होम -> ह्यूमर

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 09 जनवरी, 2021 01:18 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

जिस दिन काम न हो और बोरियत हो. या फिर वो दिन जब काम ज्यादा करते करते बोरियत का एहसास हो जाए तो यूनिवर्सिटी/ कॉलेज के दिन याद कर लो अपना दो ढाई घंटे का टाइम पास हो जाता है. सच में क्या क्या नमूने थे यूनिवर्सिटी में. मतलब अगर आज उन दोस्तों की खूबी बताने बैठ जाऊं तो किताब तैयार हो जाए, जो अगर अमेज़न फ्लिपकार्ट जैसे किसी प्लेटफॉर्म पर बिके तो मुझे मालामाल कर दे. यूनिवर्सिटी में अतरंगे दोस्त थे अपने, कुछ नेतानगरी वाले तो कुछ खाटी आशिकमिजाज. जो नेतागिरी में थे उनका अड्डा छात्रसंघ भवन था. इस छात्र नेता के समोसे, उस छात्र नेता की पकौड़ी और जो नए नए नेता बनते उनकी चाय और सिगरेट 'पॉलिटिकल लॉबी' की दिनचर्या यही रहती। वहीं जो आशिक़ मिजाज दोस्त थे, न तो उनसे यूनिवर्सिटी का साइकिल स्टैंड ही बच पाया। न ही कैंटीन. जहां तितलियां दिखतीं ये लोग भी भौरे की तरह मंडराते. विजिटिंग कार्ड बनवाने के न तो इनके पास पैसे थे और न ही ये लोग उस बात का लोड लेते थे. सफेद कागज या फिर वो रजिस्टर जो उन्होंने अपनी पिछली जेब में रखा होता वो 'तितलियों' को नम्बर बांटने के काम आता. जो बात है ये आशिक़ मिजाज लोग थे दिल के बड़े मजबूत. लड़की मान गयी तो ठीक वरना उसके Get Lost से कौन सा इनका कुछ बिगड़ना था. इन दोस्तों की ज़िंदगी का बस एक्कै मकसद था, ये गई है, वो आएगी.

Ranbir Kapoor, Natalie Portman, Hollywood Film, Conversation, Celebrity, Bollywoodरणबीर के नताली वाले किस्से ने कई पुरानी यादों को ताजा कर दिया

चाहे खुशबूदार तेल हो या फिर डियो, जेल, महंगे गैजेट से लेकर ठीक ठाक पैसे सब इनकी जेब में होते. कई बार इन लोगों से बात हुई तो ये लोग इन हथियारों को चारा बताते और कहते कि अगर सही वक्त पर इन चीजों का इस्तेमाल किया जाए तो मछली नहीं, मछलियां फसेंगी और भरपूर फसेंगी. जैसा कि हमने बता दिया जब बात 'इश्क़' या ये कहें कि गर्ल फ्रेंड बनाने की आती तो इनकी आंखों में पड़ा शर्म का बाल टूटकर गिर जाता.

जहां से 'Get Lost' होता ये उस 'टेंडर' को दूसरे आशिक को दे देते और वो जो अभी कुछ घंटे पहले तक इनकी सजनी थी वो कुछ ही घंटे में इनकी भाभीजी हो जाती. आशिक मिजाज चाहे स्कूल कॉलेज के हों या फिर यूनिवर्सिटी और वर्कप्लेस के इनके कॉन्सेप्ट क्लियर और एजेंडा एकदम सेट है. कांसेप्ट से लेकर एजेंडे तक ये लॉबी कहीं 19 नहीं होती ये 20 रहे हैं आगे 20 फिर 21 और 22 होते जाएंगे.

बात साफ है भले ही हम और आप इन 'आशिक मिजाजों को इनके महबूब के साथ देखकर या महबूबों की इतनी मात्रा देखकर खार खाएं और इनकी किस्मत पर रश्क करें लेकिन जो इनका तरीका होता है वो मन मोह लेने वाला होता है. कहीं स्वीकारे जाने और कहीं रिजेक्ट होने वाले इन लोगों को देखकर न चाहते हुए भी मशहूर शायर 'अकबर इलाहाबादी' का वो शेर दिमाग में गोते खाने लगता है जिसमें शायर ने कहा था

मेरा ईमान क्या पूछती हो मुन्नी,

शिया के साथ शिया सुन्नी के साथ सुन्नी.

मैंने ऊपर ही कहा था कि यदि मैं यूनिवर्सिटी और वहां के किस्सों का जिक्र करूं तो न जाने कब सुबह से शाम हो जाए और कोई हिट किताब बनकर तैयार हो जाए. यूनिवर्सिटी के पुराने दिन मुझे यूं ही नहीं याद आए. पुरानी यादों में जाने की माकूल वजह है मेरे पास.

दरअसल बात ये है कि कपिल शर्मा के एक शो में तमाम लड़कियों के दिल की धड़कन एक्टर रणबीर कपूर ने ये खुलासा किया था कि एक बार वो इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में शिरकत करने विदेश गए थे. उस दौरान उन्होंने हॉलीवुड एक्ट्रेस Natalie Portman को देखा. वह उनके पीछे दौड़े. रणबीर , नताली से बात करना चाहते थे.

कपिल के शो में रणबीर ने बताया था कि, मैं नताली पोर्टमैन के पीछे भागा था. वो फोन पर बात कर रही थी और रो रही थी. मैं तुरंत उनके पीछे गया और कहा ‘I love you…’ इससे पहले कि मैं कहता ‘I love your work’ वो पटलीं और कहा Get Lost. यह सुनकर मेरा दिल टूट गया. लेकिन अगर दोबारा कभी वो मेरे सामने आईं तो मैं अब भी उनका पीछा करूंगा.

अब ये किस्सा है और यूनिवर्सिटी की यादें हैं. सच में आशिक़ मिजाज कमाल के होते हैं. बात जब लड़की या थोड़ी सभ्य भाषा में कहें तो महबूब की होती है तो भले ही रोजाना की ज़िंदगी में ये मन से बहुत मुलायम हों, लेकिन चूंकि केस लड़की को अपने पर फिदा करने का होता है इनके इरादे लोहा होते हैं. अपनी मंजिल में भले ही इन्हें Get Lost मिल जाए मगर एक उम्मीद की किरण होती है जो उन्हें उस Get Lost में दिखाई देती है. ऐसे लोगों का यही कहना होता है नाउम्मीद नहीं होना चाहिए. इश्क़ करने और फैलाने की चीज है इसे फैलते रहना चाहिए.

ये भी पढ़ें -

'मोची' ब्रांड बन गया, ठाकुर लिखकर जूते बेचने वाला गिरफ्तार!

त्वाडा कुत्ता टॉमी, साडा कुत्ता कुत्ता: 2021 में कुत्तों को उचित सम्मान मिल ही गया!

दुनिया का सबसे बड़ा फ्रॉड है 31 दिसंबर को New Year Resolutions बनाना

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय