होम -> सियासत

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 23 अप्रिल, 2019 04:30 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान में एक बार फिर ईवीएम का शोर मचने लगा है. पहले चरण के मतदान के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम को लेकर हंगामा खड़ा किया था. तीसरा चरण आते-आते विपक्ष के लगभग सभी बड़े नेता ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत करने लगे. आज ही केरल में भी मतदान हो रहा है और राहुल गांधी की वायनाड सीट से भी ईवीएम में गड़बड़ी की खबर सामने आ रही हैं. ये अकेली घटना नहीं है, बल्कि देश के अलग-अलग हिस्सों से ईवीएम में गड़बड़ी की खबर सामने आ रही है, जिस पर नेता अपनी आपत्ति दर्ज कर रहे हैं.

ऐसा नहीं है कि सिर्फ विपक्ष ही ईवीएम खराब होने की शिकायत कर रहा है. केरल की वायनाड सीट पर राहुल गांधी को टक्कर देने के लिए एनडीए ने तुशार वेल्लापल्ली को मैदान में उतारा है. ये घटना अरापट्टा के सीएमएस हायर सेकेंडरी स्कूल में लगे बूथ नंबर 79 की है. आरोप है कि वोटिंग मशीन खराब है. दो बार बटन दबाने के बावजूद वोट दर्ज नहीं हो रहा है. वेल्लापल्ली ने निर्वाचन अधिकारी को इसकी लिखित शिकायत करते हुए दोबारा चुनाव की मांग की है. आपको बता दें कि वेल्लापल्ली भारत धर्म जन सेना (बीडीजेएस) के प्रमुख हैं.

ईवीएम, अखिलेश यादव, लोकसभा चुनाव 2019, केरलअखिलेश यादव ने 350 से अधिक ईवीएम में गड़बड़ी की बात कही है.

रामपुर में 300 ईवीएम खराब !

समाजवादी पार्टी की ओर से रामपुर के प्रत्याशी आजम खां के विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम खां ने ईवीएम खराब होने की शिकायत की है. उनके अनुसार रामपुर में करीब 300 ईवीएम खराब हो गई हैं. उन्होंने तो ये भी आरोप लगाया है कि पुलिसवाले मतदाताओं को डरा-धमका रहे हैं. अब्दुल्ला ने कहा कि ये भी सुनने को मिल रहा है कि कुछ लोगों से उनकी राइफल तैयार रखने को कहा गया है. अब्दुल्ला का मानना है कि ये सब मतदाताओं को डराने के लिए किया जा रहा है. उनका कहना है कि सत्ताधारी पार्टी यानी भाजपा महागठबंधन यानी सपा-बसपा-रालोद को डराने की कोशिश कर रही है.

आपको बता दें कि इस लोकसभा चुनाव में करीब 22.3 लाख बैलेट यूनिट, 16.3 लाख कंट्रोल यूनिट और लगभग 17.3 लाख वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. देश में कुल 10.6 लाख पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं. अगर किसी चुनाव में 5 फीसदी से अधिक वीवीपैट या ईवीएम मशीनें खराब होती हैं, तभी किसी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का चुनाव रद्द किया जाता है. यानी 5 फीसदी तक मशीनें अगर खराब पाई भी जाती हैं तो कोई दिक्कत वाली बात नहीं है. वैसे भी, मशीन के साथ दिक्कत होना कोई नई बात नहीं है.

अखिलेश ने कहा आपराधिक लापरवाही

रामपुर में ईवीएम की गड़बड़ी पर अखिलेश यादव ने भी सवाल उठाया है. उन्होंने ट्वीट किया है- 'पूरे भारत में ईवीएम खराब या भाजपा के लिए मतदान. डीएम का कहना है कि ईवीएम का संचालन कर रहे मतदान अधिकारियों को ट्रेनिंग नहीं दी गई है. 350 से अधिक ईवीएम को बदला जा चुका है. जिस चुनाव के लिए 50,000 करोड़ रुपए खर्च होते हैं, वहां ऐसी घटना आपराधिक लापरवाही है. क्या हमें डीएम पर विश्वास करना चाहिए, या कुछ और भी है जो इससे भी अधिक भयावह है?' अखिलेश यादव ने ये भी कहा है कि सारे वोट भाजपा को जा रहे हैं.

चुनाव अधिकारी को भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीटा

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में तो ईवीएम की वजह से मारपीट तक की नौबत आ गई. हालांकि, यहां ईवीएम खराब नहीं हुई, बल्कि ईवीएम संचालक पर आरोप लगा कि वह लोगों को समाजवादी पार्टी को वोट देने के लिए उकसा रहा है. यह घटना बूथ नंबर 231 की है. भाजपा कार्यकर्ताओं ने एक चुनाव अधिकारी की पिटाई कर दी और आरोप लगाया कि वह सभी को साइकिल का निशान दबाने को कह रहा था, जो समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह है.

केजरीवाल ने भी उठाए ईवीएम पर सवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ईवीएम पर सवाल उठाए हैं. केरल से शिकायत आई कि हाथ के निशान के सामने का बटन दबाने पर कमल के फूल की लाइट जल रही है. सभी खरीब ईवीएम का वोट भाजपा को ही क्यों जा रहा है? अरविंद केजरीवाल ने इसका एक ट्वीट शेयर करते हुए लिखा- भाजपा को वोट करने वाली एक और खराब ईवीएम. उन्होंने गोवा में भी ईवीएम की गड़बड़ी की वजह से भाजपा को वोट जाने वाला एक ट्वीट शेयर किया.

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने भी ईवीएम पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा है कि बहुत से बूथों से ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत आ रही है. खैर, जितना अधिक ईवीएम को लेकर हो-हल्ला यूपी में हो रहा है, उतना और कहीं नहीं है. यहां एक-दो नहीं 300 ईवीएम वो भी एक ही लोकसभा क्षेत्र से खराब होने की खबर आ रही है. डराने धमकाने से लेकर मारपीट तक की घटनाएं हो रही हैं. हां, इस बार एक बात ये खास है कि एनडीए के उम्मीदवार ने भी ईवीएम पर सवाल खड़ा किया है. हालांकि, वह भाजपा का नहीं, बल्कि उनकी सहयोगी पार्टी का प्रत्याशी है.

ये भी पढ़ें-

गुजरात में बीजेपी के लिए सभी 26 सीटें जीतना मुश्किल है

15 लाख के सवाल पर भरी सभा में दिग्विजय पर 'सर्जिकल स्ट्राइक'

..तो राहुल गांधी ने राफेल का विवाद ही 'उत्‍तेजना' में खड़ा किया है!

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय