होम -> ह्यूमर

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 01 जून, 2019 06:30 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

बात कुछ दिनों पहले की है. मेरे पड़ोसी का 3 साल का बेटा, जिसे हम प्यार से 'पप्पू' कहते हैं. मेरे घर पर था और खेल रहा था. वो वहां अपनी किताबों के साथ आया था. अच्छा क्योंकि वो मेरे सामने ही बैठा था तो मैंने भी उसकी किताब उठा ली और खुद को टीचर समझ उससे सवाल जवाब करने लग गया. 'अ' से शुरू हुआ हमारा सफर, कब 'र' तक आ गया न मुझे पता चला, न उसे. मैंने पप्पू से पूछा अच्छा बेटा अब बताओ 'र' से क्या होता है? मुझे लगा पप्पू, मुझे 'रेल' से लेकर 'रात' तक कोई भी चीज बताकर जवाब दे देगा. मगर मैंने उस समय दांतों तले अंगुली दबा ली, जब सवाल सुनने के अगले ही पल उसने 'र' से राफेल बताया. मैं एकदम भौचक्का. मैंने फौरन ही उससे पूछा अरे पप्पू! र से राफेल होता है ये तुम्हें तुम्हारी मैम ने बताया है? तुतलाते हुए पप्पू का जवाब और ज्यादा हैरत में डालने वाला था. बोला नहीं मैंने 'तीवी' पर 'शुना' था कोई 'लालुल गांही' (राहुल गांधी) हैं वो बाल-बाल (बार-बार) राफेल राफेल कलते (करते) हैं मैंने वहीं सुना.

राफेल, विमान, भारतीय सेना, कांग्रेस, राहुल गांधी      राफेल मुद्दे को लेकर लम्बे समय से राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी की किरकिरी हो रही है

पप्पू की बातों से मेरी उत्सुकता बड़ी. मैंने उसे गोद में उठा लिया और चॉकलेट खिलाते हुए उससे पूछा. अच्छा पप्पू बताओ और तुम क्या रफेल के बारे में जानते हो ? पप्पू कहने लगा - जानते हो अंकल "राफेल ललाकू (लड़ाकू)विमान है' मैंने पूछा और, तो अपनी तोतली जुबान में बोला कि इससे लड़ा जाता है और हम इससे पाकिस्तान को भी हरा सकते हैं. अभी पप्पू मुझसे बात कर ही रहा था कि इतने में उसकी मम्मी ने आवाज़ दे दी और वो चला गया.

पप्पू के जाने के बाद मुझे काफी देर तक हंसी आई और मैंने भी बार बार ये दोहराता रहा कि 'र' से राफेल है जो एक लड़ाकू विमान है और जिसके बारे में बात राहुल गांधी करते हैं. भले ही राफेल का फायदा कांग्रेस को न हुआ हो  मगर इस देश की एक बड़ी आबादी ऐसी है जो रफेल का नाम वैसे ही नहीं भूल सकता जैसे उसके लिए अपनी पत्नी की कानपुर वाली बुआ की लड़की जिसकी शादी उन्नाव में हुई है और जिसकी रिश्तेदारी हाथरस वाले फूफा जी से उसका नाम भूलना. मतलब राहुल गांधी की किसी भी रैली को उठाकर देख लें इतना बार राफेल आया है कि वो बच्चे जो दसवीं में फेल होते थे और पास होने के लिए 'एनओएस' तक का रुख करते थे उन्हें भी लगने लग गया है कि राफेल, फेल और पास के बीच कहीं मध्यस्थता है.

अच्छा हां, एक ऐसे समय में जब चुनाव-वुनाव हो गए हों और मोदी ने दोबारा शपथ लेकर देश के प्रधानमंत्री का कार्यभार लगभग ग्रहण कर लिया हो. सवाल होगा कि इस हैप्पी मोमेंट में कांग्रेस और भाजपा दोनों को ही सैड कर देने वाले राफेल की चर्चा क्यों? जवाब है दिल्ली की लुटियन ज़ोन और वहां पड़ने वाला कांग्रेस मुख्यालय. खबर है कि, दिल्ली में 24 अकबर रोड पर जहां कांग्रेस पार्टी का मुख्यालय है. वहीं सामने मौजूदा वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के आवास के बाहर राफेल की प्रतिकृति लगाई गई है.  जो कि इस समय दिल्ली वालों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी है.

पूरे मामले में सबसे मजेदार बात ये है कि जिस दिशा में विमान लगाया गया है उसी दिशा में ठीक सामने राहुल गांधी समेत अन्य महत्वपूर्ण नेताओं की तस्वीर लगी है.

ऐसा बिल्कुल नहीं है कि कांग्रेस या राहुल गांधी को चिढ़ाने की दृष्टि से वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने इस प्रतिकृति को लगवाया है. राफेल से पहले इस स्थान पर Sukhoi Su-30 लगाया गया था.

मामला जब गर्म हो तब सोशल मीडिया पर उबाल उठाना और प्रतिक्रिया आना स्वाभाविक है इस मामले में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है. एक बड़ी आबादी है जिसे हमेशा की तरह एक बार फिर टाइम पास का मौका मिल गया है और जो मौज लेने में बिल्कुल भी चूक नहीं कर रही है.

@Atheist_Krishna नाम के यूजर ने लिखा है कि इस राफेल जेट से आग निकालनी चाहिए ताकि पड़ोसी (कांग्रेस पार्टी) ऐसे ही चिढ़ती रहे.

@Sootradhar नाम के यूजर ने लिखा है कि राफेल विमान की सीट पर पायलट के रूप में anil अंबानी की रेप्लिका लगानी चाहिए.

(@VikashPreetam ने लिखा है कि इसके पास एक बोर्ड भी लग्न चाहिए जिसमें राफेल के उस दिन के दाम अंकित हों.

वहीं @souravshakti नाम के यूजर ने भी एक बड़ी ही दिलचस्प तस्वीर पोस्ट की है.

@roooossshhiiiii ने भी मामले को लेकर एक तस्वीर पोस्ट की है और जबरदस्त कटाक्ष किया है.

बहरहाल, बात आज सुबह की है पप्पू मुझे फिर दिखा. आज वो अपने घर के पास खेल रहा था. मैंने उसे देखा और वही बात फिर मुझे याद आ गई. मैंने उससे फिर सवाल किया अच्छा बताओ बेटा पप्पू 'र' से क्या होता है? उसने मेरी तरफ देखा नहीं मगर मेरा सवाल सुन लिया. जमीन की तरफ देखते हुए उसने जवाब दिया 'र' से राफेल "राफेल ललाकू (लड़ाकू) विमान. हां वही विमान जिसके बारे में उसे जिसके बारे में उसे 'लालुल गांही' (राहुल गांधी) ने 'तीवी' पर बताया था.

ये भी पढ़ें -

अरुण जेटली-सुषमा स्वराज, तुरुप के ये इक्के नरेंद्र मोदी 2.0 को बहुत याद आएंगे

PM Modi की शपथ से जुड़ा 30 मई का अपरा एकादशी मुहूर्त बेहद खास योग है

कन्हैया हारे, खुश होगी दिनकर की आत्मा

   

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय