होम -> सोशल मीडिया

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 02 जून, 2018 11:07 AM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

एक लड़की के लिए यौन शोषण से लड़ना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन भारत जैसे देश में तो ये किसी रोज के काम की तरह ही होता है. रोज घर से निकलने या न निकले किसी भी कोने में किसी भी गली मोहल्ले में या छत पर लड़कियों को इसका शिकार होना पड़ सकता है. कोई कहता है घर से बाहर न निकलो, लेकिन घर में रहते हुए रिश्तेदारों के साथ भी इस तरह की हरकतें हो सकती हैं.

जरा सोचिए कोई लड़की भरोसे के साथ किसी रिश्तेदार के साथ गाड़ी से कहीं जा रही हो और वो रिश्तेदार उसके गुप्तांगो को छुए... उसके शरीर को अपना समझे. मां ने तो लड़की को भरोसे वाले इंसान के साथ भेजा था. उस लड़की को क्या पता था उसके साथ क्या होने वाला है?

कुछ ऐसे ही किस्से कुछ ऐसे ही दर्द लगभग हर लड़की को अपने जीवन में झेलने पड़ते हैं. BOM स्क्वॉड की डांसर्स ने एक वीडियो बनाया है और उस वीडियो में अपने साथ हुए यौन शोषण की जानकारी दी है. ये वीडियो #Metoo कैंपेन के तहत बनाया गया है और सभी डांसर एक के बाद एक अपने साथ हुए हैरेसमेंट के बारे में बताती हैं.

Metoo, सोशल मीडिया, वायल वीडियो, यौन शोषणवो कमेंट्स जो डांसर्स को सोशल मीडिया पर मिलते हैं.

इस वीडियो की शुरुआत उन कमेंट्स के साथ होती है जो डांसर हमेशा सुनती हैं और लोग ऐसे भद्दे कमेंट सोशल मीडिया पर भी करते हैं. लड़के ही नहीं लड़कियां भी ऐसा करती हैं. भद्दे कमेंट करना, लोगों की गालियां सुनना, उनके कपड़ों और उनके रहन सहन पर सवाल उठाए जाते हैं.

इस वीडियो को बनाने की प्रेरणा फेय डिसूजा (Faye D'Souza- एक दबंग पत्रकार जो मिरर नाओ के प्राइम टाइम शो को होस्ट करती हैं और अपने दमदार व्यक्तित्व और सशक्त बातों के लिए जानी जाती हैं.) से मिली है.

वीडियो के यूट्यूब डिस्क्रिप्शन में लिखा है कि जब कोई भी लड़की #Metoo लिखती है तो समस्या और बड़ी दिखती है. कोई छोटा या बड़ा किस्सा नहीं हैरेस्मेंट तो हैरेस्मेंट होता है. बोलने से डरें नहीं. अकेले में परेशान न हों. ये आपकी गलती नहीं. मदद मांगिए अगर जरूरी लगे तो. आज आपको पहले से कही ज्यादा मदद मिलेगी. बोलिए, क्योंकि समस्या को हल करना जरूरी है.

एक आर्टिस्ट के तौर पर हमारे पास ये मौका है कि हम अपनी कला के जरिए सब बता सकें. तो हमने ये किया. ये सिर्फ कुछ किस्से हैं. हमने इससे कही ज्यादा सहा है, लेकिन सब कुछ बताने में कई घंटे लग जाएंगे या शायद इससे ज्यादा, लेकिन ये हमारी कहानी का एक हिस्सा है.

इस वीडियो में कोई गाना नहीं है सिर्फ किस्से हैं. डांसर डांस कर रही हैं और बैकग्राउंड में किस्से चल रहे हैं. एक लड़की की आवाज कहती है कि 'हम छोटे थे.. घर-घर खेलते थे. एक दिन उसने मुझे छूना शुरू किया और मेरे साथ अश्लील हरकतें की. उसने कहा कि यही एक पति अपनी पत्नी के साथ करता है, मैंने कुछ नहीं कहा, लेकिन मां को बता दिया.. फिर मैंने उसे कभी नहीं देखा...थैंक्स मां उसके खिलाफ एक्शन लेने के लिए.'

ये किस्से ही एक ऐसे समाज को दर्शाते हैं जहां लोग घर में मौजूद लड़कियों को, शराफत से सलवार सूट पहनने वाली लड़कियों को, बच्चियों को भी नहीं छोड़ते. और सिर्फ ये वीडियो ही क्यों? लगातार होते बलात्कार, 2 साल की बच्ची से लेकर 100 साल की बुजुर्ग महिला तक जो लोग किसी को नहीं छोड़ते वो भेड़िए क्या वाकई इस बात का ध्यान रखते हैं कि लड़की ने क्या पहना है, वो क्या सोच रही है, वो कितने साल की है, उसे दर्द हो रहा है या नहीं... नहीं जनाब ऐसा कुछ नहीं सोचा जाता बस वो लड़की भी अपनी हवस का शिकार बनाई जाती है.

ये भी पढ़ें-

यौन शोषण के शिकार तो पुरुष भी खूब हुए लेकिन एक भी #Metoo नहीं आया !

कुछ इस तरह से होता है पुरुषों के साथ लिंगभेद और शोषण..

Sexual Harassment, Social Media, #Metoo

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय