होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 17 फरवरी, 2019 06:03 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए CRPF जवानों के परिवार की मदद करने के लिए पूरा हिंदुस्तान आगे आ गया है. शहीद सैनिकों में किसी का बेटा, किसी की बेटी, किसी के माता-पिता, किसी की पत्नी सभी खुद को असहाय महसूस न करें इसलिए हर कोई अपनी तरह से कोशिश कर रहा है.

केंद्र और राज्य सरकारें अपनी तरफ से शहीदों के परिवारों की मदद कर रही हैं. सरकारी कर्मचारी भी अपने-अपने स्तर पर पैसे दे रहे हैं. अमिताभ बच्चन, मुकेश अंबानी और कई अन्य लोगों ने शहीदों के परिवारों के लिए आर्थिक मदद की है. ऐसे में लगभग हर भारतीय ये सोच रहा है कि वो शहीदों के परिवारों की कैसे मदद करे. कई जगह वॉट्सएप और फेसबुक पर कई अकाउंट नंबर वायरल हो रहे हैं और साथ ही ये मैसेज दिया जा रहा है कि इनपर पैसे भेजने पर शहीदों के परिवार तक पैसा पहुंच जाएगा, लेकिन बिना जांच पड़ताल ऐसे किसी भी अकाउंट में पैसे भेजने से बचें.

अगर शहीदों के परिवार की आर्थिक मदद करनी है तो इन तरीकों से की जा सकती है-

1. 'भारत के वीर' वेबसाइट करेगी मदद-

भारत सरकार ने भारत के वीर वेबसाइट सेना की मदद के लिए ही बनाई थी. इस वेबसाइट के जरिए सीधे तौर पर शहीदों के परिवारों की मदद की जा सकती है. सलमान खान, अक्षय कुमार जैसे स्टार्स इसी वेबसाइट के जरिए शहीदों के लिए पैसे भेज चुके हैं. आप 'Bharat Ke Veer' एप भी डाउनलोड कर सकते हैं. ये एप वेबसाइट की पूरी जानकारी देगा और साथ ही साथ ये भी बताएगा कि पैसे कैसे शहीदों के परिवारों तक पहुंचेंगे.

भारत के वीर वेबसाइट द्वारा शहीदों के परिवार के लिए सीधे फंड भेजे जा सकते हैं.भारत के वीर वेबसाइट द्वारा शहीदों के परिवार के लिए सीधे फंड भेजे जा सकते हैं.

'भारत के वीर' योजना अप्रैल 2017 में गृह मंत्रालय द्वारा शुरू की गई थी. जो भी पैसा इस वेबसाइट के जरिए जमा किया जाता है वो या तो पूरा का पूरा शहीदों के परिवारों के अकाउंट में चला जाता है या फिर वो Bharat Ke Veer corpus fund द्वारा ऐसे परिवारों के उद्धार के लिए लगा दिया जाता है.

2. सेना वेलफेयर फंड को करें दान

भारत के वीर कॉर्पस फंड की ही तरह 'Army Welfare Fund Battle Casualties' भी एक तरह का फंड है जिसमें सेना के जवानों के लिए पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं. जो भी डोनेशन इस फंड द्वारा आती हैं उन्हें शहीदों के परिवारों के कल्याण में लगाया जाता है और शहीदों की विधवाओं को पेंशन देना और अन्य कामों के लिए इसका इस्तेमाल होता है.

इस फंड में डोनेशन देने के लिए "Army Welfare Fund Battle Casualties" के नाम का डिमांड ड्राफ्ट नई दिल्ली भेजा जा सकता है, या फिर सीधे अकाउंट में पैसे भेजने के लिए "Army Welfare Fund Battle Casualties" के अकाउंट नंबर Syndicate Bank (IFSC: SYNB0009055; Account No.: 90552010165915) पर पैसे भेजे जा सकते हैं.

3. नेशनल डिफेंस फंड भी कर सकता है मदद

एक ऐसा ही आर्मी से जुड़ा फंड है नेशनल डिफेंस फंड. इस फंड में जो भी पैसा जाता है वो सीधे आर्मी तक पहुंचता है और साथ ही ये फंड पूरी तरह से पब्लिक के पैसे पर ही निर्भर करता है. यानी ये फंड आर्मी द्वारा बनाया गया है और सीधे आम नागरिकों का पैसा जाता है. इस फंड में सीधे पैसे NDF की वेबसाइट ndf.gov.in/ द्वारा डाले जा सकते हैं.

इस फंड में पैसे भेजना काफी आसान है.इस फंड में पैसे भेजना काफी आसान है.

इसके अलावा, pmindia.nic.in और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की आधिकारिक वेबसाइट द्वारा भी पैसे भेजे जा सकते हैं.

4. आर्मी सेंट्रल वेलफेयर फंड में दे सकते हैं योगदान-

सेना के लिए योगदान देना है तो आर्मी सेंट्रल वेलफेयर फंड का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. यहां भी डिमांड ड्राफ्ट एक विकल्प है. आधिकारिक ऐड्रेस पर "Army Central Welfare Fund" के नाम डिमांड ड्राफ्ट भेजा जा सकता है. अगर सीधे बैंक अकाउंट में फंड ट्रांसफर करने हैं तो Corporation Bank (IFSC: CORP0000205; Account No.: 020500101007721) अकाउंट पर ट्रांसफर किया जा सकता है.

ये चारों ही फंड सेना के कल्याण के लिए पैसे लगाते हैं और किसी न किसी तरह से शहीद सैनिकों के परिवारों को फायदा पहुंचाते हैं.

5. Paytm से भी भेज सकते हैं पैसे-

अंतिम उपाय Paytm भी है. पेटीएम ने केरल बाढ़ के समय भी इसी तरह का फंड बनाया था और ऐसा ही फंड सेना के शहीद जवानों के परिवारों के लिए है. फिर भी अगर आपको पेटीएम पर भरोसा नहीं है तो ऊपर दिए हुए किसी भी आधिकारिक सरकारी तरीके का इस्तेमाल कर सकते हैं.

इसके अलावा, कई आधिकारिक NGO जैसे मिलाप फाउंडेशन आदि भी सेना के शहीद जवानों के लिए आम लोगों से डोनेशन ले रहे हैं. अपने इलाके के लोकल एनजीओ से भी संपर्क किया जा सकता है, लेकिन उस स्थिति में ध्यान रखिएगा कि NGO फर्जी न हो और जो भी पैसा आप दान कर रहे हैं वो वाकई शहीदों के परिवारों के काम आए.

ये भी पढ़ें-

कश्‍मीरी आतंकवाद की कमर तोड़ने के रणनीति में आमूल-चूल बदलाव जरूरी

कश्मीर के जेहाद को ‘पॉलिटिकल समस्या’ कहना बड़ी भूल है

Kashmir Attack, Pulwama Terrorist Attack, CRPF Soldiers Killed

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय