होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 21 जुलाई, 2021 03:22 PM
मुकेश कुमार गजेंद्र
मुकेश कुमार गजेंद्र
  @mukesh.k.gajendra
  • Total Shares

डायमंड, रियल एस्टेट, माइनिंग, एंटरटेनमेंट, स्पोर्ट्स, स्टॉक मार्केट, गेमिंग और हॉस्पिटैलिटी जैसे कई बड़े बिजनेस करने वाले अरबों की संपत्ति के मालिक राज कुंद्रा का नाम पोर्नोग्राफी केस में आना, हर किसी को हैरान कर रहा है. फिल्म इंडस्ट्री से ताल्लुक रखने वाली मशहूर एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति का पोर्न इंडस्ट्री के लिए काम करना, लोगों को अचंभित करता है. ऑन कैमरा सेक्स के लिए पेमेंट करना लीगल क्यों है? ऐसे सवाल करने वाले एक बिजनेसमैन के पास ऐसी क्या मजबूरी थी कि उसने गंदे धंधे में उतरकर पैसा कमाना शुरू कर दिया? यहां सवाल पर कई सवाल खड़े हो सकते हैं, लेकिन इसके जवाब का 'राज' सिर्फ कुंद्रा ही जानते हैं.

पोर्नोग्राफी केस में गिरफ्तारी के बाद राज कुंद्रा का एक ट्वीट बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें वो पोर्न बनाम प्रॉस्टिट्यूशन की बात करते नजर आते हैं. मार्च 2012 के इस ट्वीट में राज कुंद्रा लिखते हैं, 'तो चलिए पोर्न बनाम प्रॉस्टिट्यूशन के बारे में बात करते हैं. ऑन कैमरा सेक्स के लिए पेमेंट करना लीगल क्यों है? कैसे ये एक दूसरे से अलग हैं?' इसी तरह का एक ट्वीट उन्होंने मई 2012 में किया था. इसमें वो लिखते हैं, 'भारत: एक्टर्स क्रिकेट खेल रहे हैं, क्रिकेटर्स पॉलिटिक्स खेल रहे हैं, पॉलिटीशियन पोर्न देख रहे हैं और पोर्न स्टार्स एक्टर बनते जा रहे हैं.' राज की ये बातें लोगों को आज समझ में आ रही हैं.

'एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं कुछ लोग, खुद को खुद में ही छुपा लेते हैं कुछ लोग; कोई और पाता है जिनके जुल्मों की सजा, कुछ इस तरह ज़िन्दगी का मज़ा लेते हैं कुछ लोग'...मुखौटेदार चेहरे वाले कुशल अदाकार भी होते हैं. उनके हर चेहरे का रंग और ढ़ंग अलग-अलग होता है. कोई सपने में भी नहीं सोच सकता कि एक बड़ा बिजनेसमैन, उपर से एक बड़ी अभिनेत्री का पति, जो खुद पोर्न और प्रॉस्टिट्यूशन की बात करते हुए कानून पर सवाल खड़े करता हो, वो खुद उस गंदे धंधे का सरगना निकल जाएगा. यहां एक और सवाल खड़ा होता है कि क्या राज कुंद्रा या उनके जैसे मुखौटेदार लोग 'पोर्न बनाम प्रॉस्टिट्यूशन' जैसे विषय पर कभी बहस कर पाएंगे?

untitled-1-650_072021093818.jpgमशहूर बिजनेसमैन और एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा पोर्नोग्राफी केस में गिरफ्तार.

अपनी सफाई में क्या कुछ कहेंगे राज?

'पोर्न स्टार्स एक्टर बनते जा रहे हैं'...राज कुंद्रा के ट्वीट के इन चंद शब्दों का साफ इशारा सनी लियोनी जैसी एक्ट्रेस की ओर है. उनकी माने तो वो इस बात पर भी अचंभा प्रकट कर रहे हैं कि सनी लियोनी जैसी पोर्न स्टार बॉलीवुड में एक्ट्रेस कैसे बन सकती है. लेकिन क्या अब अपनी सफाई में कुछ कहेंगे राज? जो पोर्न स्टार तो छोड़िए खुद पोर्न फिल्में बनाने और उन्हें सोशल मीडिया पर अपलोड करने के आरोप अपने सिर लिए सलाखों के पीछे हैं. वैसे पोर्नोग्राफी के इस रैकेट का भांडा नहीं फूटता यदि मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मड आइलैंड के बंगलों पर छापेमारी करके कुछ लोगों को गिरफ्तार नहीं करती. यहीं से निकले तार राज कुंद्रा से जाकर जुड़ गए.

ऐसे सामने आया राज कुंद्रा का नाम

हुआ ये कि मुंबई पुलिस को काफी समय से सूचना मिल रही थी कि कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार कुछ एक्ट्रेस की मजबूरी का फायदा उठाकर कुछ फिल्म मेकर्स अश्लील फिल्में बना रहे हैं. इस सिलसिले में इसी साल फरवरी में मुंबई के मड आइलैंड में स्थित एक बंगले में पुलिस ने छापा मारा, तो दंग रह गई. वहां फिल्म शूटिंग के नाम पर अश्लील वीडियो बनाए जा रहे थे. पुलिस ने वहां से गंदी बात फेम एक्ट्रेस गहना वशिष्ठ सहित कई लोगों को गिरफ्तार करते हुए एक नाबालिग लड़की को वहां से रिहा कराया. गहना वशिष्ठ से पूछताछ के दौरान उमेश कामत का नाम सामने आया, जो कुंद्रा की कंपनी के लिए काम करता है.

पोर्न रैकेट के मास्टरमाइंड राज कुंद्रा?

उमेश कामत इंग्लैंड स्थित एक कंपनी के लिए कॉर्डिनेटर के रूप में काम करता था. वह गहना वशिष्ठ से अश्लील वीडियो लेता था और उन वीडियो को इंग्लैंड स्थित कंपनी में भेजता था. जिसे 'हॉटशॉट्स' नाम के ऐप पर अपलोड किया जाता था. 'हॉटशॉट्स' राज कुंद्रा की कंपनी का ऐप है, जिसमें उन्होंने 10 करोड़ रुपए निवेश किया है. इसके बाद पुलिस के सामने उमेश ने राज के नाम का खुलासा किया. पुलिस ने 5 महीने की लंबे छानबीन और पड़ताल के बाद राज के खिलाफ जब पुख्ता सबूत एकत्र कर लिया, तब जाकर उनको पूछताछ के लिए बुलाया. इसके बाद उनको गिरफ्तार कर लिया गया. मुंबई पुलिस का कहना है कि राज इस रैकेट के मास्टरमाइंड हैं.

पोर्नोग्राफी पर क्या कहता है कानून

पोर्नोग्राफी पूरी दुनिया में एक बड़े बिजनेस के रूप में स्थापित है. इसके दायरे में ऐसे फोटो, वीडियो, टेक्स्ट, ऑडियो आते हैं, जो सेक्सुअल एक्टिविटी और न्यूडिटी पर आधारित होते हैं. ऐसे कंटेंट को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से पब्लिश करने, किसी को भेजने या किसी अन्य के जरिए पब्लिश करवाने पर एंटी पोर्नोग्राफी लॉ लागू होता है. दुनिया की सबसे बड़ी पोर्न वेबसाइट मानी जाने वाली 'पोर्नहब' के मुताबिक, भारत उसका सबसे तेज़ी से बढ़ता बाज़ार है. वैसे देश में बढ़ती यौन हिंसा के पीछे कई विशेषज्ञ पोर्न को भी कहीं न कहीं ज़िम्मेदार मानते हैं. फ्री इंटरनेट के दौर में जो पोर्न मूवीज ऑनलाइन मिलती हैं, वो हिंसक एक्साइटमेंट पैदा करती है.

पोर्न का आपत्तिजनक डिस्क्रिप्शन

ऐसी पोर्न मूवीज के नीचे लिखे डिस्क्रिप्शन बहुत आपत्तिजनक होते हैं- जैसे सौतेले भाई-बहन का सेक्शुअल एक्ट, स्टेप मदर-सन, आउटडोर, टीनेज का सेक्शुअल एक्ट. यहां तक कि ट्यूटर और स्कूल क्लास रूम एक्ट की भी पोर्न फिल्में दिखाई जाती हैं. ऐसी फिल्में देखने से बच्चों के सेक्शुअल थॉट्स में विकार पैदा होता है. वहीं एक वयस्क जब यह देखता है तो उसको वैसा ही एक्ट करने का विचार आने लगता है. एक स्टडी के अनुसार 10 में से 8 युवा 18 वर्ष की उम्र से पहले पोर्न फिल्में देख लेते हैं. करीब 80 फीसदी युवा अपनी ऑनलाइन गतिविधियों को साझा नहीं करते. 15 साल की उम्र में पोर्न लत से ग्रसित होने की सर्वाधिक संभावना रहती है.

लेखक

मुकेश कुमार गजेंद्र मुकेश कुमार गजेंद्र @mukesh.k.gajendra

लेखक इंडिया टुडे ग्रुप में डिजिटल जर्नलिस्ट हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय