि ये असल में पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं. पर ऐसे कई प्रोडक्ट्स हैं जिन्हें पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए पीरियड्स के लिए बनाया गया है जैसे...

1. सी स्पॉन्ज टैम्पून (Sea sponge tampons)...

जी हां, ये एक तरह का टैम्पून है. जो आम टैम्पून्स से अलग वजाइनल इन्फेक्शन के खतरे से बचाता है. ये स्किन के लिए काफी बेहतर है और ये एक बार के बाद दोबारा भी इस्तेमाल किया जा सकता है. इसे आम टैम्पून से अलग पहले गीला करना पड़ता है ताकि ये नरम हो जाए और फिर इसे इस्तेमाल किया जाता है.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

ये खास तौर पर पीरियड्स के फ्लो को ध्यान रखते हैं और टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम से भी बचाते हैं. हालांकि, ये अभी भारत में उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन उम्मीद है कि जल्द ही ये आ जाएंगे.

2. फ्लो (FLO)

फ्लो उन महिलाओं के लिए एक बेहतर विकल्प है जो डिस्पोजेबल पैड या टैम्पून नहीं खरीद सकती हैं. फ्लो एक सस्ता डिवाइस है जो Reusable pads को अपने साथ रखने और धोने की सुविधा देता है.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

3. मेंस्ट्रूएशन कप ( Menstruation cups(reusable/disposable)

अगर आज के जमाने में किसी को मेंस्ट्रूएशन कप के बारे में नहीं पता तो ये समझा जा सकता है कि वो इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं करता होगा.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

ये कप बार-बार इस्तेमाल के लिए बनाए जाते हैं और 10-12 घंटों तक इस्तेमाल किए जा सकते हैं. ये पैड्स से ज्यादा महंगे होते हैं, लेकिन इन्हें बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है इसलिए ये बेहतर विकल्प होते हैं. ये कप सिलिकॉन के बने होते हैं और इन्फेक्शन से बचाने का सबसे बेहतर तरीका साबित हो सकते हैं.

4. फ्रेंडशिप टैम्पून (Friendship tampons)

भले ही ये दिखने में आम टैम्पून जैसे लगें, लेकिन यकीन मानिए ये अलग हैं. ये दो टैम्पून होते हैं जो एक साथ जुड़े होते हैं. असल में ये दो अलग-अलग लोगों के इस्तेमाल के लिए हैं. यदी कोई महिला और उसकी बेस्ट फ्रेंड को एक साथ पीरियड्स होते हैं तो ये उनके लिए है. इसकी टैगलाइन भी Let The Friendship Flow है.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

5. थिंक पैंटी (Thinx panties)

ये कुछ अलग है. ये अलग में मेंस्ट्रूएशन पैंटी है. पैड या टैम्पून या कप की जगह इस पैंटी को ही इस्तेमाल किया जाता है. फ्लो के हिसाब से इसे बदला जाता है. हालांकि, ये काफी महंगी आती हैं. 1500 से लेकर 2500 तक.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

6. दोबारा इस्तेमाल किए जाने वाले पैड्स (Reusable pads)..

मेंस्ट्रूअल कप्स की तरह ये भी भारत में आसानी से उपलब्ध है. 10 या 20 के पैक में ये उपलब्ध हैं और ये स्किन फ्रेंड्ली भी होते हैं. पर्यावरण के बारे में सोचें तो ये पैड्स कम कचरा फैलाते हैं.

पीरियड्स, महिलाएं, ऑफिस, सोशल मीडिया, बीमारी, पैडमैन, अक्षय कुमार

ये भी पढ़ें-

सैनिटरी पैड और फिल्म स्टार्स का प्रोमोशन

सैनिटरी नैपकिन की कहानी सिर्फ पैडमैन तक ही सीमित नहीं, एक फिल्म इस पहलू पर भी बननी चाहिए..

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय