charcha me| 

होम -> ह्यूमर

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 जून, 2022 02:15 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

एक अंडर वियर के विज्ञापन ने धरती को उलाट-पुलाट कर दिया है. महिलाओं के क्‍लीवेज को घूरते पुरुष आमतौर पर देखे जा सकते हैं, मानो वहीं संसार के सारे गूढ़ रहस्य छुपे हैं. लेकिन अमूल माचो के विज्ञापन ने बता दिया है कि ऐसा एक स्‍थान पुरुषों के पास भी है, जिसे घूरने के लिए कोई महिला खट कर्म कर सकती है. और वो स्‍थान है एक मर्द की अंडरवियर का इलास्टिक. 

अब आप कहेंगे कि अरे ये कब हुआ? तो भइया, कुछ भी अतिशयोक्ति नहीं है. न तो हम पुरुषों की तरह महिलाओं को कुछ बुरी बातें कहते हुए कोस रहे हैं. असल में अभी यूट्यूब पर Amul Macho का एक ऐड देखा. ऐड में विक्की कौशल हैं और रश्मिका मंदाना हैं. यूं तो ऐड आ तो बहुत दिन से रहा था, मगर नजर इस पर आज पड़ी. इसे पूरा देखा. गंभीर होकर देखा. टकटकी बांध के देखा.

Vicky Kaushal, Rashmika Mandanna, Advertisement, Underwear, Boy, Girl, Indiaअमूल माचो के ऐड में विक्की की अंडर वियर की इलास्टिक को देखकर लुक देतीं रश्मिका

35-40 सेकंड के ऐड में देखने दिखाने की तमाम चीजें रही होंग हाय हमारी नजर! मुई गई भी तो विक्की कौशल की अंडर वियर की इलास्टिक पर. तो गुरु दोष तो अपना भी नहीं है. मैंने उद्देश्य पूरा किया है . मैं फील प्राउड कर रहा हूं कि जिस थॉट के साथ ऐड का निर्माण हुआ था, किसी ने उसे समझा हो या न समझा हो लेकिन अपनी समझ में सब आ गया है.

Amul Macho का क्लेम है कि उनका अंडर वियर है Crafted For fantasy. और जब हम ऐड का रुख करते हैं तो उसमें दिखाया गया है कि वो fantasy है क्या. विक्की भाई कौशल योग स्टूडेंट हैं. रश्मिका योग इंस्ट्रक्टर हैं. एक दिन अमूल माचो जैसी नायाब या ये कहें दुर्लभ चीज पहन कर विक्की क्लास में आते हैं. उनकी अंडर वियर दिख रही होती है. रश्मिका की नजर उसपर पड़ती है और ठहरी ही रह जाती है.

महसूस यही होता है कि रश्मिका देश की लड़कियों को यही संदेश दे रही हैं कि वो अगर जन्नत या स्वर्ग गयीं तो उसका आधार अमूल माचो जैसी अंडर वियर्स और उनकी इलास्टिक होगी. यानी जिस लड़की ने अपने जीवन में इलास्टिक लगी अमूल माचो के दर्शन किये होंगे मरने के बाद स्वर्ग/ जन्नत जैसी जगहों पर उसकी फ्री एंट्री होगी.

 

उपरोक्त बातें अजीबोगरीब लग रही होंगी. लगनी भी चाहिए. लेकिन एक बार. प्लीज एक बार इस नासपीटे ऐड का रुख कीजिये शायद ऐड मेकर्स ने यही सब बताने, यही सब दिखाने की नाकाम कोशिश की है.

सवाल जिसे पूछा जाना चाहिए वो ये कि आखिर चड्ढी (सभ्य भाषा में अंडर वियर पढ़ा जाए) का ऐसा क्या मोह की आदमी दीवानगी की पराकाष्ठा ठीक वैसे पार करे जैसे रश्मिका ने की. ऐड में रश्मिका को विक्की की ब्रीफ देखकर ऐसा क्या दिव्य ज्ञान मिला जिसने उन्हें भौचक्का कर दिया और उनका मुंह खुला का खुला रह गया.

इन बातों के बाद और ऐड में रश्मिका के एक्सप्रेशन देखकर एक बात मन में और आती है. रश्मिका के साथ साथ ऐड बनाने वालों को भी इस बात का विशेष ध्यान रखना था कि अंडर वियर देखने और उसे पहनने के बीच ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे हम जैसी अल्प बुद्धि का आदमी प्रिविलेज बोल खुद को बुद्ध जैसा धीर गंभीर दर्शाएगा.

नहीं वकाई. ऐसे विज्ञापन मजाक की पराकाष्ठा हैं. समझ में ये नहीं आता कि वो तमाम निर्माता और निर्देशक जो इन्हें बनाते हैं इन ऐड्स की मंशा क्या होती है? हैल्थ की दृष्टि से अंडर वियर की क्या प्रासंगिकता है बात उस पर होनी चाहिए थी लेकिन बड़ी बात ये है कि बात हो किस पर रही है.

लड़की को इंप्रेस करना, वो भी अंडर वियर से, किसी भी अच्छे भले इंसान को इंसेन कर सकता है. बाकी जिस तरह ऐड में इलास्टिक वाली अंडर वियर को देखकर अपनी बत्तीसी रश्मिका ने बाहर की है, क्या पता उस अंडर वियर में इलास्टिक और हमारी अंडर वियर की तरह ये बड़े बड़े छेद होते. या ये कहें कि एक छेद नुमा कपड़ा होता जिसमें अंडर वियर होती.

खैर! जिस तरह का ये विज्ञापन है और जैसे इसमें अंडर वियर की इलास्टिक को एक फैंटेसी की तरह दर्शाया गया है रश्क होता है एक एक्टर के रूप में विक्की कौशल पर. यहां तो न जाने कितनी अंडर वियर फट गई. न जाने कितनी का गाड़ी साफ़ करने का कपड़ा बना दिया. लेकिन किसी लड़की का मुस्कुराना क्या किसी ने आज तक देखा भी नहीं.

या फिर जिसने देखा उसकी नजरों से साफ था कि वो बेहूदा, बदतमीज जैसी संज्ञा से नवाज रही है. बात बाकी ये है कि फैंटेसी तो हर आदमी में होती है लेकिन अंडर वियर को लेकर फैंटेसी सोच और कल्पना दोनों से परे है.

ये भी पढ़ें -

अल्लाह ने दुनिया बनाई, फिर अल्लाह ने कानपुर बनाया... अब दंगे को मत रोइये

'पासवर्ड शेयरिंग' को टारगेट कर भारत की एकता-भाईचारे को तोड़ने की फ़िराक में है Netflix!

ममता क्या ही समझेंगी मोटा होने की क्यूटनेस, कमर को कमरा बनाने में मेहनत लगती है!

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय