होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 06 अप्रिल, 2019 01:01 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

हेमा मालिनी को उत्तरप्रदेश के मथुरा से भाजपा कैंडिडेट हैं. और सभी पार्टी प्रत्याशियों की तरह वो भी इन दिनों चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं. उत्तर भारत में चिलचिलाती गर्मी पड़ रही है और इसी बीच चुनाव प्रचार में अपना दम खम भी दिखाना है. सेलिब्रिटीज के लिए सोचिए कितना मुश्किल समय होगा ये.

लेकिन एसी गाड़ी में बैठने वाली हेमा मालिनी आजकल अपनी सारी नजाकत छोड़ छाड़ के मथुरा के ग्रामीण वोटरों को लुभाने में लगी हुई हैं. हेमा इन चुनावों में जो भी कर रही हैं वो वायरल हुए जा रहा है. कैंपेन के पहले दिन यानी 31 मार्च को ही हेमा मालिनी गेहूं के खेत में पहुंच गई थीं. और उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थीं. आज वो मथुरा के गोवर्धन इलाके में एक खेत में ट्रैक्टर चलाती दिखाई दीं. भला ऐसी तस्वीरों को वायरल होने से कोई रोक भी कैसे सकता था.

hema maliniहेमा मालिनी चुनाव प्रचार के दौरान खेतों में ज्यादा नजर आ रही हैं

और पिछली बार की तरह इस बार भी हेमा मालिनी ट्रोल हो गईं. लोग उनके इस अवतार का भी मजाक बना रहे हैं. इस बार तो उनकी अपनी बेटी ईशा देओल ने उनकी तस्वीर इंस्टाग्राम पर शेयर करते हुए कहा- 'बसंती समय के साथ आगे बढ़ रही है...तांगा से ट्रैक्टर तक. ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी मथुरा... हालांकि उन्होंने बाद में ये पोस्ट हटा ली.

hema maliniमथुरा के किसानों के बीच रहकर मांग रही हैं वोट

लेकिन इस ट्रेक्टर वाली तस्वीर को लेकर सोशल मीडिया पर एक सवाल उठने लगा कि हेमा मालिनी के साथ ट्रैक्टर पर लगे दो ड्रम क्यों लगाए गए हैं. अमूमन ट्रेक्टर में इस तरह की कोई चीज नहीं लगी होती, फिर ये ड्रम क्यों लगे थे? इसे लेकर सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि गर्मी से बचने के लिए हेमा के ट्रैक्टर में एसी लगवाया गया.

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने हेमा मालिनी की तस्वीर पर तंज कसते हुए पूछा कि- 'साइड में ये ड्रम किसलिए लगाए हुए हैं? ये मत कहना कि ये ठंडी हवा के लिए लगाए गए मिस्ट जेनेरेटर हैं. कितना फैन्सी ट्रैक्टर है न'

omar tweet

लेकिन इस तस्वीर पर लोगों ने ही ये बताया कि ट्रैक्टर पर लगे ये ड्रम असल में स्पीकर हैं. जी हां म्यूजिक स्पीकर. जिन्हें अमूमन किसान अपने ट्रैक्टर में लगवा लेते हैं. जब किसान खेतों में काम करते हैं तो इन स्पीकर के जरिए संगीत भी सुनते रहते हैं. यानी काम के साथ-साथ संगीत का आनंद भी उठाते हैं जिससे न बोरियत महसूस होती है और न थकान.

खैर हेमा मालिनी एक बार फिर सुर्खियों में हैं. लोग पूछते भी हैं कि हेमा मालिनी खेतों में क्या कर रही हैं. इसका जवाब भी वैसा ही है जैसा ये सवाल. यानी जब पता है तो फिर पूछना ही क्या. चुनावी मौसम में हर कोई वही कर रहा है. और इसके लिए इन्हें कहा भी क्या जा सकता है. लेकिन ये सब करते हुए हेमा मालिनी का मजाक कुछ ज्यादा ही बन जाता है.

hema maliniहेमा मालिनी फिल्मों में ही ये रोल करती अच्छी लगती हैं, रियल लाइफ में नहीं

कुछ दिनों पहले भी वो गेहूं के खेत में हाथ में हसिया लिए फसल काटती नजर आ रही थीं. खेतों में काम करने वाली महिलाओं के पास खड़े होकर फोटो खिंचवा रही थीं. ये वही हेमा हैं जो जब अपनी बीएम डब्ल्यू से निकलती हैं तो पीछे बड़ी सी छतरी पकड़े हुए उनका नौकर साथ चलता है. कि कहीं मैडम की स्किन पर धूप न पड़ जाए, टैनिंग हो जाएगी. धूप से बचने के लिए ब्रांडेड सनग्लासेज़ आखों पर चढ़े रहते हैं.

जाहिर सी बात है कोई भी एक बॉलीवुड अभिनेत्री से इस तरह के जमीनी कामों की उम्मीद नहीं करता. उम्मीद तो छोड़िये ये काम इन्हें सूट भी तो नहीं करते. एक्ट्रेस का राजनीति में आकर भाषणबाजी करना तो समझ आता है, लेकिन किसानों की हमदर्द बनने के लिए किसानों के साथ खेतों में काम करना थोड़ा ज्यादा ही हो गया. इसीलिए हेमा मालिनी को सोशल मीडिया पर सही मायने में अभिनेत्री ही कहा जा रहा है. और मजे की बात तो ये है कि ये जिन्हें लुभाने के लिए ये सब कर रही हैं, वो भी आज इनकी हकीकत जानते हैं. वोट क्या-क्या न करवाए...  

ये भी पढ़ें-

जूता पॉलिश करने से लेकर चप्‍पल खाने तक तैयार उम्‍मीदवार, ये चुनाव है...

वायनाड में भाजपा है नहीं, सीपीएम के खिलाफ राहुल बोलेंगे नहीं, तो वहां करने क्या गए हैं?

भाजपा और मोदी फिलहाल अदम्य और अपराजेय हैं!

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय