होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 फरवरी, 2020 10:51 PM
मृगांक शेखर
मृगांक शेखर
  @msTalkiesHindi
  • Total Shares

दिल्ली चुनाव (Delhi Election 2020) में बीजेपी और कांग्रेस की तरह आम आदमी पार्टी ने भी कुछ प्रयोग (Political Experiments by AAP) किये हैं. शाहीन बाग को लेकर संयोग और प्रयोग की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की बहस तो खासी चर्चित रही, लेकिन AAP के सियासी प्रयोगों की तरफ कम लोगों का ध्यान गया.

शरजील इमाम के बाद आम आदमी पार्टी डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के OSD रहे एक अफसर के रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े जाने पर घिर गयी है. अफसर को CBI ने गिरफ्तार किया है. मनीष सिसोदिया ने गिरफ्तारी पर वैसे ही रिएक्ट किया है जैसे शरजील केस को लकेर केजरीवाल का कहना रहा कि अगर वो आप से जुड़ा है तो डबल सजा दो.

दरअसल, दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच के डीसीपी ने शरजील के मोबाइल की जांच के बाद उसके आम आदमी पार्टी का सदस्य होने का दावा किया था. उसके बाद आम नेता संजय सिंह और आतिशी मार्लेना के साथ वाले शरजील के फोटो वायरल हो गये. हालांकि, चुनाव आयोग ने डीसीपी को फटकार लगाते हुए, दिल्ली पुलिस कमिश्नर को उसे चुनाव ड्यूटी से दूर रखने का आदेश दिया था. वैसे दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में दाखिल रिपोर्ट में अपना स्टैंड वही रखा है.

manish sisodia, arvind kejriwalकेजरीवाल गारंटी कार्ड AAP की तरफ से सबसे नया प्रयोग रहा

AAP के कैंपेन में चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के प्रयोग भी खूब दिखे. अरविंद केजरीवाल के बयान सुन कर तो ऐसा ही लगा जैसे स्क्रिप्ट प्रशांत किशोर की ही हो. बीजेपी नेताओं आतंकवादी कह देने के बाद भी अरविंद केजरीवाल ने अपना संयम अगर नहीं खोया तो क्रेडिट तो प्रशांत किशोर को ही मिलना चाहिये. बाद में तो केजरीवाल ने बिहार चुनाव की तरह DNA टेस्ट करते हुए प्रयोग भी किये - 'अगर आप लोग आतंकवादी मानते हो तो 8 फरवरी को बीजेपी को वोट दे देना...'

आप नेता अरविंद केजरीवाल के दो प्रयोग अनूठे भी रहे. एक टीवी पर हनुमान चालीसा का पाठ और दूसरा मैनिफेस्टो से पहले 'केजरीवाल गारंटी कार्ड'. गारंटी कार्ड के जरिये अरविंद केजरीवाल ने सत्ता में लौटने पर 10 काम हर हाल में पूरे करने का वादा किया है - बाकी वादे तो पहले की ही तरह आसमान से चांद-तारे तोड़ कर लान जैसे ही हैं.

हनुमान चालीसा का पाठ केजरीवाल के योगी आदित्यनाथ जैसे नेताओं को काउंटर करने का प्रयोग ही लगता है. बीजेपी के राष्ट्रवाद के एजेंडे के मुकाबले खुद को कट्टर देशभक्त बताते हुए केजरीवाल ने बीजेपी नेताओं को फर्जी हिंदू करार दिया है. केजरीवाल का दावा है कि बीजेपी नेता न तो हनुमान चालीसा का पाठ कर सकते हैं और न ही श्रीमद्भागवत गीता का.

इन्हें भी पढ़ें :

Shaheen Bagh वाली विधानसभा सीट से कौन जीतेगा?

Kejriwal की देशभक्ति और हनुमान भक्ति का दिल्‍ली चुनाव से रिश्‍ता क्‍या?

Delhi election में 'राहुल गांधी' बन गए हैं अरविंद केजरीवाल

Delhi Election 2020, AAP Campaign In Delhi Election, Arvind Kejriwal

लेखक

मृगांक शेखर मृगांक शेखर @mstalkieshindi

जीने के लिए खुशी - और जीने देने के लिए पत्रकारिता बेमिसाल लगे, सो - अपना लिया - एक रोटी तो दूसरा रोजी बन गया. तभी से शब्दों को महसूस कर सकूं और सही मायने में तरतीबवार रख पाऊं - बस, इतनी सी कोशिश रहती है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय