charcha me| 

सोशल मीडिया

 |  5-मिनट में पढ़ें  |   28-03-2018
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

इन दिनों फेसबुक विवादों में घिर गया है. यूजर्स का डेटा चोरी करने के आरोपों के बीच खुद मार्क जकरबर्ग को माफी तक मांगनी पड़ी है. जिस तरह भारत में लोकप्रिय हुआ ऑर्कुट धीरे-धीरे फेसबुक के आने के बाद बंद हो गया था, अगर कल को फेसबुक भी बंद हो जाए और उसकी जगह कोई दूसरा सोशल मीडिया नेटवर्क ले ले, तो कोई हैरानी की बात नहीं होनी चाहिए. महिन्द्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिन्द्रा ने भी कुछ ऐसा ही इशारा किया है, जिसके तहत जल्द ही एक 'स्वदेशी फेसबुक' लॉन्च हो सकता है.

फेसबुक, सोशल मीडिया, आनंद महिन्द्रा, मार्क जकरबर्ग

मैगी जैसा न हो जाए फेसबुक का हाल

आपको याद ही होगा जब हर घर में चाव से खाई जाने वाली मैगी विवादों में फंसी थी. इस मौके का फायदा उठाते हुए बाबा रामदेव ने स्विटजरलैंड की इस विदेशी मैगी के खिलाफ देसी नूडल्स लॉन्च कर दिया था. उन देसी नूडल्स को लोगों का खूब समर्थन भी मिला. अब आनंद महिन्द्रा ने एक ट्वीट किया है और फेसबुक जैसी ही कोई सोशल मीडिया साइट बनाने की बात कही है. यहां ये साफ है कि जिस तरह बाबा रामदेव ने मैगी के विवादों में आने पर मौके पर चौक्का मारा था, अब वही दाव आनंद महिन्द्रा ने भी खेला है. हो सकता है आने वाले दिनों में आप स्वदेशी फेसबुक इस्तेमाल करें.

orkut को किया था खत्म, अब खुद के सिर पर तलवार लटकी

आपको शायद अब एक पुराना सोशल मीडिया नेटवर्क orkut याद ना हो. जब ये भारतीय बाजार में आया था, जो लोगों ने बांहें पसार के इसका स्वागत किया था और इस पर अपने प्रोफाइल बनाए थे. लेकिन जैसे ही फेसबुक ने भारतीय बाजार में अपने कदम रखे, वैसे ही धीरे-धीरे ऑर्कुट के लिए लोगों की रुचि कम होने लगी. नतीजा ये हुआ कि सितबंर 2014 में ऑर्कुट बंद हो गया और सोशल मीडिया की दुनिया पर फेसबुक का एकाधिकार हो गया. लेकिन कैंब्रिज एनालिटिका को लेकर अब फेसबुक विवादों में घिर गया है. जकरबर्ग ने तो विज्ञापन देते हुए यहां तक कहा है कि लोगों के डेटा को संभाल कर रखना फेसबुक जिम्मेदारी है और अगर फेसबुक ऐसा नहीं कर पाता है तो वह लोगों सेवा के लायक नहीं हैं.

अमेरिका से ज्यादा फेसबुक यूजर भारत में

अगर जुलाई 2017 की रिपोर्ट देखी जाए तो उसके अनुसार भारत में फेसबुक के करीब 24.10 करोड़ यूजर्स हैं. यहां आपको बता दें कि ये संख्या में अमेरिका के फेसबुक यूजर्स से भी अधिक है. अमेरिका में कुल 24 करोड़ लोग फेसबुक के यूजर हैं. भारत में फेसबुक का इतना बड़ा यूजर बेस देखकर भी आनंद महिन्द्रा ने इसे लेकर कोई अहम कदम उठाने की सोची हो सकती है. जरा सोच कर देखिए, अगर आज फेसबुक बंद हो जाता है और इसके बदले भारत का कोई अपना सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च होता है, तो उसके सामने ग्रोथ की अपार संभावनाएं हैं.

स्वदेशी फेसबुक बनाने वाले को महिन्द्रा की फंडिंग

आनंद महिन्द्रा ने अपने ट्वीट में लिखा है कि अब ये सोचने की जरूरत है कि क्या हमारा अपना खुद का सोशल मीडिया नेटवर्क होना चाहिए, जिसे प्रोफेशल तरीके से चलाया जाए और रेगुलेट किया जाए. साथ ही वह कहते हैं कि अगर कोई भारतीय स्टार्टअप है, जिसका इस तरह का कोई प्लान है तो वह उस प्लान को देखना चाहेंगे और उसके इस स्टार्टअप में पैसे भी लगा सकते हैं.

एक सहकर्मी ने दिया ये आइडिया

आनंद महिन्द्रा के इस ट्वीट पर उन्हीं के एक सहकर्मी ने अपनी बात कही और 'blockchain-enabled social 3.0' नेटवर्क बनाने का आइडिया दिया. आनंद महिन्द्रा ने इस आइडिया का स्वागत करते हुए उनसे कहा है कि वह लोगों से मिलने वाले आइडिया और प्रस्तावों को देखने और उनमें से सबसे अच्छा आइडिया छांटने में उनकी मदद करें. इससे ये तो साफ हो जाता है कि अब स्वदेशी फेसबुक का आना तय है. आनंद महिन्द्रा लोगों से मिले आइडिया पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं. बस देखना ये होगा कि इस स्वदेशी फेसबुक का नाम क्या होगा और कब तक यह बाजार में लॉन्च होगा. साथ ही उन्होंने अपने-अपने आइडिया देने के लिए लोगों को धन्यवाद भी कहा है.

जितनी तेजी से फेसबुक दुनिया भर में पैर पसार रहा था, उसे देखकर ऐसा लगता था कि कोई भी उसे टक्कर नहीं दे सकता है. लेकिन विवादों में फंसे फेसबुक और आनंद महिन्द्रा के ट्वीट से यह साफ हो गया है कि एक और खिलाड़ी मैदान में उतरने को तैयार है. तो अगर आपके पास भी कोई आइडिया है फेसबुक जैसा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म शुरू करने का तो आनंद महिन्द्रा तक पहुंचाइए अपनी बात. क्या पता आपका ही आइडिया उन्होंने पसंद आ जाए और जनता को भी फेसबुक का एक विकल्प मिल जाए.

ये भी पढ़ें-

मोबाइल apps को दी जाने वाली इजाजत 'छोटा भीम' वाली बात नहीं

मुन्ज़िर को ऐसे सलमान खान बनाया फेसबुक ने

Whatsapp इस्तेमाल करने में ये गलतियां करते हैं भारतीय

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय