होम -> संस्कृति

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 जनवरी, 2016 06:28 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

इन तस्वीरों को देखकर यही लगेगा कि ये पुरुष हैं, लेकिन हकीकत ये है कि ये पुरुष नहीं बल्कि उनके लिबास में महिलाएं हैं. इन्होंने पुरुषों का सिर्फ वेश ही नहीं धरा है बल्कि उन्हीं की तरह जीवन भी जी रही हैं. ऐसे रहना इनका शौक नहीं है, बल्कि ये इसके लिए प्रतिबद्ध हैं. ये हैं 'बर्नेशा'.

1_010716061833.jpg
 
2_010716061847.jpg
 

अल्बानिया के पहाड़ों का कानून है कि वहां रहने वाले परिवारों की सत्ता पुरुषों के ही हाथों में होनी चाहिए. वहां महिलाओं को संपत्ति की तरह इस्तेमाल किया जाता है, वो पूरी तरह पुरुषों पर निर्भर हैं. उन्हें इतने भी अधिकार नहीं हैं कि उनकी अपनी जमीन हो या फिर वो अपना खुद का कोई काम कर सकें.

4_010716061908.jpg
 
6_010716061919.jpg
 

अगर कोई महिला इन अधिकारों को पाना चाहती है तो उसे एक अजीब सी परंपरा निभानी होती है. वो परंपरा है 'बर्नेशा' बनने की शपथ लेना.

7_010716061936.jpg
 
8_010716061947.jpg
 

ये शपथ है आजीवन पुरुष की तरह रहने की. 'बर्नेशा' बनने के बाद ये औरतें न सिर्फ पुरुषों की तरह रहती हैं, बल्कि उनकी तरह काम करने, उनकी तरह बोलने, चलने, खाने, उन्हीं की तरह घर की जिम्मेदारियां उठाने, उन्हीं की तरह आजादी पाने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र होती हैं.

9_010716062010.jpg
 
11_010716062026.jpg
 

ये आजादी और अधिकार आसानी से नहीं मिलते, इन्हें इसकी कीमत भी चुकानी पड़ती है. 'बर्नेशा' बनने की इस शपथ का खास पहलू ये है कि इसके बाद इन्हें आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है. इसलिए इन्हें 'स्वॉर्न वरजिन्स'(sworn virgins) भी कहा जाता है.

12_010716062042.jpg
 
13_010716062055.jpg
 

कोई भी महिला किसी भी उम्र में 'बर्नेशा' बन सकती है. और तभी से उसे पुरुषों वाले सारे अधिकार मिल जाते हैं. वो अपना नाम बदलकर कोई पुरुषों वाला नाम रखती हैं, वो पुरुषों की तरह धूम्रपान, शराब भी पी सकती हैं. और परिवार की मुखिया भी बन सकती हैं.

10_010716062115.jpg
 

बहुत सी महिलाएं ये जीवन इसलिए चुनती हैं क्योंकि उन्हें पुरुषप्रधान समाज से आजादी चाहिए, जिसमें महिलाओं के साथ भेदभाव होता है, किसी के साथ भी शादी करवा दी जाती है, यहां तक कि बेच भी दिया जाता है. ऐसे समाज में वो घुटन महसूस करती हैं. वहीं ऐसी भी 'बर्नेशा' महिलाओं की कमी नहीं है जिनके पति गुजर चुके हैं और संपत्ति बचाने और परिवार का भरणपोषण करने के लिए उन्हें ये रास्ता अपनाना पड़ा.

3_010716062133.jpg
 

ये परंपरा 15वीं सदी से चली आ रही है, लेकिन अब ये धीरे-धीरे खत्म हो रही है. ये इस बात का सुबूत है कि ये देश महिला अधिकारों की दिशा में काफी तरक्की कर चुका है. महिलाओं को उनके अधिकार मिल रहे हैं, इसलिए अब किसी को 'बर्नेशा' बनने की जरूरत नहीं.

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय