होम -> संस्कृति

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 16 सितम्बर, 2015 03:34 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

गणेश चतुर्थी के लिए मूर्तिकार कितना क्रियेटिवली सोचते हैं, ये गणेश उत्सव में हर वर्ष हमें देखने मिलता है. कला के साथ-साथ दिमाग का भी बखूबी इस्तेमाल करते हैं हमारे देश के मूर्तिकार. अब तक मूर्तियों की भव्यता को ही सबसे अच्छी मूर्ती माना जाता था, लेकिन अब ट्रेन्ड थोड़ा बदल गया है, जी हां, मूर्तियां भव्य न होकर रोचक बनाई जा रही हैं. और हर साल हमें ऐसी ही रोचक मूर्तियां देखने को मिलती हैं.

मूर्तिकार देश में चल रही हालिया घटनाओं, मुद्दों, और लोगों की पसंद को ध्यान में रखकर मूर्तियां बनाते हैं. तो लोगों में सेल्फी के क्रेज को देखते हुए, हमारे भगवान गणेश का परिवार भला कैसे पीछे रहता, देखिए जरा बाकायदा सेल्फी स्टिक का इस्तेमाल कर रहे हैं भगवान गणेश. तो कैसी लगी गणेश जी के परिवार की ये पिक्चर परफैक्ट?

ganesha-selfie-1_091615031759.jpg
                                                               पिक्चर परफैक्ट !

 

ganesha-selfie-2_091615031910.jpg
                                                                    भाव भी कमाल के

लोगों में इस बार बाहुबली का जादू भी सर चढ़कर बोल रहा था, फिल्म में बाहुबली को जिस तरह कंधे पर शिवलिंग उठाए दिखाया गया है, ठीक वैसे ही गणेश जी ने अपने कंधे पर उठा रखा है, गणेश जी की ये प्रतिमाएं लगभग हर जगह देखने को मिल रही हैं. यही नहीं, बाहुबली की ही तरह गणेश भगवान घोडे पर भी बैठे दिखाई दे रहे हैं.

ganesh-bahubali-1_091615031952.jpg
                                                                        हूबहू बाहुबली
ganesha-bahubali-3_091615032543.jpg
                                                               शिवलिंग उठाते गणेश

फिल्म शोले ने 40 साल पूरे किए हैं, इस बात को सैलीब्रेट करने के लिए एक कलाकार ने गणेश जी को गब्बर ही बना दिया. देखिए किस तरह उनके वाहन मूषक उनके साथियों का रोल निभा रहे हैं, और भगवान गणेश का अंदाज कुछ ऐसा है जैसे पूछ रहे हों..कितने आदमी थे?

ganesha-gabbar_091615032633.jpg
                                                                  गब्बर के किरदार में गणेश

ऐसा पहली बार नहीं हैं कि गणेश मूर्तियां क्रिएटिव सोच के साथ बनाई गई हों, हर साल हमारे आर्टिस्ट नई सोच के साथ कुछ न कुछ नया लेकर आते हैं और भक्तों का हुजूम अपने प्रिय भगवान को देखने उमड़ पड़ता है.

 

गणेश चतुर्थी, मूर्ती, कलाकार

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय