charcha me| 

होम -> सियासत

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 31 मई, 2022 05:26 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

दिल्ली के स्वस्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन अब 9 जून तक ईडी की हिरासत में रहेंगे. कोलकाता की एक कंपनी से जुड़ा हवाला का लेन-देन सत्येंद्र कुमार जैन को महंगा पड़ा है. आम आदमी पार्टी के बड़े और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के करीबियों में शुमार जैन की गिरफ़्तारी पर ईडी ने अपना पक्ष रखा है. प्रवर्तन निदेशालय की तरफ से कहा गया है कि मामले की जांच हुई जिसमें ये पाया गया कि 2015-16 के दौरान सत्येंद्र जैन लोकसेवक की भूमिका में थे, तब उनके द्वारा लाभकारी स्वामित्व वाली और नियंत्रित कंपनियों को हवाला के जरिए कोलकाता बेस्ड एंट्री ऑपरेटरों को नकद ट्रांसफर के बदले शेल कंपनियों से 4.81 करोड़ रुपए प्राप्त हुए थे. 

Satyendra Jain, Delhi, Aam Aadmi Party, Enforcement Directorate, Arrest, Asset, Arvind Kejriwal, Manish Sisodia सत्येंद्र जैन की गिरफ़्तारी ने अरविंद केजरीवाल की मुसीबतें बढ़ा दी हैं

वहीं ईडी ने इस बात का भी जिक्र किया कि जैन ने इस रकम का इस्तेमाल दिल्ली और उसके आसपास कृषि योग्य भूमि की खरीद के लिए लिए गए कर्ज की अदायगी के लिए किया. ध्यान रहे, जैन की जिंदगी में भूचाल 2017 में उस वक़्त आया जब ईडी ने सत्येंद्र जैन और अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग जांच की शुरुआत की थी.

ऐसा बिलकुल नहीं है कि ये सब अचानक ही हुआ है. बीते दिनों प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के तहत सत्येंद्र जैन के परिवार और कंपनियों की 4.81 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की थी. उस वक़्त ईडी पर तमाम तरह के आरोप लगे थे जिसपर कहा ईडी ने एक बयान जारी किया और कहा था कि उसने संपत्ति की कुर्की के लिए धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत एक अस्थायी आदेश जारी किया है.

अब जबकि जैन को गिरफ्तार कर लिया गया है मामले ने राजनीतिक रंग ले लिए हैं. लगातार प्रतिक्रियाएं आ रही हैं और जैसा इस एक्शन पर लोगों का रुख है सवालों के घेरे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके दावे हैं. जैन की गिरफ्तरी के बाद भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष ने ट्वीट किया है और केजरीवाल के ईमानदारी भरे शासन के दावे को फर्जी करार दिया है. 

वहीं इस गिरफ़्तारी पर संजय सिंह और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. संजय सिंह ने कहा है कि ये मामला साफ़ दर्शाता है कि जांच एजेंसियों का बेजा इस्तेमाल किया जा रहा है. वहीं संजय सिंह ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों का भी जिक्र किया है और कहा है कि बीजेपी हिमाचल में चुनाव हार रही है और उसी हार की खीझ के परिणाम स्वरुप ये एक्शन लिया गया है. 

जैन की गिरफ़्तारी पर अपना पक्ष रखते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा है कि सत्येंद्र जैन के खिलाफ 8 साल से फर्जी केस चल रहा था. ईडी ने उन्हें कई बार बुलाया और बीच में जांच रोक दी क्योंकि उन्हें कुछ मिला नहीं. ये सब इसलिए शुरू हुआ है क्योंकि जैन को हिमाचल प्रदेश में चुनाव प्रभारी बनाया गया है. 

 

भाजपा नेता सीटी रवि ने ट्वीट करते हुए कहा है कि ईडी द्वारा दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को गिरफ्तार किए जाने के साथ ही देश के सामने 'आप' के भ्रष्टाचार का पर्दाफाश हुआ है. वहीं उन्होंने ये भी कहा है कि आप कभी भी लोगों की सेवा के लिए शुरू की गई पार्टी नहीं थी, यह हमेशा भ्रष्ट और खालिस्तानियों की पार्टी थी जो एक 'छिपे हुए एजेंडे' के साथ काम कर रही है. 

दिल्ली के स्वस्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन के साथ जो ईडी ने किया है वो उनके बुरे कर्मों का फल है. या फिर साजिश. इसका फैसला तो वक़्त करेगा लेकिन जो वर्तमान है उसमें ये पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल के लिए बड़ा झटका इसलिए भी है क्योंकि हिमाचल और गुजरात जैसे राज्यों में चुनाव है और आम आदमी पार्टी ईमानदारी और सुशासन के दावे के साथ ही इन राज्यों में एंट्री मार रही थी.  

ये भी पढ़ें -

औरंगजेब की मंशा के मुताबिक 'देवबंद' ने आकार लिया था, मदनी साब तो शुक्राना अदा करेंगे ही!

डॉग वॉक वाले IAS अफसर के सपोर्ट में मेनका गांधी क्यों - ये एनिमल राइट्स का केस तो है नहीं?

मोदी स्टेडियम में अमित शाह की मौजूदगी में गुजरात टाइटंस की IPL जीत, क्या खूब सितारे मिले!

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय