charcha me| 

सोशल मीडिया

 |  6-मिनट में पढ़ें  |   08-11-2018
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

एक ऐसे समय में जब सोशल मीडिया पर गोल गप्पे के पानी में बुलबुले उठने से लेकर बंदरों द्वारा पुचकारे जा रहे वीडियो वायरल हो रहे हैं, तो पीएम मोदी का ये वीडियो कैसे अछूता रह सकता था. दिखाई दे रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी एक छोटी बच्ची से राहुल गांधी को पप्पू कहलाते नजर आ रहे हैं. कुछ कांग्रेस नेताओं के सोशल मीडिया हैंडल से यह वीडियो आगे बढ़ा और जंगल में आग की तरह फैल गया. जाहिर है इस वीडियो ने प्रधानमंत्री की आलोचना में जुटे लोगों को भी एक मौका दे दिया. यदि इस वीडियो पर गौर करें तो मिलता है कि किसी प्रोग्राम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए आधी बांह का कुर्ता और चूड़ीदार पजामा पहने पीएम मोदी आए हैं और उन्होंने एक बच्ची की अंगुली पकड़ी है.

पीएम मोदी, वायरल वीडियो, पप्पू, राहुल गांधी   एक बच्ची के द्वारा राहुल गांधी को पक्कू कहलाता पीएम मोदी का वीडियो सोशल मीडिया पर बड़ी तेजी के साथ शेयर किया जा रहा है

पीएम मोदी बच्ची की उंगली थामे माइक की तरफ बढ़ रहे हैं. मोदी पोडियम पर पहुंचकर बच्ची को गोद में उठाते हैं. अब बच्ची का मुंह माइक के पास है. चूंकि प्रोग्राम में मोदी आए हैं इसलिए लोगों की तालियों की आवाज गूंज रही है. पीएम मोदी माइक को बच्ची के मुंह से सटाते हुए कहते हैं- बोलो बेटा. बच्ची कहती है- राहुल, पप्पू. राहुल गांधी पप्पू है. बच्ची के इतना कहते ही मोदी मुस्कुराकर बच्ची का सिर थपथपाते हैं और उसे शाबाशी देते हैं और उसे अपने पीछे खड़े बॉडीगार्ड्स को पकड़ा देते हैं.

ये वीडियो सच्चा है या झूठा इससे लोगों को कोई मतलब नहीं है. उन्हें बस इसे शेयर करना है. इस वीडियो को ऐसे ऐसे शब्दों के साथ शेयर किया जा रहा है जिससे केवल प्रधानमंत्री की छवि धूमिल हो रही है.

क्या है हकीकत

देश के प्रधानमंत्री पर ये गंभीर आरोप थे अतः हमने इस वीडियो के बारे में सर्च किया. हमें वीडियो मिला मगर वो वीडियो ऐसा बिल्कुल नहीं था जैसा वीडियो हम आज देख रहे हैं. 18 सितंबर, 2016 को बीजेपी ने इस वीडियो को अपने यूट्यूब पेज पर पोस्ट किया था.

वीडियो गुजरात के नवसारी का है जहां पीएम मोदी अपना जन्मदिन मनाने के लिए गए थे. ये वीडियो भले ही कुछ सेकंडों का हो मगर जब असली वीडियो को देखें तो मिलता है कि असली वीडियो 1 मिनट 16 सेकंड का है जिसमें  पीएम मोदी एक दृष्टि बाधित बच्ची से रामायण सुनाने के लिए कह रहे थे. उस वीडियो में राहुल गांधी का कहीं दूर दूर तक जिक्र नहीं था बल्कि बच्ची असल में रामायण की कहानी को एक कविता की शक्ल में पढ़ रही थी. वीडियो में बच्ची ने कहा था कि

एक राजा था, उनका नाम दशरथ था

उनकी तीन रानियां थीं- कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी

राजा के थे चार बेटे- राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न…

बात साफ है वीडियो को बहुत ही घटिया तरीके से मॉर्फ़ किया गया है और कविता वाले हिस्से को काटकर वहां राहुल गांधी पप्पू है चिपकाया गया है. कहना गलत नहीं है कि जिस तरह का माहौल है. हो सकता है कांग्रेस के ही किसी व्यक्ति ने ऐसा किया हो. जी हां भले ही ये बात व्यक्ति को विचलित कर दे मगर इसे नकारना एक बड़ी भूल साबित होगी.

हम ऐसा इसलिए भी कह रहे हैं क्योंकि भाजपा से जुड़ा कोई कार्यकर्ता या कोई भाजपा समर्थक ऐसा हरगिज नहीं करेगा. यहां जिस तरह से पीएम के आगे राहुल गांधी को महान दर्शाया गया और उन्हें पप्पू बनाया गया. उससे साफ हो गया है जब बात किसी ऐसे व्यक्ति की होती है जिसे हम बिल्कुल भी पसंद नहीं करते, आदमी सारी सीमाएं लांघ जाता है और ऐसा बहुत कुछ कर देता है जिसे नहीं करना चाहिए.

अब क्योंकि ये वीडियो वायरल हो चुका है हम बस ये कहकर अपनी बात को विराम देंगे कि जो हुआ बिल्कुल भी अच्छा नहीं हुआ. जैसे हर पीली वस्तु सोना नहीं होती वैसे ही हर वायरल वीडियो सच नहीं होता. कांग्रेस के वो समर्थक जो इस वीडियो को वायरल करने के आतुर दिख रहे हैं उन्हें कम से कम एक बार इस वीडियो का रियलिटी चेक जरूर करना चाहिए था. साथ ही उन्हें ये भी याद रखना चाहिए था कि जैसे इन वीडियोज का बनना एक अपराध है वैसे ही बिना जाने बूझे इन्हें शेयर करना भी किसी अपराध से कम नहीं है. 

ये भी पढ़ें -

राहुल गांधी मध्यप्रदेश जाकर इतने कंफ्यूज क्यों हो गए?

राम नाम पर BJP का पहला टिकट अपर्णा यादव को ही मिलेगा

राम मंदिर पर अध्यादेश से पहले अयोध्या में देखने लायक होगा योगी का दिवाली 'गिफ्ट'

 

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय