होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 25 जून, 2020 06:05 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

बॉलीवुड स्टार अब फिल्मों के साथ ही वेब सीरीज की तरफ भी शिफ्ट कर रहे हैं और अमेजन प्राइम वीडियो, नेटफ्लिक्स, जी4, सोनी लिव, ऑल्ट बालाजी समेत अन्य ओटीटी प्लैटफॉर्म्स पर फिल्मों या वेब सीरीज में दिख रहे हैं. सैफ अली खान, नवाजुद्दीन सिद्दिकी, अभिषेक बच्चन, आर. माधवन, जिमी शेरगिल, दिया मिर्जा, राधिका आप्टे जैसे बड़े नामों के बाद स्वरा भास्कर भी वेब सीरीज में किस्मत आजमा रही हैं. स्वरा भास्कर की वेब सीरीज रसभरी अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज हो गई है. अमेजन प्राइम ने बड़े चुपके से यह वेब सीरीज रिलीज की है. जिस तरह अप्रैल में पंचायत को भी अचानक से अमेजन प्राइम ने रिलीज किया था, उसी तरह रसभरी का ट्रेलर 24 जून को रिलीज किया गया और 25 जून को पूरी सीरीज रिलीज कर दी गई.

8 एपिसोड वाली वेब सीरीज रसभरी में स्वरा भास्कर ही एकमात्र जानी-पहचानी एक्ट्रेस हैं. उनके साथ सुनाक्षी ग्रोवर, नीलू कोहली, आयुष्मान सक्सेना, प्रद्यूमन सिंह और चितरंजन त्रिपाठी जैसे कलाकार भी हैं. पहली बार वेब सीरीज में दिख रहीं स्वरा भास्कर रसभरी और इंग्लिश टीचर शालू बंसल के किरदार में हैं. रसभरी को देखकर ऑल्ट बालाजी और एमएक्स प्लेयर पर रिलीज होने वाली सेमी एडल्ट वेब सरीज की याद आती है, जिसमें गालियों के साथ ही द्विअर्थी डायलॉग भी होते हैं. छोटे शहर में लड़की के पीछे भागते लड़के, खूबसूरत औरतों को अपने प्रेम जाल में फंसाने की कोशिश करते मर्द, मनोहर कहानियां, औरतों की दबी इच्छाएं जैसी भावनाओं और घटनाओं को कहानी की शक्ल देकर रसभरी तो बना दी गई, लेकिन न इसमें आकर्षण है, न ही नयापन है और न ही डायलॉग और एक्टिंग के मामले में कुछ अलग. रसभरी देखते वक्त बस ये एहसास होता है कि कहीं अमेजन प्राइम वीडियो भी अब सेमी एडल्ट वेब सीरीज पर फोकस तो नहीं कर रहा है. हालांकि, ऑल्ट बालाजी और एमएक्स प्लेयर जैसा खुलापन खासकर हिंदी वेब सीरीज में दिखाकर अमेजन प्राइम अपने कंटेंट लेवल को गिराने की कोशिश तो फिलहाल नहीं करेगा.

कैसी है रसभरी की कहानी

रसभरी की कहानी उत्तर प्रदेश के मेरठ पर केंद्रित है, जिसमें नंद नामक एक लड़का अपनी यौन इच्छाएं पूरी न होने की सूरत में नित नए हथकंडे अपनाता है. इंगलिश टीचर शानू बंसल के शहर में आने से सुस्त पड़े मर्दों और बुजुर्गों के सीने में हलचल मच जाती है. शानू बंसल नंद के स्कूल में ही इंगलिश टीचर बनकर आती है. नंद की इच्छाओं को शालू के रूप में एक जरिया मिलता है और वह उसे पाने की कोशिश करने लगता है. लेकिन उसे क्या पता है कि एक अनार ने सौ लोगों को बीमार कर रखा है. इस बीच नंद की स्कूलमेट प्रियंका से भी उसके रिश्तों में उतार-चढ़ाव होता रहता है. वहीं शहर में रसभरी के चर्चे हैं कि रसभरी सारे मर्दों को खुश करना जानती है.सबसे दिलचस्प तो तब होता है जब शानू से कोचिंग लेते वक्त नंद उसे किस कर बैठता है और बदले में मिलता है थप्पड़. आवेश में आकर नंद शानू बंसल के पति को जाकर सबकुछ बता देता है कि उसकी पत्नी के शहर भर के मर्दों से संबंध है. इसके बाद जो हकीकत सामने आती है, उससे नंद का मन बदल जाता है. इस बीच नंद की मां समेत अन्य महिलाएं शानू को सबक सिखाने की सोचती है, क्योंकि उन्हें शक है कि शानू ने उनके पति और बच्चों को बिगाड़ दिया है. अंत में नंद शानू को बचाने के लिए क्या-क्या करता है और क्लाइमेक्स में क्या होता है, यह देखने की बात है. लेकिन रसभरी का स्वाद मन पर चढ़ नहीं पाता. न ही रसभरी में वो अपील दिखती है, न ही खुलापन और न ही आकर्षण. आप महसूस करते हैं कि इससे अच्छा तो ऑल्ट बालाजी या एमएक्स प्लेयर पर कोई सीरीज देख लेता.

एक्टिंग और निर्देशन

अमेजन प्राइम पर रिलीज रसभरी में कुछ भी नया नहीं है. बीते 3-4 वर्षों के दौरान ऐसी ढेरों वेब सीरीज बन चुकी हैं. रसभरी के रूप में स्वरा भास्कर का काम बेहद सामान्य दिखता है. स्वरा भास्कर रिझाने में पूरी तरह से नाकाम रही हैं. दर्शकों को उनसे ज्यादा मजा तो नंद (आयुष्मान सक्सेना) को देखने में आता है. रसभरी देखते वक्त कभी-कभी दिमाग खराब हो जाता है कि शानू बंसल, जो स्ट्रिक्ट टीचर है, रसभरी के रूप में अचानक मर्दों और औरतों को रिझाने वाली सेक्स डॉल बन जाती है. वेब सीरीज में भुतहा एंगल भी है, जो कि काफी कनफ्यूजिंग है. रसभरी में नंद के रूप में आयुष्मान सक्सेना और प्रियंका के रूप में रश्मि आडगेकर का काम अच्छा है. बाकी सभी कलाकार बेहद सामान्य लगे हैं. डायरेक्शन के रूप में निखिल भट्ट ने कुछ भी नया नहीं किया है. बेहद सामान्य स्टोरी पर अति सामान्य डायरेक्शन से रसभरी सही मायनों में अमेजन प्राइम वीडियो जैसे प्लैटफॉर्म पर रिलीज होने लायक वेब सीरीज भी नहीं लगती.

देखें या न देखें

अगर आपको ऑल्ट बालाजी पर गंदी बातें और एमएक्स प्लेयर पर मस्तराम जैसी वेब सीरीज देखना अच्छा लगता है तो आप रसभरी देख सकते हैं. वहीं अगर आप अमेजन प्राइम पर रिलीज अन्य वेब सीरीज के लेवल से तुलना कर रसभरी में कुछ नया देखना चाहते हैं तो आपको निराशा हाथ लगेगी. स्वरा भास्कर अपनी फिल्म अनारकली के अवतार से काफी मिलती जुलती हैं, हालांकि दोनों की कहानी अलग है, लेकिन रसभरी में वह न तो उस तरह का आकर्षण छोड़ रही हैं और न ही जलवा. स्वरा भास्कर तो दुनिया काफी अच्छे-अच्छे किरदारों के लिए जानती है, ऐसे में रसभरी में उन्हें देख दर्शकों को निराशा हाथ लगेगी.

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय